संपादक

एकता के सूत्रधार थे सरदार पटेल
भारत के राजनीतिक इतिहास में सरदार पटेल के योगदान को कभी भुलाया नहीं जा सकता। देश की आजादी के संघर्ष में उन्होने जितना योगदान दिया उससे ज्यादा योगदान उन्होने स्वतंत्र भारत को एक करने में दिया। वे नवीन भारत के निर्माता व राष्ट्रीय एकता के बेजोड़ शिल्पी थे। देश के विकास में सरदार वल्लभभाई पटेल के महत्व को सैदव याद रखा जायेगा। भारतीय राष्ट्रीय आन्दोलन को वैचारिक एवं क्रियात्मक रूप में एक नई दिशा देने के कारण सरदार पटेल ने राजनीतिक इतिहास में एक गौरवपूर्ण स्थान प्राप्त किया।
 
कब मुक्त होगी पुलिस
पुलिस महानिदेशकों की नियुक्ति प्रक्रिया में बदलाव से संबंधित पांच राज्यों द्वारा दायर याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने काफी पहले ही यह स्पष्ट कर दिया था कि पुलिस-प्रशासन का राजनीतिक हस्तक्षेप से मुक्त होना जरूरी है। मगर ऐसा आज तक नहीं हो पाया है।
 
कलम के धनी-गणेश शंकर ‘विद्यार्थी’
लोकतंत्र के चैथे स्तम्भ पत्रकारिता जगत के बन्धुओं को वैश्विक लोकतांत्रिक व्यवस्था (विश्व संसद) के गठन का संकल्प आज के महान दिवस पर लेना चाहिए! - विश्वात्मा भरत गांधी ब्रिटिश शासन के विरूद्ध पीडि़तों और गरीब किसानों की आवाज को बुलंद करने वाले अब गणेश शंकर विद्यार्थी जैसे साहसी पत्रकार गिनती के दिखते हैं जो सत्य की अखण्ड ज्योति को जलाने के लिए सदा जीते हो तथा उसी के लिए शहीद हो जाते हैं।
 
पाकिस्तान का परमाणु युद्ध की गीदड़ भभकी
कश्मीर में धारा 370 हटाये जाने के बाद से पाकिस्तान बौखलाया हुआ है। पाकिस्तान ने कश्मीर मुद्दे को अंतरराष्ट्रीय मंच पर उठाने और तीसरे पक्ष की मध्यस्थता की हरसंभव कोशिशें की। हालांकि पाकिस्तान को एक-दो छोटे देशों को छोडक़र किसी शक्तिशाली देश का साथ और समर्थन इस मुद्दे पर नहीं मिला। यहां तक कि अमेरिका और चीन जैसे देशों ने भी भारत का रूख देखते हुए इस मामले में अलग-थलग रहने में ही भलाई समझी। कश्मीर को लेकर पाकिस्तान पर बेचैनी इस कदर हावी हो चुकी है पाक के मंत्री और सेना के अधिकारी गाहे-बगाहे परमाणु युद्ध होने की धमकी तक देने लगे हैं।
 
नतीजे बताएंगे देश का मूड
आम चुनाव के बाद देश के पहले बड़े चुनाव कहे जा रहे महाराष्ट्र और हरियाणा में मतदान हो गया। लोकसभा चुनाव में बंपर जीत हासिल करने वाली बीजेपी और उसकी सहयोगी शिवेसना को महाराष्ट्र में एक बार फिर से सत्ता में वापसी की उम्मीद है। इसके साथ ही भाजपा हरियाणा में भी मनोहर लाल खट्टर के नेतृत्व में एक बार फिर से वापसी के लिए मैदान में उतरी है। विपक्ष भले चुनाव प्रचार के दौरान उत्साहहीन नजर आया, लेकिन उसे ऐंटी-इन्कम्बैंसी फैक्टर से उम्मीद है। महाराष्ट्र में भाजपा और शिवसेना ने तमाम मतभेदों को दूर करते हुए अंत में गठबंधन बनाकर उतरने का फैसला लिया था।
 
संतान की दीर्घायु का पर्व है अहोई अष्टमी
भारतीय सनातन धर्म की परंपरा में कुटुंब के विकास की सहज भावना संस्कृ ति के रूप में समाहित है। जिस तरह करवा चौथ सुहाग की रक्षा के लिए किया जाता है उसी तरह अहोई अष्‍टमी का व्रत संतान की सुख-समृद्धि एवं लंबी आयु के लिए रखा जाता हैं। किवदंती है कि जो भी महिला पूरे मन से इस व्रत को रखती है उसके बच्‍चे दीर्घायु होते हैं। अहोई अष्‍टमी के दिन माता पार्वती की पूजा का विधान है।
 
