समाचार ब्यूरो
12/04/2018  :  09:54 HH:MM
नीतीश मेरे परिवार की हत्या कराना चाहते हैं : राबड़ी
Total View  393

काठमांडो बिहार की पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी और लालू प्रसाद के सरकारी आवास 10 सर्कुलर रोड पर पुलिस मुख्यालय के आदेश के बाद सभी हाउस गार्ड को हटा दिया गया।

इसके बाद से ही लालू के परिवार के लोग बेहद नाराज हैं। पुलिस मुख्यालय द्वारा परिवार की सुरक्षा में कमी करने के विरोध में आज राबड़ी देवी और उनके दोनों बेटे तेज प्रताप और तेजस्वी यादव ने भी अपनी सुरक्षा वापस कर दी है।

पूर्व मुख्यमंत्री के तौर पर राबड़ी देवी और लालू प्रसाद यादव को हाउस गार्ड्स के तौर पर कुल 32 बिहार पुलिस के जवान प्राप्त थे और पुलिस मुख्यालय के फरमान के बाद इन सभी को मंगलवार रात वापस बुला लिया गया। राबड़ी देवी ने कहा कि लालू परिवार की सुरक्षा में कमी करना, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पूरे परिवार
की हत्या कराने की साजिश है। साबरी ने कहा कि जब पुलिस मुख्यालय ने उनके आवास पर तैनात सभी होमगार्ड को वापस बुला लिया है तो उसके विरोध में उन्होंने और उनके बेटों तेज प्रताप ने विधायक के तौर पर और तेजस्वी यादव नेता प्रतिपक्ष के तौर पर प्राप्त सुरक्षा वापस कर दी है। बुधवार सुबह 10 बजे जब राबड़ी,
तेज प्रताप और तेजस्वी के सुरक्षाकर्मी सुबह के शिफ्ट में 10, सर्कुलर रोड पहुंचे तो इन लोगों ने अपने सुरक्षाकर्मी को वापस कर दिया। जब अंदर जाकर हालात का जायजा लिया और पाया कि घर के चारों तरफ कुल 8 पोस्ट हैं, जहां पर होमगार्ड की तैनाती होती थी, लेकि‍न वह आज के दिन खाली थे।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   3836295
 
     
Related Links :-
यशपाल यादव को राष्ट्रीय शिक्षा रत्न अवॉर्ड
राजीव नगर में गुरुग्राम विधायक और मेयर ने किया समर्सिबल का शुभारंभ
विकास की गति को रुकने न दें, करनाल का माहौल हुआ भाजपामय : रेनूबाला
इस वर्ष की अंतिम राष्ट्रीय लोक अदालत
हरियाणा में भी भाजपा की उल्टी गिनती शुरू : सुरजेवाला
लोकसभा चुनावों से पहले माफी के लिए श्री अकाल तख्त साहिब पहुंचा अकाली
महिलाओं को नि:शुल्क हेलमेट प्रदान कर सुरक्षा के प्रति किया गया जागरुक
एंग्री मैन लड़ेगा अब शहीदों के हक की लड़ाई
भूलों पर माफी मांगने का कदम बादलों का राजनैतिक नाटक
बादल पिता-पुत्र ने मांगी 10 साल के राज में हुई गलतियों की माफी