Breaking News
सरकार को बेरोजगारी खत्म करने के लिए कुटीर उद्योगों को बढ़ावा देने की जरूरत है : बजरंग गर्ग  |  घरौंडा-चार दिन में चार यौन शोषण की घटनाएं आई सामने  |  केंद्रीय कर्मियों को पेंशन का बड़ा तोहफा, पुरानी पेंशन स्कीम ले सकते हैं कर्मी  |  अभी विचार-विमर्श के स्तर पर है जम्मू-कश्मीर के लिए थिएटर कमान का फैसला : जनरल नरवाणे  |  केंद्र सरकार बहुत जल्द ही घोषित करेगी नई किराया नीति : पुरी  |  शाहीन बाग में जाम लगा तो पुलिस ने कुछ देर के लिए खोला नोएडा-फरीदाबाद मार्ग, फिर बंद किया  |  शाहीन बाग में जाम लगा तो पुलिस ने कुछ देर के लिए खोला नोएडा-फरीदाबाद मार्ग, फिर बंद किया  |  प्राप्त शिकायतों का समाधान गंभीरता एवं तत्परता से करें  |  
वाराणसी। वाराणसी की अन्तर्राष्ट्रीय फुटबॉल खिलाड़ी पूनम चौहान की डेंगू से मौत हो जाने के कारण खिलाडिय़ों में शोक
वाराणसी। वाराणसी की अन्तर्राष्ट्रीय फुटबॉल खिलाड़ी पूनम चौहान की डेंगू से मौत हो जाने के कारण खिलाडिय़ों में शोक है। पूनम चौहान का बीती रात बनारस के एक निजी अस्पताल में निधन हो गया। वह पिछले एक सप्ताह से डेंगू से पीडि़त थीं। आज पूनम को अंतिम विदाई देने के लिए वाराणसी के शिवपुर स्थित विवेक सिंह मिनी स्टेडियम में पूनम के पार्थिक शरीर को रखा गया है। यहां खिलाडिय़ों समेत अन्य लोगों ने भी उन्हें श्रद्धांजलि दी। दो मिनट का मौन रखकर मृत आत्मा की शांति के लिए ईश्वर से प्रार्थना किया गया। फ़ुटबाल की होनहार खिलाडी पूनम पिछले हफ्ते से बीमार थीं, सोमवार को तबीयत बिगडऩे के बाद उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया था।
 
22वां अखिल भारतीय ऋषिपाल दंगल 16 अक्टूबर को
नोएडा। हर वर्ष की भांति इस वर्ष भी अखिल भारतीय ऋषिपाल विशाल का आयोजन किया जा रहा है। इसका आयोजन 16 अक्टूबर को श्रषिपाल क्रिडा स्थल सेक्टर-15 में किया जाएगा। जिसमें मुख्य अतिथि के रूप में जिलाधिकारी एनपी सिंह मौजूद होंगे।
 
नई दिल्ली। रियो ओलिंपिक्स में शानदार प्रदर्शन पर तोहफे में मिली बीएमडब्लयू कार को जिम्नैस्ट दीपा कर्मकार ने लौटाने का फैसला किया
नई दिल्ली। रियो ओलिंपिक्स में शानदार प्रदर्शन पर तोहफे में मिली बीएमडब्लयू कार को जिम्नैस्ट दीपा कर्मकार ने लौटाने का फैसला किया है। करीब 30 लाख रुपये की इस लग्जरी कार की चाबी क्रिकेटर सचिन तेंडुलकर ने उन्हें सौंपी थी। यह कार हालांकि हैदराबाद बैडमिंटन असोसिएशन (एचबीए) के अध्यक्ष वी चामुंडेश्वरनाथ ने दी थी। दीपा के कोच बिश्नेश्वर नंदी ने बताया कि दीपा के परिजनों से बात कर हमने यह कार न लेने का फैसला किया।