समाचार ब्यूरो
10/12/2017  :  11:18 HH:MM
टीबी एक्टिव केस फाइंडिंग अभियान
Total View  340

समालखा उपमंडल को टीबी रोग से पूरी तरह मुक्त बनाने को लेकर टीबी एक्टिव केस फाइंडिंग अभियान चलाया जा रहा है। यह अभियान 4 दिसंबर से शुरू होकर18 दिसंबर तक चलेगा। इसके लिए समालखा सीएचसी में 7 टीमों को गठन किया है। टीम में 14 स्वास्थ्य कर्मी हाई रिस्क एरिया में डोर टू डोर जाकर लोगों को लोगों को जागरूक करने के साथ ही टीबी के मरीजों की पहचान कर रहे है।

सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र से सीनियर चिकित्सक पवन कुमार ने बताया कि एक्टिव केस फाइंडिंग अभियान के दौरान टीबी के मरीजों की पहचान भी की जाएगी व टीबी के संदिग्ध मरीजों के खाना खाने से पहले की बलगम व खाना खाने के बाद की बलगम के सैंपल लेते हुए उसकी दिन बलगम जांच केंद्रों में टेस्ट के लिए भेजे जा रहे है। अगर किसी मरीज में टीबी की पुष्टि होती है तो उसका इलाज बिना देरी शुरू किया जा रहा है। साथ ही टीबी मरीज को पूरा कोर्स सेहत विभाग के कर्मचारी अपनी देखरेख में पूरा करवाएंगे ताकि उपमंडल को टीबी मुक्त बनाया जा सके। उन्होंने बताया कि स्वास्थ्य कर्मियों की टीम हाई रिस्क एरिया जैसे कि शहर के
वाल्मीकि मुहल्ला, हरिजन मुहल्ला, भापरा, प्रीतमपुरा, राजस्थान कॉलोनी, हनुमान कॉलोनी, बिहोली गांव की वाल्मीकि मुहल्ला, शहरमालपुर व गढ़ी छाज्जू गांव को चुना गया है। यहां टीम घर-घर में जाकर लोगों में दो हफ्ते से अधिक खांसी, बुखान आना, भूख न लगना और वजन घटना, रात में पसीना आदि लक्षणों की जांच कर रही है। उन्होंन बताया कि अगर किसी व्यक्ति का टीबी रोग की आशंका है तो वह टोल फ्री नंबर 1800116666 पर कॉल निशुल्कल परामर्श ले सकता है। टीबी रोगी का छह माह तक इलाज चल रहा है।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   9481926
 
     
Related Links :-
मुख्यमंत्री 25 को करेंगे खसरा-रूबैला टीकाकरण अभियान की शुरूआत
फंगल सक्रंमण देश के स्वास्थ्य सेवा के लिए एक महत्वपूर्ण चुनौती
उत्तरांचल हीरोज और स्प्रिंग होप मिलकर कैंसर से लड़ेंगे!
मनुष्य के शरीर में आंखें वह अंग हैं जिसका अधिक उपयोग किया जाता है: डॉ. रावल
अमेरिका में आयोजित विश्व बैठक में वेपिंग भारत का करेगा प्रतिनिधित्व
महिलाओं को खुद स्वास्थ्य पर ध्यान देना चाहिए
सेंधा नमक से निखरेगी त्वचा
फरीदाबाद में कैंसर से हुई सर्वाधिक मौत
हलाली डैम स्थित गौशाला में 545 दिनों में 2948 गायों की मौत
एम्स से संसद तक मार्च के लिए आज जुटेंगे 10 हजार डॉक्टर