समाचार ब्यूरो
05/04/2018  :  09:48 HH:MM
मनुष्य के शरीर में आंखें वह अंग हैं जिसका अधिक उपयोग किया जाता है: डॉ. रावल
Total View  439

गीता मार्डन स्कूल में आखों की निशुल्क चैकअप कैंप स्कूल के मुख्यायापक विजय शर्मा की देखरेख में लगाया गया। इस दौरान आखे चैक कराने वाले लोगों को दवााईयां निशुल्क वितरण की गई। कैंप में 400 लोगों नें आखों की जांच करवाए। आंखों के बिना किसी कार्य को करने में हम असमर्थ हैं।

मनुष्य के शरीर में आंखें वह अंग हैं जिसका सबसे अधिक उपयोग किया जाता है। आंखें वह इन्द्रियां होती हैं जिसके कारण ही हम वस्तुओं को देख सकते हैं। हमारे शरीर की समस्त ज्ञानेन्द्रियों में आंखें सबसे प्रमुख ज्ञानेन्द्रियां हैं। कैंप में सोनीपत के रावल हस्पताल के डाक्टर आशीष रावल ने टीम सहित सेवाएं प्रदान की।
कैंप में डॉ. रावल ने लोगों को जागरूक करते हुए कहा कि इस तरह के कैंपों का उदे्श्य उन लोगों को आखों की रोशनी प्रदान करना है, जो देखने में असमर्थ है तथा महंगे इलाज का खर्च सहन नें कर सकते। डॉ. रावल ने मरीजों से आंखों की सुरक्षा के लिए बताया कि आखों के रोगों से बचने के लिए सबसे उत्तम उपाय साफ
रहना, सफाई के प्रति सावधानी बरतना और पासपड ़ोस को साफ-सुथरा रखना है। रोगी के प्रतिदिन काम आने वाले के लिए रूमाल और वस्त्रों को जब तक अच्छी तरह साफ न कर लें, दूसरों के कपड़ों के साथ न मिलाएं, भीड़-भाड़ से बचकर रहें। इस मौके पर नेहा, पवित्रा, अनिल मित्तल, काजल, रीतू, ममता, सपना, सीमा ने अपनी सेवाएं प्रदान की।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   945501
 
     
Related Links :-
शिक्षा के साथ-साथ स्वास्थ जरूरी: रेनू सिंह
आर्य वीर नेत्र चिकित्सालय के कार्य सराहनीय :उमेश अग्रवाल
गंदगी में तब्दील हो चुके तालाब को पाईट कॉलेज बनाएगा सुंदर झील
लोग नशे जैसी कुरितियों को छोडक़र बच्चों को शिक्षा के लिए प्रेरित करे : सत्यदेव आर्य
जीवन के लिए वरदान है इलैक्ट्रोहोमयोपैथी: जीएल शर्मा
हील टोक्यो भारत में नि:शुल्क हीलिंग केंद्र खोलेगा
4 जनवरी से चालू है स्वच्छ सर्वेक्षण-2019 अन्य शहर की तरह गुरूग्राम शहर भी स्वच्छ सर्वेक्षण में ले रहा है हिस्सा
जन आरोग्य योजना : आयुष्मान भारत के तहत निर्धन परिवारों को 5 लाख तक का नि:शुल्क इलाज लाभार्थियों को मिला पीएम का संदेश पत्र
मेयर मधु आजाद ने नागरिकों को भेंट किए डस्टबिन
प्राइवेट अस्पतालों में भी मिल रहा है 5 लाख का मुफ्त इलाज