Breaking News
पाकिस्‍तान के दो सैनिकों को भारतीय जवानों ने जवाबी कार्रवाई में मार गिराया सफेद झंडा दिखाकर ले गए शव  |  टोरंटो स्थित रॉय थॉमसन हॉल में आयोजित टोरंटो इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल 2019 के दौरान अपनी फिल्म द स्काई इज पिंक के प्रीमियर में फरहान अख्तर, सोनाली बोस एवं प्रियंका चोपड़ा जोनस शिरकत करते हुए।  |  बागी 3 में वापस आई श्रद्धा कपूर  |  गुरुग्राम विवि का मलेशिया की एआईएमएसटी के साथ एमओयू  |  ब्राह्मण समाज के बाद पंजाबी समाज ने विधायक अग्रवाल को दिया आशीर्वाद  |  सीग्राम के रॉयल स्टैग ने बुमराह को बनाया ब्रांड एंबेसेडर  |  सलवान पब्लिक स्कूल ने उत्साह के साथ मनाया हिंदी दिवस  |  समाजसेवी नवीन गोयल हर एक रेहड़ी वाले को देंगे डस्टबिन मिलेनियम सिटी की सडक़ों पर नजर नहीं आएंगे फलों के छिलके और गंदगी  |  

संपादक

गले पड़ा नया ट्रैफिक कानून
नितिन गडकरी की गिनती उन मंत्रियों में होती है जो हमेशा कुछ नया फॉर्मूला सामने लाते हैं। गडकरी सडक़ बनाने में नई तकनीक लाते हैं, लाइसेंस बनाने के लिए नए फॉर्मूले लाते हैं और अब ट्रैफिक नियमों का पालन करने के लिए गडकरी नया कानून लाए तो अकेले पड़ते नजर आ रहे हैं। सरकार के लिए उसका ही एक कानून मुसीबत बन गया है।
 
चांद से हर हाल में होगा मिलन...
चंदा मामा से हमारा नाता तो बचपन से है। चंदा मामा दूर होते हुए भी हमारे दिल में रहे हैं। दिल में जो बसा हुआ है उसको हासिल करने की हसरत नई नहीं है। लेकिन हमें उस हसरत को पूरा करने के लिए कुछ त्याग और समर्पण तो दिखाना ही पड़ता है।
 
हरियाणा में लड़ाई एकतरफा है?
हरियाणा में चुनावी बिगुल तिथियों के आधिकारिक ऐलान के पहले ही बज चुका है। खासतौर पर भारतीय जनता पार्टी के शीर्ष नेताओं ने जिस अंदाज में अभी से अपनी ताकत सूबे में झोंक दी है उससे साफ लगता है कि वे केवल जीत के प्रति आश्वस्त नहीं रहना चाहते बल्कि उनका लक्ष्य केंद्र की तर्ज पर बहुमत का पुराना रिकॉर्ड तोडऩा है।
 
राजीव गांधी : विश्व राजनीति पर गहरी छाप
इसे विधि की विडम्बना ही कहा जा सकता है कि राजीव गांधी जिस तेजी से भारत की राजनीति के क्षितिज पर उदित हुए थे लगभग उसी तीव्रता से विलुप्त भी हो गए। भरपूर यौवन में विधि के व्रूर हाथों ने उन्हें हम से छिन लिया। अपने नाना पंडित जवाहर लाल नेहरू और माता इन्दिरा गांधी की विरासत के सहारे उनकी राजनीति पर एक मजबूत पकड़ बन रही थी।
 
हांगकांग में गहराता संकट
हांगकांग में चीन ने आरंभ में झुकने का संकेत दिया। उसने उस विधेयक को वापस ले लिया, जिसके कानून बनने के बाद हांगकांग के अभियुक्तों को मुकदमा चलाने के लिए चीन ले जाया जा सकता था। मगर उसके बाद भी हांगकांग में विरोध नहीं थमा। बल्कि प्रदर्शनकारी निरंतर सडक़ों पर उतर कर अधिक उग्र होत े गए ह।ंै
 
