समाचार ब्यूरो
23/02/2018  :  15:54 HH:MM
हलाली डैम स्थित गौशाला में 545 दिनों में 2948 गायों की मौत
Total View  58

रायसेन जिले के हलाली डैम के पास बृजमोहन रामकली गौशाला में प्रतिदिन औसतन 5 से 6 गायें मर रही हैं। किंतु शासन का ध्यान इस ओर नहीं है। जिला वेटरनरी अधिकारी द्वारा 23 फरवरी 2016 से 19 फरवरी 2018 के बीच रजिस्टर का अवलोकन किया। इस गौशाला में 545 दिनों में 3544 गोवंश की आवक हुई।

जिसमें से 2948 गोवंश की इसी बीच में मौत हो गई। हर दिन 5 से 6 गोवंश की मौत होने से पशु चिकित्सक भी हैरान हैं। रायसेन जिले के उपसंचालक ने 19 फरवरी को गौशाला का निरीक्षण किया। इस निरीक्षण के दौरान गौशाला में लगभग 55 गोवंश की लाश उन्हें मिली। इस मामले में कोई भी खुलकर अपनी बात नहीं कह
रहा है। वेटनरी डॉक्टर का मानना है, कि मवेशी की हड्डियों चमड़े, आंत, चर्बी, सींग, रक्त और पेट से निकलने वाले महत्वपूर्ण पदार्थ और गोवंश का मांस इस गौशाला से बेचा जा रहा है। रायसेन जिले की हलाली डैम की गौशाला में इतने बड़े पैमाने पर गोवंश के मरने से गौरक्षकों की निष्ठा पर भी संदेह उत्पन्न होने लगे हैं। इतनी
बड़ी मात्रा में यदि गोवंश की मौत हो रही है। वह भी गौशाला में तो इसकी जिम्मेदारी आखिर किसकी है। इस गौशाला में चारा, पानी, शेड इत्यादि की व्यवस्था भी नहीं है। इसके बाद भी इतने बड़े पैमाने पर वहां पर गोवंश रखे जाने और उनकी देखरेख नहीं करने वाले दोषियों पर सरकार द्वारा अभी तक कोई कार्यवाही क्यों नहीं की गई।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   2283214
 
     
Related Links :-
मुख्यमंत्री 25 को करेंगे खसरा-रूबैला टीकाकरण अभियान की शुरूआत
फंगल सक्रंमण देश के स्वास्थ्य सेवा के लिए एक महत्वपूर्ण चुनौती
उत्तरांचल हीरोज और स्प्रिंग होप मिलकर कैंसर से लड़ेंगे!
मनुष्य के शरीर में आंखें वह अंग हैं जिसका अधिक उपयोग किया जाता है: डॉ. रावल
अमेरिका में आयोजित विश्व बैठक में वेपिंग भारत का करेगा प्रतिनिधित्व
महिलाओं को खुद स्वास्थ्य पर ध्यान देना चाहिए
सेंधा नमक से निखरेगी त्वचा
फरीदाबाद में कैंसर से हुई सर्वाधिक मौत
एम्स से संसद तक मार्च के लिए आज जुटेंगे 10 हजार डॉक्टर
रक्तदान की मुहिम को जन आंदोलन बनाने का आहवान