हरियाणा मेल ब्यूरो
13/12/2017  :  10:37 HH:MM
अंतरराष्ट्रीय पदक विजेताओं को स्वास्थ्य योजना का लाभ दें : सचिन
Total View  195

नई दिल्ली महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक पत्र लिखा है। इसमें सचिन ने पीएम से अनुरोध किया है और कहा है कि देश के सभी अंतरराष्ट्रीय पदक विजेताओं को केंद्र सरकार स्वास्थ्य योजना (सीजीएचएस) में शामिल किया जाए। स्वास्थ्य संबंधी मुद्दों के दौरान खिलाडिय़ों की कठिनाइयों पर बात करते हुए तेंदुलकर ने अपने पत्र में ओलंपिक में स्वर्ण पदक जीतने वाली भारतीय टीम के सदस्‍य मोहम्मद शाहिद के अंतिम दिनों का उदाहरण दिया।

तेंदुलकर ने 24 अक्‍टूबर को पीएम मोदी को अपने पत्र में लिखा, ‘मैं संबंधित खिलाड़ी के रूप में अपने देश के सभी खिलाडिय़ों की ओर से लिखते हुए आपसे आग्रह करता हूं कि आप हस्तक्षेप करके अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पदक जीतने वाले सभी खिलाडिय़ों को सीजीएचएस सुविधाओं के पात्र खिलाडिय़ों की सूची में शामिल करें।’ सीजीएचएस सुविधाओं का फायदा केंद्र सरकार के कर्मचारियों को मिलता है जो इससे जुड़े मेडिकल केंद्रों पर उपचार करा सकते हैं।

तेंदुलकर ने प्रधानमंत्री मोदी को बताया है कि वे इस मुद्दे को इससे पहले खेल मंत्रालय और स्वास्थ्य मंत्रालय दोनों के साथ उठा चुके हैं. तेंदुलकर ने लिखा, ‘उन्होंने (स्वास्थ्य मंत्रालय ने) इस विचार का समर्थन किया है लेकिन 14 सितंबर को अपने जवाब में सीजीएचएस योजना के तहत विस्तृत रूप से खिलाडिय़ों पर विचार करने में अक्षमता जताई है। अपने शुरुआती आग्रह के आधार पर मैं उनकी पूरी तरह से सराहना करता हूं और उनकी स्थिति समझ सकता हूं।’ तेंदुलकर ने प्रधानमंत्री से ‘पायलट/परीक्षण’ योजना के तहत कम से कम अंतरराष्ट्रीय पदक विजेताओं (गैर सरकारी कर्मचारी) के नाम पर विचार करने को कहा है जिसकी लागत/फायदों का खेल मंत्रालय आंकलन कर सकता है। सचिन ने लिखा, ‘एक बार लागत/ फायदों के आकलन के बाद इन्हें चरणबद्ध रूप से खिलाडिय़ों के अतिरिक्त वर्गों को दिया जा सकता है, पायलट कार्यक्रम की उपयोगिता के स्वास्थ्य मंत्रालय के आकलन करने के बाद.’तेंदुलकर ने दिवंगत हॉकी खिलाड़ी मोहम्‍मद शाहिद का
हवाला दिया जिन्हें अंतिम दिनों में ही मदद मिल सकी। लीवर से जुड़ी बीमारी के कारण शाहिद का निधन हुआ था।उन्होंने कहा, ‘सभी खिलाडिय़ों को सरकारी नौकरी नहीं दी जाती, इसलिए अगर हम अंतरराष्ट्रीय पदक विजेताओं के सीमित पूल पर भी विचार करते हैं तो अपने महान हॉकी खिलाडिय़ों में से एक मोहम्मद शाहिद के प्रति उदासीनता जैसी घटनाओं से बच सकते हैं।’






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   9361799
 
     
Related Links :-
भुवी को बाहर रखना बड़ी भूल हरभजन
सबसे अधिक रन बनाने वाले बल्लेबाज बने रैना
डुमिनी ने एक ओवर में 37 रन बनाकर रिकार्ड तोड़ा
न्यूजीलैंड ने पाकिस्तान को 15 रन से हराया
भारतीय अंडर-16 फुटबॉल टीम दुबई दौरे पर रवाना
भारत ने जिम्बाब्वे को 10 विकेट से हराया
बसंत पंचमी पर राज्य स्तरीय मैराथन दौड
विराट कोहली और स्मिथ बने एकदिवसीय और टेस्ट क्रिकेटर ऑफ द ईयर
पब मालिक के खिलाफ हाई कोर्ट पहुंचे गंभीर
खेलमंत्री ने किया ‘खेलो इंडिया गीत’ का शुभारम्भ