समाचार ब्यूरो
18/11/2017  :  09:33 HH:MM
जल्द ही बेकार हो जाएगी आपकी चेकबुक
Total View  394

नई दिल्ली सरकार नोटबंदी के एक साल पूरा होने के बाद बैंकिंग व्यवस्था में बदलाव के लिए एक और बड़ा कदम उठा सकती है। आने वाले साल में हो सकता है कि चेकबुक के माध्यम से होने वाले सभी तरह के लेन देन बंद हो जाए। चेक के बजाए बैंक केवल डिजिटल ट्रांजेक्शन करने के लिए कह सकते हैं। इससे आगे चलकर इकोनॉमी को कैशलेस बनाने का केंद्र सरकार का सपना पूरा हो सकता है।
डिजिटल लेनदेन को मिलेगा बढ़ावा उद्योग संगठन कॉन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि डिजिटल लेनदेन को बढ़ावा देने के लिए केंद्र सरकार बैंक चेकबुक सुविधा को निकट भविष्य में बंद कर सकती है। कैट के महासचिव प्रवीण खंडेलवाल ने कहा कि सरकार को डेबिट तथा
क्रेडिट कार्डों के इस्तेमाल को उत्साहित करने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि संभावना है कि डिजिटल लेनदेन को उत्साहित करने के लिए सरकार निकट भविष्य में ऐसा कदम उठा सकती है। हर साल खर्च होते हैं करोड़ों रुपए सरकार 25000 करोड़ रुपए सिर्फ नोटों की छपाई पर खर्च करती है और 6000 करोड़ रुपए उन नोटों की सुरक्षा पर खर्च किए जाते हैं। इस खर्च पर लगाम लगाने के लिए सरकार अपनी तरफ से पूरी कोशिशें कर रही है। अगर डिजिटल लेनदेन बढ़ता है, तो फिर यह खर्च न के बराबर रह जाएगा।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   9000369
 
     
Related Links :-
सिंडीकेट बैंक ने लगाया मेगा क्रेडिट कैंप
सेलिब्रिटी डिजाइनर अभिलाषा श्रीवास्तव का स्टोर लांच दादा जुंगी हाउस मे
रिलायंस ’वेल्स सेलिब्रेट कर रहा हैं फेस्टिव सीजन
किला गोबिन्दगढ़ के काम के लिए 15 करोड़ देने का ऐलान सिद्धू ने दिया खानसामों को इंडियन कुलीनरी इंस्टीट्यूट बनाने का न्योता
पियाजियो इंडिया और स्पोर्टी फन वाली अप्रिलिया को करीब लाया
वेस्पा का पंचकूला में खुला नया शोरूम
आयातकों के हाथ खींचने से बाजार में माल की आवक कम हुई आयात में दोगुनी टैरिफ से बाजार में चाइनीज लाइटिंग का सन्नाटा
आम पब्लिक को राहत देने की तैयारी पंजाब में पेट्रोल-डीजल की कीमतों को लेकर बैठक आज
ग्रीनलाइट ह्रश्वलेनेट और मिडलैंड माइक्रोफनि उपलब्ध कराता सौर ऊर्जा
पेट्रोलियम दामों में कटौती से आमजन को होगा लाभ : उमेश अग्रवाल