समाचार ब्यूरो
18/03/2018  :  13:59 HH:MM
बेअंत सिंह हत्या : पुलिस ने ऐसे ट्रेस किए थे हत्यारे, फिर चला था ट्रायल
Total View  379

पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री बेअंत सिंह हत्याकांड मामले में आतंकी जगतार सिंह तारा को चंडीगढ़ की बुड़ैल जेल में लगी सीबीअई की अदालत ने आजीवन कारावास की सजा सुनाई है। तारा ने 25 जनवरी को अपना गुनाह कबूल किया था। इस मौके पर आपको बताने जा रहे हैं कि कैसे पूरी घटना को अंजाम दिया गया था..

 अगस्त 1995: पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री बेअंत सिंह की पंजाब और हरियाणा सचिवालय के बाहर दिलावर सिंह नामक आदमी का मानव बम बनाकर हत्या कर दी गई। इस ब्लास्ट में 17 अन्य लोगों की मौत हो गई थी। सितंबर 1995: मामले में चंडीगढ़ की पुलिस ने दिल्ली के पंजीकरण नंबर वाली एक लावारिस एंबेसडर कार बरामद की। छानबीन के बाद सुरागों के आधार पर लखविंदर सिंह नाम के व्यक्ति की गिरफ्तारी की गई।

सितंबर 1995: लखविंदर सिंह से पूछताछ के बाद पुलिस ने बीपीएल कंपनी के एक इंजीनियर गुरमीत सिंह को भी गिरफ्तार कर लिया। 19 फरवरी 1996: चंडीगढ़ की सत्र अदालत में तीन भगोड़ों सहित 12 लोगों के खिलाफ चालान दायर किया गया।

19 फरवरी 1996: तीन एनआरआई मंजीन्दर सिंह ग्रेवाल (इंग्लैंड), रेशम सिंह (जर्मनी) और हरजीत सिंह (अमेरिका) को फरार घोषित किया गया।

30 अप्रैल 1996: चंडीगढ़ की जिला और सत्र अदालत में कुल नौ लोगों के खिलाफ मुकदमा दायर किया गया। इनमें गुरमीत सिंह, नसीब सिंह, झिंगारा सिंह, लखविंदर सिंह, नवजोत सिंह, जगतार सिंह तारा, शमशेर सिंह, जगतार सिंह हवारा और बलवंत सिंह शामिल थे। इसके अलावा तीन लोगों महाल सिंह, वधवा सिंह और जगरूप सिंह को फरार घोषित किया गया।

जून 1998: बुड़ैल जेल ब्रेक की पहली घटना को जेल कर्मचारियों ने समय रहते नाकाम कर दिया। आरडीएक्स और डीटोनेटर जैसे कई विस्फोटक पदार्थ बरामद किए गए। 22 जून 2004: बुड़ैल जेल ब्रेक की घटना को अंजाम दिया गया और नौ आरोपियों में से तीन भागने में सफल हुए। जिनमें जगतार सिंह तारा भी शाामिल था।

8 जून 2005: दिल्ली के सिनेमाघर में विस्फोट के बाद हुई गिरफ्तारियों में जगतार सिंह हवारा को दिल्ली पुलिस की विशेष शाखा ने फिर से गिरफ्तार कर लिया।

27 जुलाई 2007: छह आरोपियों जगतार सिंह हवारा, बलवंत सिंह, गुरमीत सिंह, लखविंदर सिंह, शमशेर सिंह और नसीब सिंह को दोषी करार दिया गया और नवजोत सिंह को दोषमुक्त किया गया।

31 जुलाई 2007: जगतार सिंह हवारा और बलवंत सिंह को मौत की सजा दी गई। वहीं गुरमीत सिंह, लखविंदर सिंह और शमशेर सिंह को उम्रकैद और नसीब सिंह को 10 साल कैद की सजा दी गई।

12 अक्टूबर 2010: पंजाब और हरियाणा उच्च न्यायालय ने जगतार सिंह हवारा के मृत्युदंड को उम्रकैद में तब्दील किया और बलवंत सिंह की मौत की सजा को बरकरार रखा। तीन अन्य आरोपियों शमशेर सिंह, गुरमीत सिंह और लखविंदर सिंह की उम्रकैद की सजा को बरकरार रखा।

6 जनवरी 2014 : करीब 10 साल बाद दिसंबर 2014 में इंटरपोल की मदद से जगतार सिंह तारा को भारतीय एजेंसियां और थाईलैंड की एजैंसी के साथ जॉइंट ऑपरेशन से गिरफ्तार किया गया।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   6619015
 
     
Related Links :-
गैर-पंजीकृत टैंकरों पर कानूनी अधिनियमों के तहत कार्रवाई होग
अतिक्रमण मुक्त सडक़- फुटपाथ अभियान जारी
अनाधिकृत निर्माणों, अतिक्रमण और विज्ञापनों के खिलाफ निगम की कार्रवाई जारी
पूर्व कांग्रेसी विधायक पर 1984 सिख कत्लेआम की गवाह को खरीदने के लगे आरोप
कांग्रेस पर बूथ कैह्रश्वचरिंग के लगे आरोप
हरियाणा को फिर किया शर्मसार
दहेज उत्पीडऩ केस में सुप्रीम कोर्ट ने पलटा खुद का निर्णय सेफगार्ड किया खत्म
गैर मान्यता प्राप्त निजी स्कूलों के प्रति हाईकोर्ट का रुख सख्त
पुलिस ने चलाया चेकिंग अभियान
सोनीपत में गौतस्करी के आरोप में युवक की पिटाई कर किया आधे सिर का मुंडन