समाचार ब्यूरो
11/05/2018  :  09:41 HH:MM
गुरूग्राम के 1732 स्कूलों में टीकाकरण
Total View  408

गुरुग्राम खसरा-रूबेला टीकाकरण अभियान के तहत जिला में अब तक 3 लाख 63 हज़ार 322 बच्चों का टीकाकरण किया जा चुका है जोकि निर्धारित लक्ष्य का 79 प्रतिशत है। यह जानकारी आज गुरुग्राम की उप-सिविल सर्जन डा. नीलम थापर ने दी।

डा. नीलम ने बताया कि जिला में अब तक 1732 स्कूलों में टीकाकरण अभियान चलाया गया है जिनमें से 419 राजकीय विद्यालय तथा 1313 निजी विद्यालय शामिल हैं। टीकाकरण अभियान के तहत लोग बढ़चढ़ कर अपने बच्चों का टीकाकरण करवा रहे हैं। उन्होंने कहा कि टीका लगवाने के बाद कहीं भी किसी बच्चे को कोई
दिक्कत नही आई, जो यह साबित करता है कि यह टीका पूर्ण रूप से सुरक्षित है ।

डा. थापर ने आमजन से अपील करते हुए कहा कि वे अपने 9 महीने से 15 वर्ष तक के बीच की आयु के बच्चों को यह टीका जरूर लगवाएं ताकि बच्चे इन दो बिमारियों से बचे रहें। उन्होंने कहा कि इस अभियान में जिला के सभी स्कूलों से पूरा समर्थन मिल रहा है और 15 मई तक संभवत सभी स्कूलों को को कवर कर लिया जाएगा। उन्होंने कहा कि इस अभियान को विश्व स्वास्थ्य संगठन तथा युनैस्को भी अपना पूरा समर्थन दे रहा है और प्रत्येक जिला में उनके प्रतिनिधि टीकाकरण कार्य पर नजर रखे हुए हैं। किसी बच्चे को यह टीका खाली पेट नहीं लगवाना है। उन्होंने यह भी बताया कि टीका लगाने के बाद आधे घंटे तक चिकित्सक उसे अपनी निगरानी में रखते हैं। यह टीका ऑटो डिस्पोजेबल सिरिंज से लगाया जा रहा है, जिसका प्रयोग दोबारा नहीं किया जा सकता। उन्होंने कहा कि यह एक राष्ट्रव्यापी अभियान है। रूबेला के उपचार के लिए कोई निश्चित ईलाज नही है और इस रोग से बचाव के लिए टीकाकरण ही एकमात्र उपाय है। इसी प्रकार खसरा बीमारी के लिए
भी कोई निश्चित इलाज नहीं है और टीका लगवाकर इस बीमारी से बचाव किया जा सकता है।

खसरा बीमारी के लक्षणो के बारे में उप सिविल सर्जन ने बताया कि 5 वर्ष से कम आयु के छोटे बच्चों तथा 20 वर्ष से बड़े व्यस्कों के लिए खसरा जानलेवा सिद्ध हो सकता है क्योंकि इसके कारण होने वाले डायरिया, निमोनिया और मस्तिष्क के सक्रमण की वजह से मृत्यु हो सकती है। रूबेला के लक्षणों के बारे में उन्होंने कहा कि बच्चों में यह रोग आमतौर पर हल्का होता है जिसमें खारिश, कम डिग्री का बुखार, मिचली और हल्के नेत्र शोध के लक्षण दिखाई पड़ते हैं। कान के पीछे और गर्दन में सूजी हुई ग्रंथियां हो सकती है। संक्रमित व्यस्क, ज्यादात्तर महिलाओं में जोड़ो में दर्द हो सकता है। गर्भवस्था में आरंभ में रूबेला वायरस होने से जन्मजात रूबेला
सिंड्रोम विकसित हो सकता है जिसके कारण नवजात शिशु जीवनभर के लिए विकलांग बन सकते हैं। यही नहीं, इससे गर्भपात या मृत शिशु का जन्म आदि भी हो सकता है।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   9882348
 
     
Related Links :-
विशेषज्ञों ने शरीर के प्राकृतिक जोड़ों को बचाने की नई तकनीकों के बारे में चर्चा की
राजकीय सी. सै. स्कूल काबड़ी में विश्व एड्स दिवस समारोह का आयोजन
फेस पेंटिंग, भाषण, पोस्टर और जागरूकता रैली
जिले के आयुर्वेदिक औषद्यालयों का औचक निरीक्षण
राजकीय नागरिक अस्पताल में प्रसूति कक्ष शुरू
गुरू पर्व पर 20 से अधिक स्कूलों के हजारों छात्रों ने निकाली जागरूकता रैली स्वच्छता के नारों से गूंजी कर्ण नगरी करनाल
राष्ट्रीय शिक्षा दिवस पर इस्कॉन फूड रिलीफ फाउंडेशन की पहल वंचित बच्चों को काउंसिलिंग देने का अभियान शुरू
सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में नहीं कोई डॉक्टर, नर्स कर रही इलाज
2 लाख मरीजों के ब्लड शुगर की जांच करेगा लायंस क्लब
भारत में डायबिटीज़ की देखभाल के लिए ‘1000-दिवस चुनौती’ लॉन्च