समाचार ब्यूरो
20/03/2018  :  16:15 HH:MM
मुल्क की हिफाजत में महिलाओं की बराबर की भागीदारी
Total View  351

अभी हाल ही में भारतीय जमीनी, हवाई और पानी की सेनाओं ने कुछ खुसूसी दर्जों में जो कि अभी तक केवल पुरुषों के लिए आरक्षित थे, महिलाओं को भर्ती के लिए दरवाजे खोल दिए हैं ।यह दिखाता है कि मुल्क महिलाओं के सशक्तिकरण के लिए तेजी से आगे बढ़ रहा है। हमारे मुल्क में कहा जाता है कि जिस घर में नारी का सम्मान होता है वहां हमेशा लक्ष्मी बरसती है और खुशहाली रहती है।
पुराने समय में भी महिलाओं को ऊंचा दर्जा मिला हुआ था और आजादी की लड़ाई में हमें झांसी की रानी- लक्ष्मीबाई ,चांद बीबी, अहिल्याबाई, भीकाजी कामा इत्यादि के योगदान को भुलाना नहीं चाहिए। आजादी के बाद भी औरतों ने मुल्कों को आगे ले जाने में अपना योगदान दिया है। इसके बावजूद अभी महिलाओं के सशक्तिकरण के लिए बहुत गुंजाइश है ।अब तक महिलाएं जो की आबादी का लगभग आधा हिस्सा है ,पूरे तौर पर पुरुषों के साथ बराबरी से कंधे से कंधा मिलाकर आगे नहीं आ पाई हैं । कुछ पुरानी और पिछड़ी मानसिकता के लोग औरतों को पुरुषों के बराबर नहीं मानते। उनकी यह जि़द इस कारण है कि वह महिलाओं से ज्यादा ताकतवर है और उनमें ज्यादा क्षमता है।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   4311073
 
     
Related Links :-
सिविल सेवा परीक्षा 2017 में चयनित उम्मीदवारों का होगा सम्मान
मलशोधन परियोजनाओं के विस्तार और जल शोधन प्रतिक्रियाओं को सहयोगा देगा केंद्र
विधायक उमेश अग्रवाल ने खुलवाई नगर निगम की सील की गई दुकाने
शिक्षा के स्तर में सुधार के लिए शिक्षा व नवाचार परिषद का गठन : विनय सिंह
परमाणु ऊर्जा : राष्ट्र की ऊर्जा विषय पर निबंध लेखन
गुरुग्राम-फरूखनगर ब्लॉको को शैक्षणिक रूप से सक्षम बनाने के लिए किया चिन्ह्ति
‘बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ’ अभियान के तहत जागरूकता कार्यक्रम
एसवाईएल निर्माण पर दोनों बड दलों ने राजनीति की है : चौटाला
25 जून से 1 जुलाई तक सभी जिलों में कार्यक्रम
निराकरण के लिए एकजुट प्रयास जरूरी : उपायुक्त