समाचार ब्यूरो
11/05/2018  :  10:18 HH:MM
इजरायल ने ट्रंप का किया समर्थन, चीन ने किया विरोध
Total View  394

वाशिंगटन ईरान के साथ परमाणु संधि से पीछे हटने के अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के निर्णय से विश्व चकित रह गया। अमेरिका के पारंपरिक एवं करीबी मित्र रहे फ्रांस, ब्रिटेन और जर्मनी ने इस पर चिंता जाहिर की, जबकि ईरान के विरोधियों इजराइल और सऊदी अरब ने इसका स्वागत किया।

इस संधि पर अमेरिका और ईरान के अलावा संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के अन्य चार देशों ब्रिटेन, फ्रांस, चीन और रूस तथा जर्मनी ने हस्ताक्षर किए हैं। यूरोपीय नेताओं ने कहा कि ट्रंप ने भले ही सहयोगी देशों को प्रतिबद्धता तोड़ धोखा दिया हो, वे संधि के लिए प्रतिबद्ध रहेंगे। ब्रिटेन की प्रधानमंत्री थेरेसा मे, जर्मनी की
चांसलर एंजेला मर्केल, फ्रांस के राष्ट्रपति एमैनुएल मैक्रोन और संयुक्त राष्ट्र के महासचिव एंतोनियो गुतेरेस ने ट्रंप को संधि रद्द नहीं करने को चेताया था। मे, मर्केल और मैक्रोन ने ट्रंप की घोषणा के बाद एक संयुक्त बयान में कहा कि वे इस संधि से जुड़े रहेंगे, क्योंकि इससे दुनिया में शांति स्थापित हुई। रूस और चीन ने भी ट्रंप के निर्णय पर निराशा जाहिर की। रूस ने कहा कि ट्रंप के संधि को रद्द करने का निर्णय बेहद निराशाजनक है। चीन ने भी ट्रंप के फैसले पर अफसोस जाहिर किया और इस संधि की सुरक्षा का निश्चय किया। वहीं ईरान ने चेतावनी दी कि यदि यूरोपीय देशों ने संधि की सुरक्षा का वादा नहीं दिया तो वह औद्योगिक स्तर पर यूरेनियम संवर्धन शुरू कर देगा। बता दें कि ईरान परमाणु समझौता तेहरान और छह वैश्विक शक्तियों के बीच 2015 में हुआ था।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   7342315
 
     
Related Links :-
बांग्लादेशी हिंदुओं को पीएम का दिवाली गिफ्ट शेख हसीना ने मंदिर को दान की 43 करोड़ की डेढ़ बीघा जमीन
क्रीमिया कॉलेज में आत्मघाती हमला, 18 लोगों की मौत
युगांडा में भारी बारिश, भूस्खलन के बाद नदी उफनी, 41 लोगों की मौत
188 मत हासिल कर भारत ने जीता यूएन मानवाधिकार परिषद का चुनाव
भारतीय विदेशों में फहरा रहे देश का परचम: राष्‍ट्रपति कोविंद
सात रोहिंग्गियों को भारत सरकार ने म्यांमार वापस भेजा यूएनएचसीआर ने की भारत की आलोचना
मून के ऐलान से दुनिया ने ली राहत की सांस परमाणु निरस्त्रीकरण के लिए तैयार है नॉर्थ कोरिया
अफगानिस्तान को तालिबान से मुक्त करने के अमेरिकी दावे खोखले
भारत का रणनीतिक कदम, श्रीलंका के पलाली एयरपोर्ट को करेगा विकसित
अमेरिका में कुत्ते-बिल्ली मांस बिक्री पर लगाया प्रतिबंध पर मंत्री अनिल विज ने कहा आश्चर्यजनक है इसमें गाय का जिक्र नही