समाचार ब्यूरो
29/03/2018  :  10:03 HH:MM
हरियाणा की बेटी पैनी ने मुंबई में ली आखिऱी सांस
Total View  397

करनाल इंडियन कोस्ट गार्ड में कार्यरत करनाल की बेटी पैनी चौधरी ने मुंबई के नेवी हॉस्पिटल में दम तोड़ दिया। वो 10 मार्च को इंडियन कोस्ट गार्ड के हेलीकाह्रश्वटर की इमरजेंसी लैंडिंग में बुरी तरह से घायल हो गई थी। उसे इलाज़ के लिए नेवी के हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था।

वो हादसे के बाद से ही कोमा में चली गई थी। जैसे ही कल करनाल की बहादुर बेटी पैनी चौधरी की मौत की खबर करनाल में रिस्तेदारों और परिवार के लोगों को लगी तो परिवार में मातम छा गया। 10 मार्च को इंडियन तटरक्षक हेलीकॉह्रश्वटर जो रायगढ़ जिले के आसपास दुर्घटनाग्रस्त हो गया था। जिसमें करनाल की रहने वाली पैनी चौधरी भी शामिल थी। पैनी चौधरी की संघर्ष के बाद कल मृत्यु हो गई। कैह्रश्वटन चौधरी ने सबसे पहले क्रैश हेलीकॉह्रश्वटर से उतरने वाले प्रयास किया लेकिन हेलीकॉह्रश्वटर का रोटर ब्लेड जो कि धीमीं गति से घूम रहा था पैनी चौधरी के हेलमेट पर जा टकराया, जिससे वो बुरी तरह से घायल हो गई।जब हेलीकाह्रश्वटर
इंजन बंद हो गया, तो पायलट और सह-पायलट ने समुद्र में गिरने से रोकने के लिए हेलिकॉह्रश्वटर को घुमाने के लिए रोटर के मूवमेंट का इस्तेमाल किया। उन्होंने हेलीकॉह्रश्वटर को समुद्र तट के रेतीले हिस्से पर उतारने की कोशिश की, लेकिन यह नहीं हो सका और हेलीकॉह्रश्वटर एक चट्टानी पैच पर उतरा और
दुर्घटनाग्रस्त हो गया।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   4730566
 
     
Related Links :-
बदइंतजामी और लापरवाही का दर्दनाक परिणाम है अमृतसर की घटना : गोयल
प्रजा को संतुष्ट रखने के लिए उन्होंने मां सीता को अग्नि परीक्षा देने के लिए कहा श्री राम के लिए परिवार से बड़ा राजधर्म : अलका गौरी
महिलाओं का उत्पीडऩ करने वाले रावण रूपी राक्षसों का अन्त जरूरी : रविन्द्र जैन
रोडवेज कर्मचारियों के समर्थन में कटोरा लेकर निकलेंगे नवीन जयहिंद
नवजोत सिद्धू के बचाव में आए पूर्व रेल मंत्री बंसल
जलनिकासी के कार्य की समीक्षा बैठक में बोले कृषि मंत्री जलभराव की समस्या से निपटने के लिए तेजी लाएं : धनखड
एसएफआई जिला कमेटी ने काली पट्टी बांध कर जताया रोष
रेल दुर्घटना को लेकर स्‍थानीय लोगों में रोष
राजनीति के भेंट चढ़े सुलगते सवाल
पूर्णाहूति के साथ सम्पन्न हुआ रामकथा महोत्सव