किंग बनाम किंगमेकर की लड़ाई
हरियाणा में मतदान के लिए उल्टी गिनती शुरू हो गई है। शुरुआती एकतरफा नजर आ रही लड़ाई के बीच प्रचार में स्थानीय उम्मीदवारों की ताकत और समीकरण ने नए रंग उकेर दिए हैं। मतदाताओं के मन में क्या कैद है इससे इतर मैदानी फिजा बताती है कि मुकाबला दिलचस्प हो रहा है।
 
अभिजीत का नोबेल पुरस्कार है बेहद खास
दुनिया भर में इस बात को लेकर अक्सर शक रहता है कि सरकार की गरीबों के लिए लोकलुभावन योजनाएं जमीनी हकीकत में कितनी सफल होंगी। दरअसल इसकी वजहें भी हैं और वह यह कि दफ्तरों में कागजों पर तो ये बहुत उपयोगी और जनकल्याणकारी दिखती हैं पर हकीकत में इसका लाभ उन तक नहीं पहुँच पाता है जिनके लिए बनी होती हैं।
 
पति की दीर्घायु की कामना का व्रत करवाचौथ
भारत एक धर्म प्रधान व आस्थावान देश हैं। यहां साल के सभी दिनो का महत्व होता है तथा साल का हर दिन पवित्र माना जाता है। भारत में करवा चौथ हिन्दुओं का एक प्रमुख त्योहार है। यह भारत के राजस्थान, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश और पंजाब का पर्व है। यह कार्तिक मास की कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को मनाया जाता है। इस वर्ष करवा चौथ का व्रत 17 अक्तूबर 2019 को रखा जाएगा।
 
स्वेच्छा से ही घटेगा ह्रश्वलास्टिक का उपयोग
केन्द्र सरकार द्वारा प्रदूषण पर रोकथाम तथा स्वच्छता को बढ़ावा देने के लिए अभी ‘सिंगल यूज ह्रश्वलास्टिक’ (एकल उपयोग वाली ह्रश्वलास्टिक) पर पूर्ण प्रतिबंध न लगाते हुए ह्रश्वलास्टिक के खिलाफ जन-जागरूकता अभियान छेडऩे का आव्हान किया गया है ताकि लोग स्वेच्छा से इससे दूरी बनाएं। फिलहाल सरकार पॉलीथीन बैग के उत्पादन, भण्डारण तथा उपयोग के नियमों को लागू करने के लिए राज्य सरकारों को निर्देश देगी और तीन वर्ष बाद एकल उपयोग वाली ह्रश्वलास्टिक पर पूर्ण प्रतिबंध लगाकर सख्ती शुरू की जाएगी।
 
मास्टर स्ट्रोक के मास्टर पीएम मोदी
महाबल्लीपुरम दो महाबलियों की मुलाकात का गवाह बना। चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मुलाकात पर पूरी दुनिया की निगाह थी। मोदी-जिनपिंग मिले और कूटनीतिक नतीजे भी बेहतर रहे। दोनों अपने अपने नजरिए से इस मुलाकात के फायदे देख सकते हैं।
 
हर्ष और उल्लास का प्रतीक है दशहरा
दशहरा अथवा विजयदशमी भगवान राम की विजय के रूप में मनाया जाए अथवा दुर्गा पूजा के रूप में, दोनों ही रूपों में यह शक्ति-पूजा का पर्व है, शस्त्र पूजन की तिथि है। हर्ष और उल्लास तथा विजय का पर्व है। भारतीय संस्कृति वीरता की पूजक है, शौर्य की उपासक है।
 
नेतृत्व की कमजोरी, सबकी सीनाजोरी!
हुड्डा अब पार्टी छोड़ेंगे कि तब! चुनाव की घोषणा के पहले तक ये चर्चा आम थी। उन्होंने आंख दिखाई नेतृत्व को। खुलेआम रैली करके चुनौती दी। पार्टी के मौजूदा नेतृत्व को इशारों में कोसते हुए कहा कि अब वो कांग्रेस नही रह गई। अंतत: पार्टी को हुड्डा की ताकत का एहसास हुआ वो जो चाहते थे उससे कहीं ज्यादा पार्टी ने उनको दे दिया।
 
