समाचार ब्यूरो
23/11/2017  :  10:33 HH:MM
उत्तर कोरियाई सेना में महिलाएं झेल रहीं अत्याचार
Total View  377

ह्रश्वयोंगह्रश्वयांग उत्तर कोरियाई सेना में महिलाओं के साथ अत्याचारों का ऐसा सच सामने आया है कि जानकर रूह कांप जाएगी। इस सेना में महिलाओं को इतना कठिन प्रशिक्षण दिया जाता है कि उनकी माहवारी समय से पहले ही रूक जाती है। ये खुलासा किया है उत्तर कोरिया की एक पूर्व महिला सैनिक ली सो येआनने। उसका दावा है कि यहां महिला सैनिकों को व्यापक यौन हिंसा और उत्पीडऩ का सामना करना पड़ता है।ली सो येआन ने बताया कि कुपोषण और तनावपूर्ण माहौल के कारण महिला सैनिकों की माहवारी बंद हो जाती है। उनकी महिला सहकर्मी खुश थी क्योंकि अगर पीरियड्स रहते तो उनकी स्थिति और भी बदतर हो जाती। इन महिला सैनिकों को बार-बार रेप का शिकार होना पड़ता है।ली सो येआन कहती हैं कि एक महिला के रूप में सबसे बड़ी मुश्किल थी ठीक से नहा न पाना क्योंकि गरम पानी की व्यवस्था नहीं थी। पहाड़ के झरनों से एक पाइप जोड़ दिया जाता था और सीधे वहीं से पानी आता था। इस पानी में मेंढक और सांप भी निकल आते थे। 41 साल की सो येआन, विश्वविद्यालय प्रोफेसर की बेटी हैं और देश के उत्तरी हिस्से में पली बढ़ीं। उनके परिवार के अधिकांश लोग सैनिक थे और जब 1990 के दशक में देश में विनाशकारी अकाल आया तो खुद ही सेना में शामिल हो गईं। उन्होंने दस साल सेना में सेवाएं दी हैं।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   2976063
 
     
Related Links :-
मून के ऐलान से दुनिया ने ली राहत की सांस परमाणु निरस्त्रीकरण के लिए तैयार है नॉर्थ कोरिया
अफगानिस्तान को तालिबान से मुक्त करने के अमेरिकी दावे खोखले
भारत का रणनीतिक कदम, श्रीलंका के पलाली एयरपोर्ट को करेगा विकसित
अमेरिका में कुत्ते-बिल्ली मांस बिक्री पर लगाया प्रतिबंध पर मंत्री अनिल विज ने कहा आश्चर्यजनक है इसमें गाय का जिक्र नही
अमेरिका के साथ हुई कोमसासा ष्टह्ररूष्ट्रस््र डील
भारत-प्रशांत क्षेत्र में सामरिक दृष्टि से महत्वपूर्ण बैठक सुषमा-पोम्पियो और निर्मला-मैटिस के बीच टू ह्रश्वलस टू बैठक शुरू
अगले माह पाकिस्तानी विदेश मंत्री से मिल सकती हैं सुषमा
सिंधु जल विवाद को यूएन करेगा सुलझाने की कोशिश
देश को बदलने के पहले खुद बदलें इमरान : रेहम
अब सोमालिया में तेजी से पांव पसार रहा आईएसआईएस