समाचार ब्यूरो
10/02/2018  :  11:57 HH:MM
भारत का प्रतिनिधित्व कर रहे केशवन और जगदीश
Total View  340

ह्रश्वयोंगचांग दक्षिण कोरिया में शीतकालीन ओलंपिक खेल आज से शुरु हो रहे हैं। इसमें भारत सहित 90 से अधिक देशों के खिलाड़ी हिस्सा ले रहे हैं। ल्यूज खिलाड़ी शिवा केशवन और क्रॉस कंट्री स्की खिलाड़ी जगदीश सिंह इन खेलों में भारत का प्रतिनिधित्व करेंगे। केशवन ने 1998 में जापान में नागानो में डेब्यू किया था, तब से यह उनके छठा ओलंपिक खेल होगा।

36 साल के इस खिलाड़ी ने 2002, 2006, 2010 और 2014 शीतकालीन ओलंपिक में भी हिस्सा लिया थ। वहीं जगदीश सिंह पहली बार शीतकालीन खेलों में भारत का प्रतिनिधित्व करेंगे। साल 1998 और 2002 शीतकालीन ओलंपिक में केशवन भारत के भाग लेने वाले एकमात्र खिलाड़ी थ। इससे पहले इटली के तूरीन में 2006 में हुए खेलों में नेहा आहूजा, हीरा लाल (अलपाइन स्कींग) और बहादुर गुप्ता (क्रास-कंट्री स्कींग) ने भाग लिया था। वैंकुवर में 2010 में हुए शीतकालीन खेलें में भारत के तीन सदस्य थे, जिनमें केशवन के साथ जामयांग नामगियाल (अलपाइन स्कींग) और ताशी (क्रास कंट्री स्कींग) भी शामिल थे।

साल 2014 के सोच्ची विंटर ओलंपिक में भी तीन प्रतिनिधि थे जिनमें केशवन के साथ हिमांशु ठाकुर (अलपाइन स्कींग), नदीम इकबाल (क्रांस कंट्री स्कींग) मौजूद थे. हालांकि उस समय भारतीय ओलंपिक फेडरेशन पर सस्पेंशन लगा हुआ था जिससे इस तिकड़ी ने उद्घाटन समारोह में अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति के ध्वज तले स्वतंत्र एथलीट के तौर पर हिस्सा लिया था। सोच्ची खेलों के दौरान ही आईओसी ने आईओए पर से सस्पेंशन हटा दिया था और खेल गांव में तिरंगा फहराया गया था।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   6414972
 
     
Related Links :-
एशियाई खेलों के कोचिंग कैंप से बाहर हुई हरियाणा की फोगाट बहनें
शशांक मनोहर दोबारा बने आईसीसी चेयरमैन
मुंबई और पंजाब के बीच ‘करो या मरो’ का मुकाबला आज
सुशील को कभी डांटने की जरूरत नहीं पड़ी : सतपाल
फुटबाल में भी बेहतर करियर : शेर सिंह चौहान
प्रणीत और समीर आस्ट्रेलियाई ओपन बैडमिंटन के क्वार्टर फाइनल में पहुंच
चेन्नई से राजस्थान रॉयल्स की कड़ी परीक्षा
पट्टीकल्याणा की पहलवान बेटी को किया गया सम्मानित
हरियाणा में लड़कियों को ज्यादा सुविधाएं मिल रही है : मनु भाकर
पंजाब के दो पावर लिटरों ने जीते स्वर्ण पदक