Breaking News
लघू सचिवालय के सभागार में डिजीटल हरियाणा कार्यशाला  |  बच्चों की सुरक्षा से कोई समझौता नहीं, सभी मामलों पर कड़ा संज्ञान लिया : जस्टिस मित्तल  |  अनाधिकृत निर्माणों, अतिक्रमण और विज्ञापनों के खिलाफ निगम की कार्रवाई जारी  |  जीवन में भी धार्मिक परंपराओं का विशेष महत्व : उमेश अग्रवाल  |  डिजीटल हरियाणा कार्यशाला का होगा आयोजन हरपथ ऐप पर प्राप्त शिकायतों के निपटारे के लिए अधिकारियों को मिलेगा प्रशिक्षण  |  रोटरी दिवस पर क्लब ने लगाया रक्तदान शिविर  |  बच्चों को प्रेरणा व जागरूक करने के लिए सेमिनार  |  बेहतर भविष्य के लिए सामाजिक ताने-बाने को मजबूत करना होगा: जस्टिस मित्तल  |  
 
 
समाचार ब्यूरो
07/03/2018  :  13:18 HH:MM
लेनिन की मूर्ति पर घमासान, लेफ्ट हुआ लाल
Total View  379

अगरतला त्रिपुरा के बेलोनिया टाउन में कॉलेज स्क्वेयर स्थित रूसी क्रांति के नायक व्लादिमीर लेनिन की मूर्ति गिराने और उसके बाद शुरू हुई हिंसा पर पूरा लेफ्ट लाल हो गया है। घटना पर सभी वामपंथी दलों ने कड़ी नाराजगी जताते हुए बीजेपी पर डर फैलाने का आरोप लगाया है।
बीजेपी की सहयोगी जेडीयू के सांसद हरिवंश ने भी इस तरह की घटना की निंदा की है। सीपीआई नेता डी. राजा ने कहा, मैं इस हिंसा की कड़ी निंदा करता हूं, यह लोकतंत्र में स्वीकार्य नहीं है। हम एक बहुपक्ष लोकतंत्र हैं, कुछ पार्टियां जीतती हैं और कुछ हार जाती हैं। इसका यह कतई मतलब नहीं है कि वे बर्बरता हिंसा का सहारा ले सकते हैं। कानून को कड़ा रुख अपनाने की जरूरत है। वहीं सीपीएम नेता सीताराम येचुरी ने कहा, त्रिपुरा में जो हिंसा हो रही है, ये स्पष्ट है कि आरएसएस-बीजेपी का रुझान क्या है। हिंसा के अलावा उनका राजनीतिक भविष्य कुछ है नहीं। त्रिपुरा की जनता इसका जवाब देगी। सीपीएम ने लेनिन की मूर्ति तोडऩे की घटना पर ट्विटर पर लिखा, त्रिपुरा में चुनाव जीतने के बाद हुई हिंसा प्रधानमंत्री के लोकतंत्र पर भरोसे के दावों का मजाक उड़ाती है। त्रिपुरा में वामपंथी और उनके समर्थकों के बीच डर और असुरक्षा की भावना फैलाने की कोशिश की जा रही है। केन्द्र व बिहार में बीजेपी की सहयोगी पार्टी जेडीयू के सांसद हरिवंश ने कहा, यह गलत है, इस राष्ट्र के लोग अलग-अलग विचारधाराओं में विश्वास रखते हैं। यह सही है कि शासन समाप्त होने के बाद रूस में भी लेनिन की सभी मूर्तियों को नष्ट कर दिया गया था। लेकिन भारत, रूस नहीं है। लेनिन 1970 में गरीबों के लिए एक बड़ी क्रांति लाए थे। हालांकि लेनिन पर बोलते हुए जेडीयू सांसद की जुबान फिसल गई और वह 1917 की जगह 1970 बोल गए।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   8948301
 
     
Related Links :-
लघू सचिवालय के सभागार में डिजीटल हरियाणा कार्यशाला
बच्चों की सुरक्षा से कोई समझौता नहीं, सभी मामलों पर कड़ा संज्ञान लिया : जस्टिस मित्तल
जीवन में भी धार्मिक परंपराओं का विशेष महत्व : उमेश अग्रवाल
डिजीटल हरियाणा कार्यशाला का होगा आयोजन हरपथ ऐप पर प्राप्त शिकायतों के निपटारे के लिए अधिकारियों को मिलेगा प्रशिक्षण
बच्चों को प्रेरणा व जागरूक करने के लिए सेमिनार
बेहतर भविष्य के लिए सामाजिक ताने-बाने को मजबूत करना होगा: जस्टिस मित्तल
शहीदों की शहादत को भुलाया नहीं जा सकता : कविता जैन
अमित शाह रामलीला मैदान से 23 को फूंकेंगे चुनावी बिगुल
आतंकियों की धमकी से घबराए छह पुलिस जवानों ने दिए इस्तीफे गृह मंत्रालय ने किया खंडन, बताया भ्रामक और गलत सूचना
भारत-पाक के बीच होने वाली वार्ता रद्द भारत ने कहा-सामने आया इमरान का असली चेहरा