कश्मीर : खस्ता-हाल पाकिस्तान
भारत के विदेश विदेश मंत्री एस जयशंकर बिल्कुल ठीक मौके पर चीन पहुंचे। उनके पहले पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी चीन जाकर खाली हाथ लौट चुके थे लेकिन चीन कश्मीर मुद्दे पर पाकिस्तानी दबाव में आकर कोई अप्रिय रवैया अख्तियार न कर ल,े इस दृष्टि स े जयशकं र की यह यात्रा सफल रही। यो ं 196३ म ें पाकिस्तान ने चीन को अपने कब्जाए हुए कश्मीर में से 5 हजार वर्ग किमी जमीन भेंट कर दी थी।
 
हंगामा क्यों है बरपा?
कश्मीर में अफरा-तफरी का माहौल है। आशंका और भय के वातावरण में घाटी के कई हिस्सों में लोग एटीएम पर और राशन की दुकानों पर भीड़ लगाने को मजबरू हएु ह।ंै अमरनाथ यात्रा पिछल े तीस सालो ं म ें पहली बार रोकी गर्इ ह।ै कश्मीर स े लेकर दिल्ली तक सवाल हो रहा है कि आखिर ऐसा क्या होने वाला है।
 
यौन उत्पीडऩ की भयावहता
पॉक्सो कानून (प्रोटेक्शन ऑफ चिल्ड्रेन फ्राम सेक्सुअल ऑफेंस ऐक्ट) में अमल को चुस्त बनाने के लिए गत हफ्ते सुप्रीम कोर्ट ने दखल दिया। उसने उन राज्यों में विशेष अदालत बनाने को कहा, जहां बच्चों के यौन शोषण के ज्यादा मामले हाल में सामने आए हैं। इस कानून में संशोधन कर इसमें नए सख्त प्रावधान जोड़े जा चुके हैं। मगर सवाल है कि उससे कितनी सूरत बदली है? अब तक कानून को लेकर सरकार और पुलिस का रुख उदासीन ही रहा है। मूल कानून को लागू हुए सात साल बीत जाने के बाद भी अभी देश में डाटा प्रबंधन प्रणाली या एमआईएस (प्रबंधन सूचना प्रणाली) दुरुस्त करना बाकी है। श्रेणी के अनुसार डेटा को अगल-अलग किया जाना है।
 
संसद का गौरव बना रहे
कभी उत्तरप्रदेश में आजम खान संसदीय कार्यमंत्री भी बनाए गए थे। लेकिन उनका संसदीय ज्ञान कैसा रहा होगा। यह आज बहुत स्पष्टता से सबके सामने है। लगातार जीतकर विधानसभा में पहुंचने वाला व्यक्ति, जो मंत्री भी रहा हो और आज सांसद भी है उसकी ओर से एक महिला सांसद के प्रति बेहूदी टिह्रश्वपणी शर्मसार करती है।
 
संकल्प लें : पानी बचाएंगे, बिन पानी सब सून...
हमारा देश अपने इतिहास के सबसे गंभीर जल संकट का सामना कर रहा है। आर्थिक वृद्धि की रफतार पर कितनी भी बहस कर लें। तमाम इंडेक्स में ऊपर नीचे होने की कहानी पर इतरायें या आलोचना करें, सचाई यह है देश में करीब 60 करोड़ लोग पानी की गंभीर किल्लत का सामना कर रहे हैं। 60 करोड़ लोग यानी लगभग आधी आबादी।
 
फलदार वृक्ष विनम्र क्यों नहीं?
कहीं नेता पुत्र ने बल्ला भांज दिया। कहीं किसी से कहासुनी हुई तो हाथ पैर तोडऩे से खुद को न रोक पाए। किसी उभरते नौजवान नेता की बात बुरी लग गई तो उसका जीने का हक छीन लिया। ये कुछ घटनाएं हैं जिनका पूरा विवरण देने की जरूरत नहीं। किसी दल विशेष से भी जोडऩे की आवश्यकता मैं नही समझता।
 
एक छत के नीचे गांव विकास की योजनाएं
दूसरी बार सत्ता में आयी देश की नरेन्द्र मोदी सरकार सरकारी विभागों के कामकाज में बदलाव के लिये बड़े कदम उठाने जा रही है। इसी क्रम में देश में गांवों के विकास की योजनाओं को बनाने और इन्हें लागू करने के लिए केन्द्र की मोदी सरकार ने ग्रामीण विकास मंत्रालय और इससे जुड़े सभी विभागों एवं संगठनों का संचालन एक ही जगह से करने का फैसला किया है।
 
