समाचार ब्यूरो
23/11/2017  :  10:33 HH:MM
उत्तर कोरियाई सेना में महिलाएं झेल रहीं अत्याचार
Total View  398

ह्रश्वयोंगह्रश्वयांग उत्तर कोरियाई सेना में महिलाओं के साथ अत्याचारों का ऐसा सच सामने आया है कि जानकर रूह कांप जाएगी। इस सेना में महिलाओं को इतना कठिन प्रशिक्षण दिया जाता है कि उनकी माहवारी समय से पहले ही रूक जाती है। ये खुलासा किया है उत्तर कोरिया की एक पूर्व महिला सैनिक ली सो येआनने। उसका दावा है कि यहां महिला सैनिकों को व्यापक यौन हिंसा और उत्पीडऩ का सामना करना पड़ता है।ली सो येआन ने बताया कि कुपोषण और तनावपूर्ण माहौल के कारण महिला सैनिकों की माहवारी बंद हो जाती है। उनकी महिला सहकर्मी खुश थी क्योंकि अगर पीरियड्स रहते तो उनकी स्थिति और भी बदतर हो जाती। इन महिला सैनिकों को बार-बार रेप का शिकार होना पड़ता है।ली सो येआन कहती हैं कि एक महिला के रूप में सबसे बड़ी मुश्किल थी ठीक से नहा न पाना क्योंकि गरम पानी की व्यवस्था नहीं थी। पहाड़ के झरनों से एक पाइप जोड़ दिया जाता था और सीधे वहीं से पानी आता था। इस पानी में मेंढक और सांप भी निकल आते थे। 41 साल की सो येआन, विश्वविद्यालय प्रोफेसर की बेटी हैं और देश के उत्तरी हिस्से में पली बढ़ीं। उनके परिवार के अधिकांश लोग सैनिक थे और जब 1990 के दशक में देश में विनाशकारी अकाल आया तो खुद ही सेना में शामिल हो गईं। उन्होंने दस साल सेना में सेवाएं दी हैं।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   9379004
 
     
Related Links :-
नागेश्वर राव अंतरिम डायरेक्टर नियुक्त
पाक की आतंकी सूची में हाफिज का संगठन नही
सऊदी विदेश मंत्री ने कहा कि वकील नई सूचनाओं के आधार पर जांच जारी रखेंगे सऊदी ने फिर बदला बयान, कहापूर्वनियोजित थी खशोगी की हत्या
रहीशा खान ने दी महर्षि वाल्मीकि जयंती पर शुभकामनाए
नागेश्वर राव अंतरिम डायरेक्टर नियुक्त
रूसी राष्‍ट्रपति व्‍लादिमीर पुतिन ने रेल हादसे पर जताया गहरा दुख
बांग्लादेशी हिंदुओं को पीएम का दिवाली गिफ्ट शेख हसीना ने मंदिर को दान की 43 करोड़ की डेढ़ बीघा जमीन
क्रीमिया कॉलेज में आत्मघाती हमला, 18 लोगों की मौत
युगांडा में भारी बारिश, भूस्खलन के बाद नदी उफनी, 41 लोगों की मौत
188 मत हासिल कर भारत ने जीता यूएन मानवाधिकार परिषद का चुनाव