पाकिस्तानी पीएम इमरान के तख्तापलट की तैयारी में सेना?
जम्मू-कश्मीर के मसले पर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भारत के हाथों कूटनीतिक हार, देश में चल रही अर्थव्यवस्था की बुरी हालत ने पाकिस्तान को इन दिनों मुश्किलों में डाल दिया है। हर किसी के निशाने पर पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान हैं, इस सभी के बीच पड़ोसी मुल्क में तख्तापलट की अटकलों ने जोर दिया है।
 
सत्य और अहिंसा का दूसरा नाम था महात्मा गांधी
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संयुक्त राष्ट्र के 74वें सत्र को संबोधित करते हुए कहा कि महात्मा गांधी का सत्य एवं अहिंसा का संदेश शांति, विकास एवं प्रगति के लिए आज भी प्रासंगिक है। देश के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू ने भी 15 अगस्त 1947 की आधी रात को कभी न भुलाए जाने वाले भाषण ‘नियति से मुलाकात’ में कहा था कि महात्मा ‘देश की मूल भावनाओं के प्रतीक हैं’, जिनकी बातों को ‘आने वाली पीढिय़ां’ याद रखेंगी।
 
अब कश्मीर का हाल क्या है ?
यूएन में मोदी और इमरान के बाद कश्मीर का हाल क्या है ? इमरान खान के भाषण का असर चाहे चीन और तुर्की के अलावा किसी भी राष्ट्र पर न पड़ा हो लेकिन 55 दिन से सोये कश्मीर में अब कुछ न कुछ हलचल मची है। जगहज गह लोगों ने प्रदर्शन भी किए हैं, हथगोले भी फेंके हैं और आतंकियों ने भी अपने तेवर दिखाए हैं। कुछ लोग मारे भी गए हैं।
 
नेतृत्व ने किए कई चौंकाने वाले फैसले
हरियाणा विधानसभा के लिए भाजपा की पहली सूची में कई चौंकाने वाले ठोस फैसले किये गए हैं। कई ऐसे नाम लिस्ट से गायब हैं जिनका चुनाव लडऩा तय माना जा रहा था। गुरुग्राम की बादशाहपुर सीट से कैबिनेट मंत्री व मौजूदा विधायक राव नरबीर का टिकट कटा है।
 
आजादी ही जिसकी दुल्हन थी
सरदार भगत सिंह जैसा लाल पैदा करने के लिए कितनी ही माताएं दिन रात भगवान से प्रार्थनाएं करती हैं तब कहीं लाखों में से किसी एक विद्यावती को यह सौभाग्य प्राप्त होता है। शहीदे-आजम भगत सिंह भारत माता के एक ऐसे सपूत थे जिन्होंने बहुत छोटी आयु में ही देश की स्वतंत्रता के लिए अपना जीवन बलिदान कर दिया। 28 सितम्बर 1907 को पंजाब प्रान्त के लायलपुर जिले के बंगा नामक गांव में भगत सिंह का जन्म हुआ।
 
ट्रंप की नोबेल की चाह
अभी कुछ दिन पहले जब अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने संयुक्त राष्ट्र में खुद को नोबेल पुरस्कार न मिलने को लेकर नाखुशी जाहिर की थी, तब बहुत से लोगों ने इसे ट्रंप की फितरत से जोडक़र देखा था और कहा था कि ट्रंप इसी तरह की बातें करने के लिए विख्यात हैं। मगर जानकारों का कहना है कि ट्रंप की यह पीड़ा न तो चर्चा में बने रहने के लिए थी और न ही माहौल को हल्का करने के लिए।
 
‘हाउडी मोदी’: सदमे में पाकिस्तान
इसमें कोई दो राय नहीं है कि हाउडी मोदी इवेंट के कामयाबी से पाकिस्तान गहरे सदमे में है। भारत की विश्व बिरादरी में बढ़ती साख और प्रतिष्ठा उसे रास नहीं आ रही है। कश्मीर से धारा 370 हटाये जाने के बाद से ही बौखलाया पाकिस्तान अब हाउडी मोदी से चिढ़ा हुआ है। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प और भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक साथ मंच साझा कर सारी दुनिया को एक बड़ा संदेश दिया है। मोदी ने मंच से आतंक के खिलाफ कड़े प्रहार किये। वहीं दुनिया भर में बढ़ते आतंकवाद को लेकर अपनी चिंताएं भी जाहिर की।
 
previous123456789...3334next