समाचार ब्यूरो
11/05/2018  :  09:52 HH:MM
प्रदेश पुलिस को बल
Total View  11

सुप्रीम कोर्ट ने कठुआ सामूहिक बलात्कार और हत्या मामले की सुनवाई पर लगी रोक हटा ली। उसके बाद उसने मामले को जम्मू-कश्मीर से बाहर पंजाब के पठानकोट की अदालत में ट्रांसफर कर दिया। इस पर जम्मू-कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती की महत्त्वपूर्ण प्रतिक्रिया आई।
महबूबा ने कहा कि कठुआ सामूहिक बलात्कार एवं हत्या मामले की सुनवाई पठानकोट में कराने के फैसले से राज्य पुलिस का मनोबल बढ़ेगा। इस विवाद में यह भी एक बड़ा पहलू रहा है। एक खेमे (जो प्रदेश भाजपा से संबंधित बताया जाता है) का इल्जाम रहा है कि राज्य पुलिस ने जांच ठीक से नहीं की। इसलिए मामले को सीबीआई को सौंपा जाना चाहिए। मगर सुप्रीम कोर्ट के आदेश का अर्थ माना गया है कि सर्वोच्च अदालत पुलिस की जांच से संतुष्ट है। तो महबूबा मुफ्ती ने ट्विटर पर लिखा- ‘मैं कठुआ मामले में उच्चतम न्यायालय के आज के फैसले का स्वागत करती हूं। इससे हमारे जम्मू-कश्मीर पुलिस का मनोबल बढ़ाने में मदद मिलेगी, जिसने तमाम मुश्किलों के बावजूद यह सुनिश्चित करने में कोई कसर नहीं छोड़ी कि मृतक के परिवार को न्याय मिल।े ’ पीडित़ बच्ची के पिता न े भी सपु ी्र म कोर्ट  के फै सल े का स्वागत किया। उन्होनं े कहा- ‘हम सिर्फ इंसाफ चाहते हैं।’ उन्होंने कहा- ‘हम सीबीआई जांच के पक्ष में भी नहीं हैं। हम सीबीआई को नहीं जानते और हमारी एक मात्र इच्छा यह है कि न्याय मिले।’ प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्रा की अध्यक्षता वाली एक पीठ ने मामले को पठानकोट स्थानांतरित करने और फास्टट्रैक कोर्ट में दैनिक आधार पर सुनवाई करने का आदेश दिया है। सर्वोच्च न्यायालय ने यह भी कहा कि सुनवाई जम्मू-कश्मीर में मान्य रणबीर दंड संहिता के प्रावधानों के अनुरूप होगी। एक घुमंतू समुदाय की आठ वर्षीय बच्ची 10 जनवरी को कठुआ में एक गांव में अपने घर के पास से लापता हो गई थी। एक सप्ताह बाद उसी इलाके में बच्ची का शव मिला था। पीडि़ता बकरवाल समुदाय से थी। यह समुदाय पैदल ही एक जगह से दूसरी जगह सफर करता है। फिलहाल हरे घास के मैदान की तलाश में यह समुदाय कश्मीर के ऊपरी इलाकों की तरफ बढ़ रहा है। वर्तमान में इन लोगों ने जम्मू कश्मीर के राष्ट्रीय राजमार्ग के साथ रामबन में अपना अस्थायी शिविर बनाया है। सुनवाई की जगह बदलने की याचिका इस मामले में पीडि़त परिवार की पैरवी कर रही वकील की जान खतरे में होने की दलील देते हुए की गई थी।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   8938806
 
     
Related Links :-
यरुशलम में अमेरिकी दूतावास
अपने शरीफाना बयान पर कितना कायम रहेंगे शरीफ
खुदरा कारोबार को ध्वस्त कर देगा यह सौदा
शांति में ही मिलेगा ईश्वर, अल्लाह और वाहे गुरु
विकासशील देशों पर भी होगा ट्रंप के फैसले का विपरीत असर
धार्मिक विरासत की अवहेलना
वाक्या-ए-पत्थरगढ़ी : आदिवासियों की जागृति को सलाम....!
फिर से वही चिंता
धधकते खेत और बढ़ता प्रदूषण चिंतनीय
प्रजातंत्र के तीनों स्तंभों को अपने कब्जे में रखने को आतुर सरकार..!