healthprose viagra http://tramadoltobuy.com/ http://buypropeciaonlinecheap.com/

संपादक

‘केसरिया सत्ता’ का जनादेश !
जनादेश 2017 प्रधानमंत्री मोदी पर जनमत नहीं है, लेकिन यह ‘मोदी नाम केवल’ का ही जनादेश है। बेशक भाजपा के असंख्य नेताओं और कार्यकर्ताओं की भी अनथक मेहनत थी, लेकिन प्रेरणास्रोत सिर्फ मोदी ही थे। उन्होंने ही जनता का मानस बदला, भाजपा की ओर आकर्षित किया और उन्होंने ही भरोसा जगाया। लिहाजा यह जनादेश पौने तीन साल पुरानी मोदी सरकार, उसकी नीतियों और जनवादी कार्यक्रमों पर जनता की ‘बहुमती मुहर’ जरूर है।
 
अजमेर बम कांड में फैसला
जिसे पिछली यूपीए सरकार के समय "भगवा" या हिंदू आतंकवाद के नाम से चर्चित किया गया था, उससे संबंधित एक मामला अदालती फैसले के मुकाम तक पहुंचा है। जयपुर की विशेष अदालत ने अजमेर बम विस्फोट कांड में फैसला सुनाया। फैसला ऐसा है, जिसे "भगवा आतंकवाद" को हकीकत और फसाना मानने वाले दोनों पक्ष अपने-अपने हक में समझ सकते हैं। हकीकत मानने वालों में पूर्व सत्ताधारी कांग्रेस पार्टी और बाकी सेक्यूलर जमात के लोग थे।
 
अब भी हम सबसे भ्रष्ट!
2साल 2011 में हुए भ्रष्टाचार विरोधी आंदोलन से जन्मीं ऊंची उम्मीदें धराशायी हो चुकी हैं। ट्रांसपेरेंसी इंटरनेशनल (टीआई) की ताजा रिपोर्ट भी इसी बात की पुष्टि है। निष्कर्ष है कि भ्रष्टाचार बदस्तूर जारी है- इतना कि इस बर्लिन स्थित संस्था के सर्वेक्षण में एशिया-प्रशांत देशों के बीच भारत और वियतनाम साझा तौर पर सबसे भ्रष्ट देश माने गए। टीआई ने इस क्षेत्र के 16 देशों में 20,000 लोगों से बातचीत की। उस पर आधारित रिपोर्ट के अनुसार रिश्वत की दर भारत और वियतनाम में सबसे अधिक पाई गई। इन देशों में दो तिहाई लोगों ने कहा कि सरकारी शिक्षा और स्वास्थ्य सेवा जैसी बुनियादी सेवाओं के लिए भी उन्हें सरकारी कर्मचारियों को खुश करना पड़ता है।
 
बीड के बाद सांगली
सात साल पहले जो बीड में हुआ था, वह अब सांगली में दोहराया गया है। यानी इतनी लंबी अवधि में महाराष्ट्र में सूरत नही बदली। कानून लागू करने वाली एजेंसियां या तो कन्या भ्रूण हत्या के मामलों को लेकर आज भी लापरवाह हैं अथवा यह अमानवीय धंधा उनकी मिली-भगत से चलता है। बीड में एक ऐसे क्लीनिक का खुलासा हुआ था, जहां गर्भपात कराने के बाद कन्या भ्रूण को कुत्तों के सामने फेंक दिया जाता था।
 
जीएसटी का खुलता रास्ता
वित्त मंत्री अरुण जेटली ने फिर वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) पर अगले एक जुलाई से अमल की आशा जताई है। जीएसटी परिषद की बैठक में इस नई परोक्ष कर प्रणाली के लिए प्रस्तावित दो प्रमुख विधेयकों- केंद्रीय जीएसटी (सीजीएसटी) और एकीकृत जीएसटी (आईजीएसटी)- के मसौदे पर सहमति बन गई। जेटली ने कहा कि राज्य जीएसटी (एसजीएसटी) के मसविदे को भी जल्दी ही मंजूरी मिल जाएगी।
 
