एटीएस व पुलिस के संयुक्त ऑपरेशन मे अवैध असलहा बनाने की फैक्ट्री का खुलासा, 6 गिरफ्तार


एटीएस व पुलिस के संयुक्त ऑपरेशन मे अवैध असलहा बनाने की फैक्ट्री का खुलासा, 6 गिरफ्तार


उत्तर प्रदेश के बड़के जिले प्रतापगढ़ में बड़े बड़े कारनामें होते है।जिला ऐसे ही नही अपराधगढ़ बन गया था।जिले में ठाय ठाय ऐसे नही होती थी क्यो कि यहां अवैध असलहा बनाने की फैक्ट्री जो थी। यूपी एटीएस और पुलिस के संयुक्त ऑपरेशन में अवैध असलहा और कारतूस बनाने की बड़ी फैक्ट्री का खुलासा किया है और सरगना समेत छह आरोपियों को धर दबोचा है।एटीएस की पूछताछ में पकड़े गए आरोपियों ने बताया कि बिहार के मुंगेर से कारीगरों को बुलवाकर अवैध असलहे बनवाये जाते थे और यूपी समेत 7 राज्यों में बेचे जाते थे। एटीएस चीफ जीके गोस्वामी ने मीडिया को बताया कि इनके पास से 300 कारतूस,दो पिस्टल, तमंचा पूनिया, 22 अधबनी पिस्टल बरामद हुई हैं।एटीएस पूछताछ कर रही है।एटीएस के अलावा प्रभारी पुलिस अधीक्षक धवल जायसवाल और उनकी टीम भी मौजूद रही। एटीएस पकड़े गए आरोपियों से पूछताछ करेगी।यूपी में कहां कहां से लाए और कहां कहां कारतूस की बेचते थे। यूपी में इनके कौन-कौन साथी और मदद करने वाले हैं जो अवैध हथियार बनाने के इस कारोबार में शामिल हैं। अवैध असलहा बनाने का कारोबार और इनको कौन यहां लाया।अवैध असलहे का फलता फूलता व्यापार का तार किस किस प्रदेश में किन किन लोगों से जुड़े हैं और अभी तक किस किस इलाके में असलहे व कारतूस को बेचा गया हैं।कारतूसो का इंतजाम कहां से करते थे। कौन इनकी मदद करता था किसी सरकारी एजेंसी से तो नहीं जुड़े थे।प्राप्त जानकारी के मुताबिक ये यूपी समेत 3 राज्यों में भेजते थे।कौन कौन से राज्यों में इन लोगों का अवैध असलहे का कारोबार फैला था। शायर आलम उर्फ छोटू, मोहम्मद सरफराज आलम बिहार के मुंगेर के रहने वाले है, मोहम्मद आजाद गोरखपुर का रहने वाला है और तिरुपति नाथ वर्मा उर्फ गुड्डू गांधी,स्वालीन अंसारी उर्फ बबलू, प्रतापगढ़ के लालगंज थाना क्षेत्र के अखिलेश अंसारी को गिरफ्तार किया गया है। इनके पास से तमंचे पिस्टल उपकरण बड़ी बड़ी खराद मशीन, तमंचे, लाइट मशीन और लोहा गलाने की भटियां बरामद हुई है।

ट्रेंडिंग