समाचार ब्यूरो
11/04/2018  :  09:55 HH:MM
‘स्टार्टअप इन्क्यूबेटर-कम-सेंटर ऑफ एक्सीलेंस’ का शुभारंभ
Total View  436

चंडीगढ़ शिक्षा मंत्री ने कहा कि महाविद्यालयों एवं विश्वविद्यालयों में पढऩे वाले छात्रों के आइडिया को स्टार्टअप के रूप में फलीभूत करने के लिए सरकार द्वारा 10 करोड़ का प्रावधान किया जाएगा।

वे शर्मा पंचकूला के सैक्टर-1 में स्थित राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय में ‘स्टार्टअॅप इन्क्यूबेटर- कम-सैंटर ऑफ एक्सीलेंस’ का उदघाटन करने के बाद विद्यार्थियों को संबोधित कर रहे थे। उच्चतर शिक्षा विभाग द्वारा तैयार की गई ‘शिक्षा सेतू’ नाम की मोबाइल एप, न्यू वैबपोर्टल तथा ‘पतंग’ नामक योजना की लांचिग भी की। राज्य के सबसे पहले ‘स्टार्टअॅप इन्क्यूबेटर-कम-सैंटर ऑफ एक्सीलेंस’ का उदघाटन करने के बाद शिक्षा मंत्री ने इसे प्रधानमंत्री के विजन को पूरा करने की दिशा में अहम कदम बताया और कहा कि हरियाणा के युवाओं में प्रतिभा की कमी नहीं है, बशर्ते जरूरत है उसको सही ढंग से पहचानने की। इस सैंटर के खुलने से पंचकूला जिला के चार कालेजों राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय सैक्टर-1 पंचकूला, राजकीय स्नातकोत्तर महिला महाविद्यालय सैक्टर-14 पंचकूला, राजकीय महाविद्यालय बरवाला तथा राजकीय महाविद्यालय कालका के विद्यार्थी अपनी प्रतिभा को पंख देकर सफलता की उड़ान भर सकेंगे। स्टार्टअॅप इन्क्यूबेटर-कमसै
ंटर ऑफ एक्सीलेंस’ से जहां युवाओं के लिए नौकरियों के कई द्वार खुलेंगे वहीं वे खुद उद्योगपति भी बन सकेंगे। श्री शर्मा ने उच्चतर शिक्षा विभाग द्वारा किए जा रहे गुणवत्तापरक कार्यों की प्रशंसा करते हुए कहा कि ‘शिक्षा सेतू’ नाम की मोबाइल एप, न्यू वैबपोर्टल शुरू होने से महाविद्यालयों एवं विश्वविद्यालयों में पढऩे वाले विद्यार्थी अब ऑनलाइन अपनी फीस भर सकेंगे, स्कॉलरशिप प्राप्त कर सकेंगे। इन दोनों कार्यक्रमों की लांचिंग से विद्यार्थियों, अध्यापकों व अन्य कर्मचारियों की विस्तृत सूचना ऑनलाइन उपलब्ध होगी। विद्यार्थियों की शिकायतें व अध्यापकों की कार्यक्षमता का मूल्यांकन भी किया जा सकेगा । उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री के नेतृत्व में हरियाणा सरकार उच्चतर शिक्षा में सुधारात्मक कदम उठा रही है। पिछले साल 10 फरवरी 2017 को राज्य सरकार ने एक साथ 21 महाविद्यालयों की आधारशिला रखी थी और और इस साल भी 10 से अधिक कन्या महाविद्यालयों को खोला जा रहा है। उन्होंने बताया कि नारी शिक्षा पर विशेष बल दिया जा रहा है, मोरनी जैसे पहाड़ी क्षेत्र में लड़कियों के लिए विशेष सरस्वती बसें चलाई जाएंगी। शिक्षा मंत्री ने ‘पतंग’ नामक योजना की शुरूआत करते हुए कहा कि इससे महाविद्यालयों में पढऩे वाले विद्यार्थियों को पासपोर्ट बनवाने में सहायता मिलेगी। उन्होंने पंचकूला के राजकीय महाविद्यालय में पढऩे वाले 21 विद्यार्थियों को पासपोर्ट भी वितरित किए। उच्चतर शिक्षा विभाग की अतिरिक्त मुख्य सचिवज्योति अरोड़ा ने कहा कि राज्य सरकार का प्रयास है कि हरियाणा के महाविद्यालयों एवं विश्वविद्यालयों में पढऩे वाले विद्यार्थी अंतर्राष्ट्रीय स्तर की शिक्षा हासिल कर सकें ताकि वे प्रतियोगिता के युग कहीं भी पीछे न रहें। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री की डिजिटल इंडिया की सोच को साकार करने के लिए हरियाणा सरकार भी ‘स्टार्टअॅप इन्क्यूबेटर-कम-सैंटर ऑफ एक्सीलेंस’ जैसे कदम उठा रही है।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   1503460
 
     
Related Links :-
शादियां बनी नेताओं के लिए परेशानी का सबब
जेबीटी संघ नियुक्ति की मांग को लेकर नवचयनित उठाएंगे बड़ा कदम
लोकसभा चुनाव से पहले पंजाब में ‘आप’ को झटका आम आदमी पार्टी के जैतू विधायक मास्टर बलदेव सिंह ने छोड़ी पार्टी
तेल एवं गैस संरक्षण अभियान सक्षम 2019 शुरू
अभय सिंह चौटाला ने मायावती के जन्म दिवस पर दी बधाई
हरियाणा पुलिस के शहीदों के नाम पर खंड स्तरीय शौर्य पुरस्कार : मुख्यमंत्री
शीला दीक्षित ने संभाला दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी का कार्यभार
बंगाल के मैदान में उतरेगी भाजपा
दो विधायकों के जाने से सरकार को नहीं है कोई खतरा : एचडी देवेगौड़ा
बुजुर्गों का सम्मान भारतीय संस्कृति का अहम हिस्सा : उमेश अग्रवाल