समाचार ब्यूरो
11/04/2018  :  09:47 HH:MM
संसद में विपक्ष के हंगामे के विरोध में मोदी 12 को रखेंगे उपवास
Total View  378

नई दिल्ली प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने विपक्ष पर विभाजनकारी राजनीति करने का आरोप लगाया और संसद में गतिरोध के लिए कांग्रेस को जिम्मेदार ठहराया। मोदी ने घोषणा की कि भाजपा सांसद इसके विरोध में 12 अप्रैल को देशभर में अनशन करेंगे. वहीं प्रधानमंत्री बजट सत्र में विपक्ष द्वारा संसद की कार्यवाही नहीं चलने देने के विरोध में 12 अप्रैल को दिनभर का उपवास करेंगे. जबकि, भाजपा अध्यक्ष अमित शाह उसी दिन कर्नाटक के हुबली में धरना देंगे।
सूत्रों ने बताया कि उपवास रखने के दौरान मोदी लोगों और अधिकारियों से मिलने और फाइलों को मंजूरी देने के अपने दैनिक नियमित आधिकारिक कामकाज में कोई बदलाव नहीं करेंगे. भाजपा सांसदों को शुक्रवार को संबोधित करते हुए मोदी ने विपक्ष और खासतौर पर कांग्रेस पर विभाजनकारी राजनीति करने का आरोप लगाया था। उन्होंने कहा कि संसद में गतिरोध के विरोध में भाजपा सांसद 12 अप्रैल को उपवास रखेंगे। कांग्रेस ने भाजपा के कार्यक्रम से पहले ही देश में सांप्रदायिक सद्भाव को बढ़ावा देने के लिये नौ अप्रैल को पार्टी सदस्यों के एक दिन का उपवास रखने की घोषणा कर दी थी. भाजपा के सभी सांसद 12 अप्रैल को अपने-अपने संसदीय क्षेत्रों में उपवास रखेंगे. पार्टी अध्यक्ष अमित शाह उसी दिन कर्नाटक के हुबली में धरना देंगे। गौरतलब है कि कर्नाटक में 12 मई को विधानसभा चुनाव होने वाले हैं।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   852648
 
     
Related Links :-
बदइंतजामी और लापरवाही का दर्दनाक परिणाम है अमृतसर की घटना : गोयल
प्रजा को संतुष्ट रखने के लिए उन्होंने मां सीता को अग्नि परीक्षा देने के लिए कहा श्री राम के लिए परिवार से बड़ा राजधर्म : अलका गौरी
महिलाओं का उत्पीडऩ करने वाले रावण रूपी राक्षसों का अन्त जरूरी : रविन्द्र जैन
रोडवेज कर्मचारियों के समर्थन में कटोरा लेकर निकलेंगे नवीन जयहिंद
नवजोत सिद्धू के बचाव में आए पूर्व रेल मंत्री बंसल
जलनिकासी के कार्य की समीक्षा बैठक में बोले कृषि मंत्री जलभराव की समस्या से निपटने के लिए तेजी लाएं : धनखड
एसएफआई जिला कमेटी ने काली पट्टी बांध कर जताया रोष
रेल दुर्घटना को लेकर स्‍थानीय लोगों में रोष
राजनीति के भेंट चढ़े सुलगते सवाल
पूर्णाहूति के साथ सम्पन्न हुआ रामकथा महोत्सव