Breaking News
लघू सचिवालय के सभागार में डिजीटल हरियाणा कार्यशाला  |  बच्चों की सुरक्षा से कोई समझौता नहीं, सभी मामलों पर कड़ा संज्ञान लिया : जस्टिस मित्तल  |  अनाधिकृत निर्माणों, अतिक्रमण और विज्ञापनों के खिलाफ निगम की कार्रवाई जारी  |  जीवन में भी धार्मिक परंपराओं का विशेष महत्व : उमेश अग्रवाल  |  डिजीटल हरियाणा कार्यशाला का होगा आयोजन हरपथ ऐप पर प्राप्त शिकायतों के निपटारे के लिए अधिकारियों को मिलेगा प्रशिक्षण  |  रोटरी दिवस पर क्लब ने लगाया रक्तदान शिविर  |  बच्चों को प्रेरणा व जागरूक करने के लिए सेमिनार  |  बेहतर भविष्य के लिए सामाजिक ताने-बाने को मजबूत करना होगा: जस्टिस मित्तल  |  
 
 
समाचार ब्यूरो
12/05/2018  :  17:36 HH:MM
पहली बार में ही मादक पदार्थों को ‘ना’ कहें : डा. प्रदीप
Total View  373

गुरुग्राम युवाओं को मादक पदार्थों के सेवन से दूर रहने के लिए आज नागरिक अस्पताल से जागरूकता रैली का आयोजन किया गया जिसे प्रधान चिकित्सा अधिकारी डा. प्रदीप शर्मा ने झंडी दिखाकर रवाना किया।

इस मौके पर उन्होंने राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय(बाल )के रैली में शामिल विद्यार्थियों को संबोधित करते हुए सभी युवाओं से अपील की कि वे पहली बार में ही मादक पदार्थ अथवा नशे को ‘ना’ कहें, चाहे उनका जिग्री दोस्त ही क्यों ना ऑफर कर रहा हो। उन्होंने युवाओं से कहा कि यदि कोई आपका मित्र या परिचित नशा करता हो तो उसके बारे में उसके परिवार वालों तथा हमें अवश्य बताएं ताकि उसका समय पर इलाज करके उसकी जिंदगी को बचाया जा सके। डा. प्रदीप ने युवाओं से कहा कि आप हमारे एम्बेस्डर हैं और स्वयं को नशे से दूर रखते हुए, दूसरे अपने साथियों को भी नशे से दूर रहने का संदेश देते हुए यदि नशे में संलिप्त व्यक्तियों का जीवन बचाओगे तो सही मायने में आज की यह जागरूकता रैली सार्थक होगी। डा. प्रदीप ने कहा कि युवाओं के लिए सीधी राह पर चलना आज के आधुनिक युग मे कठिन है, लेकिन जीवन में सफलता उसी व्यक्ति को मिलती है जो सीधी राह पर चलकर मेहनत करता है। उन्होंने युवाओं से कहा कि नशा ही यदि
करना है तो मेहनत का करो , देश को आगे ले जाने का करो, अपने परिवार को स्मृद्ध बनाने का करो। उन्होंने कहा कि बड़े अफसोस के साथ कहना पड़ता है कि युवा आजकल गंभीर नशा जैसे मादक पदार्थों हेरोइन , गांजा, सुल्फा, ब्राऊन शुगर आदि का नशा करते हैं और स्वयं  को नशीले पदार्थों का इंजेक्शन लगाते
हैं। ये नशे भूत की तरह होते हैं, एक बार शरीर में घुस गया तो उसका निकलना मुश्किल हो जाता है, इसलिए पहली बारी में ही ऐसे नशे को मना करने की हिम्मत रखें। इस प्रकार का नशा आपके शरीर को खोखला कर देता है और धीरे धीरे मृत्यु की ओर ले जाता है जिससे आप अपना नुकसान तो करेंगे ही , साथ में परिवार
को भी हानि होगी।इस अवसर पर मनोरोग विशेषज्ञ डा. बह्मदीप संधु ने बताया कि एससीईआरटी द्वारा किए गए सर्वे में पाया गया है कि आज के युवाओं में मादक पदार्थों के अलावा रेव पार्टी का प्रचलन भी बढ़ रहा है। आज युवा अलग-अलग नशो के लिए विभिन्न प्रकार के तरीकों का इस्तेमाल कर रहे हैं। युवाओं को चाहिए
कि वे इन नशों को छोडऩे के लिए अपनी विल पावर को स्ट्रांग करें। उन्होंने कहा कि युवा अपनी इस विल पावर का प्रयोग केवल नशे को छोडऩे के लिए ही नही बल्कि जिंदगी में कामयाब होने के लिए भी कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि यदि कोई व्यक्ति नशा छोडऩा चाहे तो उसे केवल 5 से 10 दिन तक थोड़ी तकलीफ
का सामना करना पड़ता है जिसके बाद उसका जीवन बर्बाद होने से बच जाता है। श्री संधु ने कहा कि नशे से ग्रस्त व्यक्ति की समाज में प्रतिष्ठा व आर्थिक स्थिति खराब हो जाती है। नशे से उसे शारीरिक हानि तो होती ही है इसके साथ ही उसे कई बार नौकरी का भी नुकसान उठाना पड़ता है। उन्होंने बताया कि एक अध्ययन के अनुसार लगभग 17 प्रतिशत लडक़े तथा 4 से 5 प्रतिशत लड़कियां नशे का सेवन कर रहे हैं। नशे की लत से छुटकारा पाने के लिए जरूरी है कि बच्चों को शुरू से ही इसके दुष्प्रभावों के बारे मे बताया जाए ताकि आगे चलकर उनके मन में स्वत: ही नशे के प्रति घृणा का भाव उत्पन्न हो सके।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   4969721
 
     
Related Links :-
रोटरी दिवस पर क्लब ने लगाया रक्तदान शिविर
दिल्ली के सरकारी अस्पतालों में भीड़ कम करने को केजरीवाल का नया फार्मूला अब यूपी-हरियाणा के लोगों को इलाज के लिए देनी होगी फीस
स्वच्छता ही सेवा अभियान : कचरा प्रबंधन करने वाली आरडब्ल्यूए हुइ
वरदान साबित होगी आयुष्मान भारत योजना
शहीद भगत सिंह के चित्र के आगे कचरे का ढेर, लोगों में रोष
‘प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना’ रजिस्ट्रेशन कराने का आह्वान
नीले व हरे रंग के कूड़ेदान का करें प्रयोग
ह्रश्वलास्टिक समय की जरूरत लेकिन पॉलिथीन नहीं : राव इंद्रजीत
मेरी मां मुझे भाई समझती है, 93 वर्षीय अल्ज़ाइमर मरीज़ के बेटे ने बताया
आयुष्मान भारत योजना 23 सितंबर से गरीब परिवारों को 5 लाख तक मुफ्त इलाज की सुविधा