नशे में रहेंगे या नशामुक्ति होगी
रा जनीति के विविध रंग देखने हों तो चुनाव से अच्छा मौका क्या हो सकता है। एक नेता के कितने चेहरे। एक दल के कितने रूप। मतदाता भी बहुरूपिया। गजब होता है सबकुछ। लोकतंत्र के चुनावी रंग का आप आनंद लेते हैं। व्यवस्था को कई बार कोसते हैं, लेकिन उसमें रमते भी हैं। सुधार की अपेक्षा होती है लेकिन शायद ही कोई हो जो खुद सुधरना चाहता हो।
 
बातों से नहीं बनती बात
मंच पुराना था, लेकिन आक्रामकता नई। भारत और पाकिस्तान ने संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद के 34वें सत्र में एक-दूसरे को निशाने पर रखा। पाकिस्तान के पास जम्मू-कश्मीर और वहां मानवाधिकारों के कथित हनन का पुराना राग था।
 
बिहार के अफसरों की दादागीरी
बिहार के आईएएस अधिकारी प्रतिरोध के रास्ते पर हैं। फैसला किया है कि अब कोई अधिकारी मुख्यमंत्री सहित किसी के मौखिक आदेश का पालन नहीं करेंगे। वे सिर्फ तभी कदम उठाएंगे, जब उन्हें कोई लिखित आदेश मिलेगा। सिद्धांत: इस बात में कुछ गलत नहीं है। सरकारी काम औपचारिक ढंग से ही होने चाहिए।
 
टैक्स चोर कंपनियों पर लगाम
काले धन के खिलाफ बढ़ती जागरूकता का ही यह परिणाम है कि अब बहुराष्ट्रीय कंपनियों पर भी शिकंजा कसता दिखता है। टैक्स चोरी करने वाली बहुराष्ट्रीय कंपनियों पर नकेल कसने पर यूरोपीय संघ (ईयू) के देश सहमत हो गए हैं। ईयू के 28 देशों के वित्त मंत्रियों की बैठक में इससे संबंधित नए नियम तय किए गए। इस बैठक में कर चोरी के अड्डों (टैक्स हैवन) की साझा सूची बनाने पर सहमति हुई। बड़ी कंपनियों की कर चोरी का बुरा नतीजा सरकारों के कल्याणकारी खर्चों पर पड़ता है।
 
आईसीयू से बाहर निकलेगी कांग्रेस?
मुं बई महानगर पालिका और समूचे महाराष्ट्र के पंचायत चुनाव में कांग्रेस बुरी तरह पराजित हुई है। मुंबई में शिवसेना नंबर वन पार्टी बनी लेकिन पूरे प्रदेश में भाजपा को शानदार जीत मिली है। अरसे तक कांग्रेस की सहयोगी रही एनसीपी भी परिणामों में औंधे मुंह गिरी। चुनाव परिणाम हर किसी को पता हैं। लेकिन पृष्ठभूमि मुख्य विषय के लिए जरूरी है।
 
मोदी की सुनेंगे ट्रंप?
अमेरिका में डोनल्ड ट्रंप प्रशासन के एच-1बी वीजा संबंधी रुख पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपनी प्रतिक्रिया दी। अमेरिका से कहा कि वह कुशल पेशेवरों की आवाजाही के मामले में संतुलित और दूरदर्शी नजरिया अपनाए। जोर दिया कि अमेरिकी समाज और अर्थव्यवस्था में भारतीय पेशवरकर्मियों का बड़ा योगदान है।
 
अनूठा है कश्मीरी पंडितों का शिवरात्रि मनाने का तरीका
कहने को 28 साल का अरसा बहुत लंबा होता है और अगर यह अरसा कोई विस्थापित रूप में बिताए तो उससे यह उम्मीद नहीं की जा सकती कि वह अपनी संस्कृति और परंपराओं को सहेज कर रख पाएगा। पर कश्मीरी पंडित विस्थापितों के साथ ऐसा नहीं है जो बाकी परंपराओं को तो सहेज कर नहीं रख पाए लेकिन शिवरात्रि की परंपराओं को फिलहाल नहीं भूले हैं।
 
रिश्ता संभालने की कोशिश
चीन से रिश्ता संभालने की कोशिश में विदेश सचिव एस. जयशंकर बीजिंग पहुंचे। वहां चीन के शीर्ष राजनयिक यांग जिशी से बातचीत की। साथ ही चीन से रणनीतिक वार्ता को आगे बढ़ाया। स्वाभाविक ही है कि इस बातचीत में पाकिस्तानी आतंकवादी मसूद अजहर को मिले चीनी संरक्षण तथा परमाणु आपूर्तिकर्ता समूह (एनएसजी) की भारत की सदस्यता की राह में उसके रोड़े पर खास चर्चा हुई।
 
