Breaking News
लघू सचिवालय के सभागार में डिजीटल हरियाणा कार्यशाला  |  बच्चों की सुरक्षा से कोई समझौता नहीं, सभी मामलों पर कड़ा संज्ञान लिया : जस्टिस मित्तल  |  अनाधिकृत निर्माणों, अतिक्रमण और विज्ञापनों के खिलाफ निगम की कार्रवाई जारी  |  जीवन में भी धार्मिक परंपराओं का विशेष महत्व : उमेश अग्रवाल  |  डिजीटल हरियाणा कार्यशाला का होगा आयोजन हरपथ ऐप पर प्राप्त शिकायतों के निपटारे के लिए अधिकारियों को मिलेगा प्रशिक्षण  |  रोटरी दिवस पर क्लब ने लगाया रक्तदान शिविर  |  बच्चों को प्रेरणा व जागरूक करने के लिए सेमिनार  |  बेहतर भविष्य के लिए सामाजिक ताने-बाने को मजबूत करना होगा: जस्टिस मित्तल  |  
 
 
समाचार ब्यूरो
16/05/2018  :  16:46 HH:MM
फुटबाल में भी बेहतर करियर : शेर सिंह चौहान
Total View  373

गुरुग्राम वजीरपुर ग्राम पंचायत के सरपंच ठाकुर शेर सिंह चैहान का कहना है कि दूसरे खेलों की तरह फुटबाल में भी खिलाडिय़ों के बेहतर केरियर की भरपूर संभावनाएं हैं। इस खेल से खिलाडिय़ों को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अच्छी पहचान मिलती है।

सेक्टर-92 के प्रणवानंद इंटरनेशनल स्कूल में दिल्ली यूनाइटेड फुटबाल क्लब के प्रशिक्षण कार्यक्रम का उद्घाटन करने के बाद प्रशिक्षुओं व स्कूल स्टाफ को संबोधित करते हुए सरपंच शेर सिंह चैहान ने कहा कि पिछले कुछ वर्षों में खिलाडिय़ों का फुटबाल की ओर तेजी से झुकाव हुआ है। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर फुटबाल की विशेष पहचान व खिलाडिय़ों के उज्जवल भविष्य को भी इसमें एक प्रमुख कारण माना जा सकता है। उन्होंने कहा कि हमारे देश में भी विभिन्न फुटबाल क्लब ने इस खेल को काफी बढ़ावा दिया है।

फुटबाल खेल को बढ़ावा देने के लिए प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित करने के लिए उन्होंने प्रणवानंद इंटरनेशनल स्कूल संचालकों को बधाई दी और विश्वास जताया कि इस स्कूल मैदान पर प्रशिक्षण लेने वाले खिलाड़ी राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अपनी विशेष पहचान कायम करेंगे और देश में फुटबाल खेल को और अधिक लोकप्रिय बनाने में अपना योगदान देंगे। इस अवसर पर स्कूल संचालक मंडल के सचिव स्वामी सिद्धार्थानंद स्कूल प्राचार्य संजय पांडा और दिल्ली यूनाईटेड फुटबाल क्लब के मुख्य कोच कृष्ण एक्का ने भी प्रशिक्षुओं को संबोधित किया। उन्होंने फुटबाल का प्रशिक्षण लेने वाले खिलाडिय़ों का आहवान किया कि उनमें खेल के मैदान में सफलता के लिए एकाग्रता, उत्साह और जीत हासिल करने की भावना कायम रहनी चाहिए। खिलाड़ी को इतनी एकाग्रता विकसित कर लेनी चाहिए कि उसे खेल के मैदान पर फुटबाल की बॉल और गोल पोस्ट के अलावा और कुछ न दिखाई दे और न सुझाई दे।

उनका अपनी टीम के सदस्यों से जितना बेहतर तालमेल होगा उतनी ही विजयी होने की संभावना बढ़ जाएगी। स्वामी सिद्धर्थानंद ने खिलाडिय़ों को अपनी शुभकामना देते हुए कहा कि मैदान पर वे हमेशा खेल भावना बनाएं रखें। उन्होंने कहा कि उनके स्कूल में विद्यार्थियों को उच्च स्तरीय शिक्षा देने के साथ-साथ नैतिक शिक्षा,
देश प्रेम व खेलों के प्रति लगाव के लिए शिक्षित व प्रेरित किया जाता है। स्कूल का पूरा स्टाफ व प्रबंधन विद्यार्थियों के सर्वांगीण विकास पर बल देता है।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   828398
 
     
Related Links :-
राष्ट्रीय पुरस्कार के चयन हेतु चित्रकला प्रतियोगिता
एशिया कप : पाक ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का फैसला लिया पाकिस्तान १६२ रन पर ढेर
‘परमाणु ऊर्जा-राष्ट्र की ऊर्जा’ पर पैराग्राफ लेखन प्रतियोगिता
कुश्ती हमारी माटी व संस्कृति से जुड़ा खेल है : विधायक कल्याण
एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक विजेता अमित पंघाल का नेहरू स्टेडियम में सम्मान
खेल मंत्री अनिल विज ने कहा कुल पदकों के लगभग 25 प्रतिशत पदक राज्य के खिलाडिय़ों ने जीते
हरप्रीत कौर की फाइट को ओटी कैब्स का समर्थन
मलेशिया में दौड़ेंगी 75 साल की म्हारी दादी
जॉनसन और महिलाओं ने भारत को दिलाए दो और स्वण्
मेजर आशीष मलिक को रजत पदक मिलने पर संस्थान में खुशी का माहौल