समाचार ब्यूरो
20/03/2018  :  16:15 HH:MM
मुल्क की हिफाजत में महिलाओं की बराबर की भागीदारी
Total View  349

अभी हाल ही में भारतीय जमीनी, हवाई और पानी की सेनाओं ने कुछ खुसूसी दर्जों में जो कि अभी तक केवल पुरुषों के लिए आरक्षित थे, महिलाओं को भर्ती के लिए दरवाजे खोल दिए हैं ।यह दिखाता है कि मुल्क महिलाओं के सशक्तिकरण के लिए तेजी से आगे बढ़ रहा है। हमारे मुल्क में कहा जाता है कि जिस घर में नारी का सम्मान होता है वहां हमेशा लक्ष्मी बरसती है और खुशहाली रहती है।
पुराने समय में भी महिलाओं को ऊंचा दर्जा मिला हुआ था और आजादी की लड़ाई में हमें झांसी की रानी- लक्ष्मीबाई ,चांद बीबी, अहिल्याबाई, भीकाजी कामा इत्यादि के योगदान को भुलाना नहीं चाहिए। आजादी के बाद भी औरतों ने मुल्कों को आगे ले जाने में अपना योगदान दिया है। इसके बावजूद अभी महिलाओं के सशक्तिकरण के लिए बहुत गुंजाइश है ।अब तक महिलाएं जो की आबादी का लगभग आधा हिस्सा है ,पूरे तौर पर पुरुषों के साथ बराबरी से कंधे से कंधा मिलाकर आगे नहीं आ पाई हैं । कुछ पुरानी और पिछड़ी मानसिकता के लोग औरतों को पुरुषों के बराबर नहीं मानते। उनकी यह जि़द इस कारण है कि वह महिलाओं से ज्यादा ताकतवर है और उनमें ज्यादा क्षमता है।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   779075
 
     
Related Links :-
बी.एस.एफ. ने मनाया चौथा ‘अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस’
यूपी में टी-शर्ट पहनकर सीएम योगी ने किया योग, राजनाथ भी रहे मौजूद
योग का प्राचीन विज्ञान भारत का आधुनिक विश्व को अमूल्य उपहार : उपराष्ट्रपति नायडू
योग हमारी प्राचीन जीवन पद्धति है : रमन मलिक
कबीर जयंती 28 को सरकारी तौर पर उत्सव की तरह मनायी जाएगी
मंत्री और आला अधिकारी बताएंगे विभागों की उपलब्धिया
फिर से विश्व गुरू बनने की राह पर है भारत : कविता जैन
बांध सुरक्षा विधेयक के प्रस्ताव को मोदी कैबिनेट से स्वीकृति
कांग्रेस ने की केंद्र सरकार की घेराबंदी
आईटीआई प्रशिक्षण पास आऊट युवाओं से आह्वïान