विपक्ष का सोया रहना लोकतंत्र के लिए शुभ नहीं
हरियाणा विधानसभा चुनाव के लिए भाजपा ने तैयारी शुरू कर दी है। इसी साल अक्टूबर में चुनाव प्रस्तावित हैं। केंद्र में सरकार बनने के तुरंत बाद ही भाजपा के शीर्ष नेतृत्व ने चुनावी राज्यों में अपनी निगाहें जमा दीं। हरियाणा के अलावा महाराष्ट्र, झारखंड आदि राज्यों के लिए भी नेतृत्व ने अपनी कमर कस ली है। इन सभी राज्यों में इसी साल चुनाव होना है।
 
तन और मन को निखारता है योग
भारत की समस्त सृष्टि और संस्कार में योग समाहित है। योग विकारों से मुक्ति का मार्ग है। योग हमारा आध्यात्मिक और वैज्ञानिक ज्ञान है। योग की सार्थकता को दुनिया के कई धर्मों ने स्वीकार किया है। योग सिर्फ व्यायाम का नाम नहीं है बल्कि मन, मस्तिष्क, शारीरिक और विकारों को नियंत्रित करने का माध्यम भी है।
 
विश्वकप : परंपरा कायम
सलामी बल्लेबाज रोहित शर्मा के एक और लाजवाब शतक से बड़ा स्कोर बनाने वाले भारत ने रविवार को यहां पाकिस्तान को डकवर्थ लुईस पद्वति से 89 रन से करारी शिकस्त देकर विश्व कप में अपने इस चिर प्रतिद्वंद्वी के खिलाफ विजय अभियान 7-0 पर पहुंचाकर परंपरा कायम रखा। भारत ने विश्व कप में अब तक हमेशा पाकिस्तान को शिकस्त दी है और विराट कोहली की टीम ने भी यह क्रम जारी रखा।
 
जीत से आगे की इबारत लिखने की तैयारी
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुवाई में केंद्र सरकार अपने एजेंडे पर काम करने में जुट गई है। प्रचंड बहुमत वाली सरकार के चंद दिनों के कामकाज पर नजर डालिए तो प्रधानमंत्री का स्पष्ट विजन आपके सामने आ जायेगा। भारी बहुमत से मदहोश होने के बजाय मोदी सरकार पहले दिन से अपना मौजूदा आधार मजबूत करने और अपना दायरा बढ़ाने की मुहिम में जुट गई है।
 
‘तंबाकू मुक्त’ भारत तथा विश्व का निर्माण योग
विश्व तंबाकू दिवस को पहली बार 7 अप्रैल 1988 को विश्व शान्ति की सबसे बड़ी वैश्विक संस्था संयुक्त राष्ट्र संघ की इकाई विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्लू.एच.ओ.) की वर्षगांठ पर मनाया गया। इसके बाद हर वर्ष 31 मई को विश्व तंबाकू निषेध दिवस के रूप में मनाने की घोषणा की गयी। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने वर्ष 2008 में सभी तंबाकू विज्ञापनों, प्रमोशन आदि पर बैन लगाने का आह्वान किया।
 
शपथ में इमरान को बुलाएं या नहीं ?
पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को उनकी विजय पर बधाई देते हुए दोनों देशों के बीच बातचीत शुरू करने की पेशकश की है। भारत की तरफ से कहा गया कि बातचीत और आतंक साथ-साथ नहीं चल सकते। इसका मतलब क्या हुआ ?
 
सच....मोदी के रहते ही यह मुमकिन है
चुनाव में भाजपा की ओर से कई नारे गढ़े गए। एक नारा था, मोदी हैं तो मुमकिन हैं। विपक्ष ने कई नकारात्मक तथ्यों के साथ इस नारे की खिल्ली उड़ाई लेकिन चुनाव में चले मोदी मैजिक के बाद शायद विपक्ष के नेता भी कह रहे होंगे सचमुच यह मोदी के होते ही मुमकिन है।
 
अब कमान राष्ट्रपति के हाथों
यदि इस 2019 के चुनाव में भाजपा को स्पष्ट बहुमत मिल जाए और एक स्थिर सरकार बन जाए तो भारतीय लोकतंत्र के लिए इससे बढिय़ा बात तो कोई हो ही नहीं सकती। वह सरकार पिछले पांच साल की सरकार से बेहतर होगी, ऐसी आशा हम सभी कर सकते हैं। एक तो वह अपनी भयंकर भूलों से सबक लेगी।
 
previous123456789...3233next