Breaking News
लघू सचिवालय के सभागार में डिजीटल हरियाणा कार्यशाला  |  बच्चों की सुरक्षा से कोई समझौता नहीं, सभी मामलों पर कड़ा संज्ञान लिया : जस्टिस मित्तल  |  अनाधिकृत निर्माणों, अतिक्रमण और विज्ञापनों के खिलाफ निगम की कार्रवाई जारी  |  जीवन में भी धार्मिक परंपराओं का विशेष महत्व : उमेश अग्रवाल  |  डिजीटल हरियाणा कार्यशाला का होगा आयोजन हरपथ ऐप पर प्राप्त शिकायतों के निपटारे के लिए अधिकारियों को मिलेगा प्रशिक्षण  |  रोटरी दिवस पर क्लब ने लगाया रक्तदान शिविर  |  बच्चों को प्रेरणा व जागरूक करने के लिए सेमिनार  |  बेहतर भविष्य के लिए सामाजिक ताने-बाने को मजबूत करना होगा: जस्टिस मित्तल  |  
 
 
समाचार ब्यूरो
28/04/2018  :  09:38 HH:MM
लिखी जाएगी रिश्तों की नई इबारत
Total View  382

बीजिंग तमाम विवाद के बीच भारत और चीन के रिश्तों की नई इबारत लिखी जा रही है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चीन के दौरे पर हैं, जहां वह चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग से ऐतिहासिक बातचीत करेंगे। डोकलाम जैसे मुद्दों पर दोनों देशों के बीच टकराव विश्वव्यापी चर्चा का विषय बना था, लेकिन आर्थिक नजरिए से देखा जाए तो भारत-चीन के बीच रिश्ते काफी मजबूत हैं। अगले 24 घंटों के दौरान दोनों नेताओं के बीच छह मुलाकातें होनी हैं और जिसमें आपसी रिश्तों की एक नई इबारत लिखी जाएगी।
भारत-चीन के बीच व्यापार काफी बड़े पैमाने पर किया जाता है। भारत हर साल चीन से करीब साढ़े तीन लाख करोड़ का सामान आयात करता है। चीन भारत से 1.06 लाख करोड़ का सामान आयात करता है। सन 2008 में चीन भारत का सबसे बड़ा व्यापार साझीदार बन गया था, हालांकि, मौजूदा समय में भारत और चीन के बीच एक बड़ा व्यापार घाटा पनपा है जो मोदी सरकार के लिए बड़ी चुनौती भी है। इस घाटे का सीधा मतलब यह है कि हम चीन से जितना उत्पाद और सेवाएं खरीदते हैं, उससे कम उत्पाद और सेवाएं हम चीन के बाजार में बेचते हैं। इसके बावजूद दोनों देशों के बीच व्यापार लगातार बढ़ रहा है। चाइनीज फोन भारत में सबसे ज्यादा लोकप्रिय हुए हैं। यही वजह है कि भारतीय मोबाइल बाजार पर अकेले चीन की बड़ी हिस्सेदारी है। भारत की मोबाइल मार्केट के 56 फीसदी हिस्से पर चीन का कब्जा है। इतना ही नहीं, दिल्ली मेट्रो में भी चीनी कंपनी का हिस्सा है। साथ ही पावर सेक्टर में भी चीन का बड़ा दखल है। करीब 80 फीसदी प्रोडक्ट्स चीन से ही आयात किए जाते हैं। वित्त वर्ष 2017-18 अप्रैल से जनवरी के दौरान भारत ने चीन को 10.3 बिलियन डॉलर का निर्यात किया, जबकि इस दौरान भारत ने चीन से लगभग 63.2 बिलियन डॉलर का आयात किया। हालांकि, भारत को इससे बड़ा आर्थिक घाटा उठाना पड़ा है, लेकिन दोनों देशों के बीच व्यापार काफी बड़े पैमाने पर हुआ है। भारत-चीन के बीच व्यापारिक रिश्तों की मजबूती का अंदाजा इस बात से भी लगाया जा सकता है कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी चीनी निवेशकों को आकर्षित करने के लिए चीन जाने वाले हैं। बताया जाता है कि चीनी निवेशकों को आमंत्रित करने के लिए योगी वहां जा रहे हैं। गुजरात, कर्नाटक समेत भारत के कई ऐसे राज्य हैं जहां से चीन का सीधा कारोबारी हित जुड़ा हुआ है। उत्तर प्रदेश को देश के विकास इंजन बनाने के लिए भी मोदी सरकार की नजर चीनी सहयोग पर है। पीएम मोदी का यह दौरा दोनों देशों के बीच रिश्तों को नया आयाम देने वाला साबित हो सकता है सकता है।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   9996872
 
     
Related Links :-
मून के ऐलान से दुनिया ने ली राहत की सांस परमाणु निरस्त्रीकरण के लिए तैयार है नॉर्थ कोरिया
अफगानिस्तान को तालिबान से मुक्त करने के अमेरिकी दावे खोखले
भारत का रणनीतिक कदम, श्रीलंका के पलाली एयरपोर्ट को करेगा विकसित
अमेरिका में कुत्ते-बिल्ली मांस बिक्री पर लगाया प्रतिबंध पर मंत्री अनिल विज ने कहा आश्चर्यजनक है इसमें गाय का जिक्र नही
अमेरिका के साथ हुई कोमसासा ष्टह्ररूष्ट्रस््र डील
भारत-प्रशांत क्षेत्र में सामरिक दृष्टि से महत्वपूर्ण बैठक सुषमा-पोम्पियो और निर्मला-मैटिस के बीच टू ह्रश्वलस टू बैठक शुरू
अगले माह पाकिस्तानी विदेश मंत्री से मिल सकती हैं सुषमा
सिंधु जल विवाद को यूएन करेगा सुलझाने की कोशिश
देश को बदलने के पहले खुद बदलें इमरान : रेहम
अब सोमालिया में तेजी से पांव पसार रहा आईएसआईएस