साइबर ठगों ने डाॅक्टर के खाते से उड़ाए 2.42 लाख रूपये

साइबर ठगों ने डॉक्टर के खाते से उड़ाए 2.42 लाख रुपये


हरियाणा के यमुनानगर जिले में साइबर ठगों ने बड़ी ही होशियारी के साथ एक डॉक्टर को अपना शिकार बना लिया। डॉक्टर के खाते से ठगों ने 2 लाख 42 हाजार रुपये निकाल लिए हैं। इंदिरा अस्पताल के डॉ रविंद्र इंदिरा ने इस मामले में पुलिस में तहरीर दी है। डॉक्टर का आरोप है कि आईसीआईसीआई बैंक के मैनेजर पर ठगी करने वालों के साथ मिले हो सकते है। पुलिस ने मिली तहरीर के आधार पर बैंक मैनेजर व अन्य के खिलाफ धोखाधड़ी के आरोप में केस दर्ज कर लिया है। पीड़ित डॉक्टर ने थाना शहर पुलिस को दी तहरीर में बताया कि उनका गोबिंदपुरा रोड स्थित आईसीआईसीआई बैंक में खाता है। वह बैंक की मोबाइल एप से अपने दूसरे खाते में 13 हजार रुपये ट्रांसफर कर रहे थे। उसके खाते से रुपये तो कट गए लेकिन दूसरे खाते में जमा नहीं हुए। इस पर उन्होंने ऑनलाइन शिकायत की। इसके बाद उनके मोबाइल पर सुबह कस्टमर केयर से फोन आया। वह उनसे काफी देर तक बात करता रहा। डॉक्टर ने बताया कि उन्हें अस्पताल जाने में देर हो रही थी, इसलिए वह फोन काटने लगे। इस पर कस्टमर केयर पर बात कर रहे कर्मचारी ने कहा कि वह अपना काम कर सकते हैं, लेकिन मोबाइल को कुछ देर के लिए ऐसे ही छोड़ दें। वह उसकी बातों में आ गया। कुछ देर के बाद ही उसके खाते से पहले दो लाख रुपये और बाद में 42 हजार रुपये कट गए। इस पर वह बैंक में गये तो जांच करने पर पता चला कि उक्त रुपये झारखंड के इंडसइंड बैंक के खाते में जमा हुए हैं। काफी प्रयास करने के बाद रुपये उसके खाते में आ गए। बैंक के मैनेजर ने उससे कहा कि वह अभी चार से छह सप्ताह तक रुपये खाते से न निकाले क्योंकि अभी जांच चल रही है। लेकिन छह सप्ताह होने पर किसी का कोई कॉल बैंक से नहीं आया। वह बैंक में कई चक्कर लगा चुके थे। एक दिन उसने बैंक मैनेजर को कहा कि वह उनकी शिकायत करेगा तो मैनेजर ने कहा कि जो चाहे कर लो, अब वह अपने अकाउंट से पेमेंट नहीं निकलवा पाएगा। इसके बाद 11 फरवरी को उसके खाते में जो 2.42 लाख रुपए आए थे वे कट गए। डॉक्टर ने शिकायत में बताया कि उन्होंने अकाउंट की जांच की तो उनके अकाउंट से पैसा पश्चिम बंगाल निवासी आनुरुल मंडल के खाते में गया। तहरीर पर हुडा थाना पुलिस ने आईसीआईसी बैंक मैनेजर पर केस दर्ज किया है। फिलहाल पुलिस मामले की जांच कर रही है।

ट्रेंडिंग