समाचार ब्यूरो
11/04/2018  :  09:53 HH:MM
राज्य सरकार की तैयारी पर सांसद सैनी का कड़ा विरोध
Total View  383

चंडीगढ़ हरियाणा की मनोहर लाल खट्टर के नेतृत्व वाली भाजपा सरकार की वर्ष 2016 के जाट आरक्षण आंदोलन के मुकदमे वापस लेने की तैयारी पर भाजपा के ही कुरूक्षेत्र से सांसद राजकुमार सैनी ने कडा विरोध जताया है। उन्होंने कहा कि ऐसा हुआ तो कानून का तो मजाक ही उड जायेगा।

एक न्यूज चैनल को दिए बयान में सैनी ने कहा कि संविधान में जिन तीन स्तम्भों कार्यपालिका,न्यायपालिका और विधायिका का प्रावधान किया गया है उनमें से विधायिका सबसे कमजोर साबित हो रही है। आज लोग सडक पर बैठ कर कानून के खिलाफ फैसले करवा रहे है। इस तरह तो कानून सबके लिए बराबर नहीं रह जायेगा। अगर दवाब में मुकदमे वापस लिए जायेंगे तो कानून को कोई मानेगा ही नही। फिर तो छुटपुट अपराध करने वाले भी कहेंगे कि जब बाजार के बाजार जलाने वालों के मुकदमे वापस लिए गए हैं तो हमारे खिलाफ मुकदमा तो बनता ही नहीं। उन्होंने कहा कि यदि इस तरह मुकदमे वापस लेने का फैसला किया गया है तो फिर एससी-एसटी आंदोलन,विदेश में एससी धर्मगुरू की हत्या के विरोध में हुई हिंसा,गुरमीत राम रहीम से जुडे मुकदमे,करणी सेना के मुकदमे भी वापस लेना चाहिए। उल्लेखनीय है कि मनोहर लाल खट्टर सरकार जाट आरक्षण आंदोलन के दौरान दर्ज किए मुकदमों में से करीब 389 मुकदमे वापस लेने की तैयारी में है।
अखिल भारतीय जाट आरक्षण संघर्ष समिति के साथ हुए समझौते के तहत खट्टर सरकार ये मुकदमे वापस लेने की तैयारी में है। ये मुकदमे हिंसा और आगजनी के है। हिंसा में 31 लोगों की जान गई थी। राज्य के गृह विभाग ने जाट आरक्षण आंदोलन के दौरान हिंसा से सबसे अधिक प्रभावित सात जिलों के उपायुक्तों को मुकदमे वापस लेने के लिए जिला एटॉर्नी के जरिए अदालतों में अर्जी दाखिल कराने के निर्देश दिए जा चुके है। राज्य सरकार दण्ड प्रक्रिया संहिता की धारा 321 के तहत मुकदमे वापस लेने के लिए इस तरह अर्जी दाखिल कर सकती है लेकिन अंतिम फैसला अदालत ही करती है।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   51113
 
     
Related Links :-
बदइंतजामी और लापरवाही का दर्दनाक परिणाम है अमृतसर की घटना : गोयल
प्रजा को संतुष्ट रखने के लिए उन्होंने मां सीता को अग्नि परीक्षा देने के लिए कहा श्री राम के लिए परिवार से बड़ा राजधर्म : अलका गौरी
महिलाओं का उत्पीडऩ करने वाले रावण रूपी राक्षसों का अन्त जरूरी : रविन्द्र जैन
रोडवेज कर्मचारियों के समर्थन में कटोरा लेकर निकलेंगे नवीन जयहिंद
नवजोत सिद्धू के बचाव में आए पूर्व रेल मंत्री बंसल
जलनिकासी के कार्य की समीक्षा बैठक में बोले कृषि मंत्री जलभराव की समस्या से निपटने के लिए तेजी लाएं : धनखड
एसएफआई जिला कमेटी ने काली पट्टी बांध कर जताया रोष
रेल दुर्घटना को लेकर स्‍थानीय लोगों में रोष
राजनीति के भेंट चढ़े सुलगते सवाल
पूर्णाहूति के साथ सम्पन्न हुआ रामकथा महोत्सव