सरकार का पाकिस्तान प्रेम!
इस खबर पर सहसा यकीन नहीं होता। भारतीय जनता पार्टी वर्षों से पाकिस्तान को आतंकवादी देश घोषित कराने के लिए मुहिम चलाती रही है। अब जबकि सत्ता उसके हाथ में है, तो यह अपेक्षा स्वाभाविक है कि वह इसके लिए ठोस प्रयास करे। हालांकि कई अंतरराष्ट्रीय मंचों पर उसकी तरफ से ऐसी मांग उठाई गई है, लेकिन अब जबकि इसके लिए गंभीर इरादा जताने की बारी थी, तो उसके कदम डगमगाते नजर आए हैं।
 
बैंकों का गहराता संकट
ये खबर चिंता बढ़ाने वाली है कि सरकारी बैकों के नॉन परफॉर्मिंग एसेट्स (एनपीए) में 2016 में 56.4 प्रतिशत बढ़ोतरी हुई। इन बैंकों का ऐसा कर्जजिस के लौटाए जाने की संभावना नहीं है, पिछले साल 6,14,872 करोड़ रुपए तक पहुंच गया।
 
डीएमके की विद्रूप बेसब्री
तमिलनाडु विधानसभा में जो हुआ, उसे विद्रूपता के अलावा और क्या कहा जा सकता है! खासकर द्रविड़ मुनेत्र कडग़म ने बहुत खराब मिसाल कायम की। मुख्यमंत्री ई.के पलनीसामी के विश्वास-मत प्रस्ताव पर वोटिंग गुप्त हो- इस मांग पर अन्ना डीएमके विधायक दल के अंदर से जोर डाला गया होता, तो बात अलग होती।
 
अब नुस्खों का ऑडिट
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने डॉक्टरी नुस्खों के ऑडिट का इरादा जताया है। सोच यह है कि डॉक्टर मरीजों के लिए जो नुस्खे लिखते हैं, उनकी विशेषज्ञ जांच करें। राजस्थान में ऐसा सिस्टम बनाया गया है, जिसके तहत हर सरकारी अस्पताल के डॉक्टर को रोजाना अपने लिखे नुस्खे को अस्पताल की वेबसाइट पर डालना पड़ता है। केंद्र सरकार ऐसी ही व्यवस्था सारे देश में लागू करना चाहती है।
 
भरोसा कायम करे हरियाणा सरकार
ह रियाणा में जाट पिछले कई दिनों से सडक़ों पर हैं। साल भर पहले हुए आंदोलन की यादें लोगों को डरा रही हैं। लोगों के मन में अजीब सा डर घर कर गया है। हरियाणा के दामन पर लगा दाग अभी छूटा नहीं है। किस तरह से सडक़ों पर तांडव हुआ था कोई शायद ही भूला हो। नौजवानों की मौत,राज्य की अरबों की संपत्ति का नुकसान,धूं धूं कर जलते हुए घर सारे दृश्य आँखों के आगे यूँ घूमते हैं मानो कल की बात हो।
 
सबसे गंदी हवा में हम
इस खबर से अपने देश में अपने देश में किसी की नींद नहीं उड़ेगी कि दुनिया में वायु प्रदूषण के कारण सबसे ज्यादा मौतें भारत में होती है। चूंकि अपने समाज में इनसान की सेहत को लेकर न्यूनतम जागरूकता है, अत: ऐसी सूचनाएं आई-गई हो जाती हैं। अब चूंकि ऐसी चेतना ही नहीं है, तो उन समस्याओं से निपटने की बात बहुत दूर रह जाती है।
 
व्यापमं कांड : अधूरा न्याय
मध्य प्रदेश से व्यावसायिक परीक्षा मंडल (व्यापमं) मामले में सुप्रीम कोर्ट ने 634 मेडिकल छात्रों को राहत देने से इनकार किया। इन छात्रों को व्यापमं द्वारा आयोजित मेडिकल प्रवेश परीक्षा के जरिए दाखिला मिला था।