समाचार ब्यूरो
10/04/2018  :  17:04 HH:MM
भारत ने पांचवें दिन जीते तीन स्वर्ण
Total View  341

राष्ट्रमंडल खेलों में पांचवें दिन भारत ने पहली बार बैडमिंटन में स्वर्ण जीतकर इतिहास रचा है। इन खेलों में पहली बार भारत को बैडमिंटन में स्वर्ण मिला है। इसके अलावा पुरुष टेबल टेनिस टीम को भी स्वर्ण मिला है। निशानेबाजी में जीतू राय ने स्वर्ण जीता जबकि ओम मिथारवल ने कांस्य हासिल किया। भारोत्तोलन में प्रदीप सिंह ने रजत जीता। इस प्रकार भारत के कुल स्वर्ण पदकों की तादाद 19 हो गयी है। जिसमें 10 स्वर्ण, 4 रजत और पांच कांस्य पदक शामिल हैं। इस प्रकार पदक तालिका में भारत तीसरे नंबर पर कायम है।

निशानेबाजी

भारत के अनुभवी निशानेबाज जीतू राय ने पांचवें दिन भारत की शुंरुआत स्वर्ण पदक के साथ की। इस प्रकार भारत को आठवां स्वर्ण मिला है। यहां के बेलमोंट निशानेबाजी सेंटर में आयोजित पुरुषों की 10 मीयर एयर पिस्टल निशानेबाजी स्पर्धा के फाइनल में जीतू ने स्वर्ण पर निशाना लगाया। जीतू को फाइनल में कुल 235.1 अंक मिले। इसके साथ ही उन्होंने इस स्पर्धा का नया रिकॉर्ड भी अपने नाम किया है। वहीं भारत के ही एक अन्य निशानेबाज ओम मिथारवल ने कांस्य पदक हासिल किया। मिथारवल ने 214.3 अंकों के साथ कांस्य पदक जीता। रजत पदक ऑस्ट्रेलिया के कैरी बेल को मिला। बेल को कुल 233.5 अंक मिले।

भारोत्तोलन

भारोत्तोलन में भारत का दबदबा बरकरार है। पांचवें दिन प्रदीप सिंह ने 105 किलोग्राम भारवर्ग में रजत पदक जीता। प्रदीप ने कुल 352 किलोग्राम (152 किलोग्राम स्नैच और 200 किलोग्राम क्लीन ऐंड जर्क) में उठाकर भारत को यह 9वां पदक दिलाया। भारत ने अभी तक भारोत्तोलन में कुल पांच स्वर्ण, दो रजत और दो कांस्य पदक जीतकर अपनी ताकत दिखाई है। प्रदीप की शुरुआत स्नैच में अच्छी नहीं रही। उनका पहला प्रयास विफल रहा और वह 148 किलोग्राम भार नहीं उठा पाए। वहीं दूसरे प्रयास में वह इतना भार उठाने में कामयाब रहे। अपने तीसरे प्रयास में वह चार किलो अधिक उठाने में सफल रहे। उन्होंने इस बार 152 किलो भार उठाया। स्नैच राउंड के बाद वह दूसरे स्थान पर रहे। वहीं दूसरी ओर क्लीन ऐंड जर्क में उन्होंने आसानी से 200 किलोग्राम का भार उठाया। यह उनके पर्सनल बेस्ट 196 किलोग्राम से चार किलो ज्यादा था। इसके बाद उन्होंने अगले प्रयास में कामयाबी से 209 किलोग्राम भार उठाने की कोशिश की परन्तु वह इसमें सफल नहीं हो पाए। आखिरी प्रयास में उन्होंने 211 किलोग्राम भार उठाकर स्वर्ण पदक का प्रयास किया लेकिन इसमें भी वह असफल रहे। इस वर्ग में समोआ के सानेली माओ ने स्वर्ण जीता। उन्होंने 360 (स्नैच में 154 और क्लीन एंड जर्क में 206) किग्रा वजन उठाया जबकि इंग्लैंड के ओवन बोक्सआल को कांस्य मिला। उन्होंने 351 (स्नैच में 152 और क्लीन एंड जर्क में 199) किगा्र वजन उठाया।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   4359982
 
     
Related Links :-
गोस्वामी गणेश दत्त क्रिकेट : रामपाल अकादमी प्री-क्वार्टर फ ाइनल में
एशियाई खेलों के कोचिंग कैंप से बाहर हुई हरियाणा की फोगाट बहनें
शशांक मनोहर दोबारा बने आईसीसी चेयरमैन
मुंबई और पंजाब के बीच ‘करो या मरो’ का मुकाबला आज
सुशील को कभी डांटने की जरूरत नहीं पड़ी : सतपाल
फुटबाल में भी बेहतर करियर : शेर सिंह चौहान
प्रणीत और समीर आस्ट्रेलियाई ओपन बैडमिंटन के क्वार्टर फाइनल में पहुंच
चेन्नई से राजस्थान रॉयल्स की कड़ी परीक्षा
पट्टीकल्याणा की पहलवान बेटी को किया गया सम्मानित
हरियाणा में लड़कियों को ज्यादा सुविधाएं मिल रही है : मनु भाकर