समाचार ब्यूरो
03/02/2018  :  09:51 HH:MM
मालदीव की राजनीति में भूचाल
Total View  339

माले मालदीव सुप्रीम कोर्ट ने अपने एक ऐतिहासिक फैसले में पूर्व राष्ट्रपति मोहम्मद नशीद को आतंकवाद के आरोपों से बरी कर दिया है। मालदीव की सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में राजनीतिक बंदियों की रिहाई का आदेश दिया है। सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले के बाद लंदन में निर्वासित जीवन बिता रहे नशीद और उनके समर्थकों की रिहाई का रास्ता साफ हो गया है। ज्ञात हो कि नशीद को तख्ता पलट के माध्यम से 2012 में सत्ता से बेदखल कर दिया गया था।

सुप्रीम कोर्ट के इस आदेश के बाद मालदीव की राजनीति में तूफान आ गया है। सुप्रीम कोर्ट ने उन 12 सांसदों को फिर से बहाल कर दिया है, जो पिछले साल विपक्ष में शामिल हो गए थे। इसके साथ ही विपक्ष को संसद में बहुमत मिल गया है। मालदीव की संसद को राष्ट्रपति यमीन को हटाने का अधिकार है। नशीद और उनके समर्थक राष्ट्रपति अब्दुल्ला यमीन से इस्तीफे की मांग कर रहे हैं। इस बीच पुलिस ने जश्न मना रहे नशीद समर्थकों पर देर रात लाठीचार्ज किया और आंसू गैस के गोले छोड़े। राष्ट्रपति यमीन ने देश के पुलिस प्रमुख को पद से हटा दिया है। भारत समर्थक समझे जाने वाले नशीद ने ट्वीट कर इस फैसले का स्वागत किया है। उन्होंने कहा मैं सभी राजनीतिक बंदियों की तत्काल रिहाई, नागरिक और राजनीतिक अधिकारों के बहाली के सुप्रीम कोर्ट के फैसले का स्वागत करता हूं।

राष्ट्रपति अब्दुल्ला यमीन अनिवार्य रूप से इस फैसले को मानें और इस्तीफा दें। मैं सभी नागरिकों से अपील करता हूं कि वे संघर्ष से बचें और शांतिपूर्ण राजनीतिक क्रियाकलाप में हिस्सा लें। मीडिया रिपोर्टो के मुताबिक इस फैसले के बाद राष्ट्रपति यमीन ने पुलिस कमिश्नर अहमद आरिफ को बर्खास्त कर दिया है। यही नहीं मालदीव सरकार सुप्रीम कोर्ट के फैसले की वैधता पर भी सवाल उठा रही है। इस बीच मालदीव के प्रभावशाली नेता और पूर्व राष्ट्रपति मौमून अब्दुल गयूम ने भी सुप्रीम कोर्ट के फैसले को पूरी तरह से लागू करने की मांग की है। मालदीव में अमेरिकी राजदूत अतुल केशप ने कहा, च्मैं राजनीतिक बंदियों की रिहाई के मालदीव के सुप्रीम कोर्ट के फैसले का स्वागत करता हूं। मैं सरकार और सुरक्षा बलों से अपील करता हूं कि वे इस फैसले का पालन करें जो देश में लोकतंत्र को बढ़ावा देगा।’






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   6253557
 
     
Related Links :-
37 फिलिस्तीनियों की मौत 1600 से ज्यादा घायल
माल्या को एक और झटका: ब्रिटिश कोर्ट ने माल्या को बताया ‘कानून से भगोड़ा’
ईरानी सुरक्षाबलों ने गोलन में इजराइली ठिकानों पर दागी मिसाइले
मानवता के सामने सबसे बड़ा संकट है परमाणु वैज्ञानिकों-आतंकियों के बीच गठजोड़ : हास्पेल
इजरायल ने ट्रंप का किया समर्थन, चीन ने किया विरोध
वुहान में पीएम मोदी और शी के फैसलों को लागू करेगा चीन
मंगल पर न्यूक्लियर रिएक्टर स्थापित करेगी नासा
अगले सप्ताह जापान की यात्रा पर जाएंगे चीनी पीएम ली क्यांग
लीबिया में चुनाव आयोग कार्यालय पर हमला, 16 लोगों की मौत
ट्रंप से मिलने के पहले उत्तर कोरिया ने तीन अमेरिकियों को किया रिहा