समाचार ब्यूरो
07/03/2018  :  13:02 HH:MM
फरीदाबाद में कैंसर से हुई सर्वाधिक मौत
Total View  440

चंडीगढ़ हरियाणा में प्रत्येक दो घंटे में कैंसर से एक व्यक्ति की मौत हो रही है। प्रदेश में लगातार यह तीसरा साल है जब कैंसर से मरने वालों की संख्या में अभूतपूर्व वृद्धि दर्ज की गई है। हरियाणा सरकार ने मंगलवार को विधानसभा के पटल पर पिछले तीन वर्षों के दौरान कैंसर से होने वाली मौत के संबंध में अपनी रिपोर्ट पेश की है। जिसमें कई चौंका देने वाले तथ्य सामने आए हैं।
अब तो हालात यह हो गए हैं कि पंजाब की तर्ज पर कैंसर पीडि़तों को सीधे सहायता राशि प्रदान करने की मांग भी उठने लगी है। विधानसभा में जुलाना के विधायक परमिंदर सिंह ढुल्ल द्वारा उठाए गए सवाल के जवाब में स्वास्थ्य मंत्री ने रिपोर्ट पेश करते हुए यह स्वीकार किया है कि वर्तमान हालातों में प्रदेश का कोई भी जिला ऐसा नहीं है जहां कैंसर की बीमारी ने अपने पांव नहीं पसारे हों। रिपोर्ट में कहा गया है कि पंजाब के सीमावर्ती जिलों के साथ-साथ राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के अंतर्गत आते जिलों में भी कैंसर अचानक बड़ी तेजी से फैल रहा है। रिपोर्ट के अनुसार वर्ष 2015 में कैंसर के कारण जहां प्रदेश में कुल 3380 मौत हुई थी वहीं 2016 में यह आंकड़ा बढक़र 378 2 तक पहुंच गया और पिछले साल हरियाणा में कैंसर से मरने वालों की संख्या का आंकड़ा 4592 दर्ज किया गया है। इस साल भी जनवरी माह के दौरान हरियाणा में कैंसर के कारण 337 लोगों की मौत हो चुकी है।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   456699
 
     
Related Links :-
शिक्षा के साथ-साथ स्वास्थ जरूरी: रेनू सिंह
आर्य वीर नेत्र चिकित्सालय के कार्य सराहनीय :उमेश अग्रवाल
गंदगी में तब्दील हो चुके तालाब को पाईट कॉलेज बनाएगा सुंदर झील
लोग नशे जैसी कुरितियों को छोडक़र बच्चों को शिक्षा के लिए प्रेरित करे : सत्यदेव आर्य
जीवन के लिए वरदान है इलैक्ट्रोहोमयोपैथी: जीएल शर्मा
हील टोक्यो भारत में नि:शुल्क हीलिंग केंद्र खोलेगा
4 जनवरी से चालू है स्वच्छ सर्वेक्षण-2019 अन्य शहर की तरह गुरूग्राम शहर भी स्वच्छ सर्वेक्षण में ले रहा है हिस्सा
जन आरोग्य योजना : आयुष्मान भारत के तहत निर्धन परिवारों को 5 लाख तक का नि:शुल्क इलाज लाभार्थियों को मिला पीएम का संदेश पत्र
मेयर मधु आजाद ने नागरिकों को भेंट किए डस्टबिन
प्राइवेट अस्पतालों में भी मिल रहा है 5 लाख का मुफ्त इलाज