समाचार ब्यूरो
16/05/2018  :  17:22 HH:MM
सुशील को कभी डांटने की जरूरत नहीं पड़ी : सतपाल
Total View  351

कुश्ती के द्रोणाचार्य महाबली सतपाल ने युवा खिलाडिय़ों को सुशील कुमार जैसा आदर्श शिष्य बनने का संदेश देते हुएमंगलवार को कहा कि उन्हें पिछल े 24 साल म ें सश्ु ाील को कभी डांटने की जरूरत नहीं पड़ी।
 पदम् भूषण से सम्मानित सतपाल ने यहां तितिक्षा पब्लिक स्कूल रोहिणी में एक स्वागत और सम्मान समारोह में यह बात कही। समारोह में स्कूल की तरफ से सतपाल और सुशील का सम्मान किया गया। सतपाल ने कहा, सुशील एक ऐसा खिलाड़ी है जिसने हर जगह देश का झंडा लहराया है। सुशील 11 साल की उम्र से आज तक मेरे साथ है। पिछले 24 साल में मुझे उसे डांटने की कभी जरूरत नहीं पड़ी और दोबारा उसे समझाने की जरूरत नहीं पड़ी। महाबली सतपाल ने छात्रछा त्राओं से कहा, आप भी अपने फील्ड में आगे जाना चाहते हो इसलिए हमेशा लक्ष्य ऊंचा रखो। गुरु और माता-पिता का दर्जा सिर्फ भगवान से कम होता है इसलिए हमेशा गुरु और माता-पिता का सम्मान करो। मैं इस तरह का कार्यक्रम आयोजित करने के लिए स्कूल प्रबंधन को बधाई देता हूं। उन्होंने बच्चों से कहा, पता नहीं आप में से कौन सुशील से भी आगे निकल जाए।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   9657664
 
     
Related Links :-
हजारों विद्यार्थियों व ग्रामीणों ने ली योग के प्रसार की शपथ
ऋतिक ने विश्व श्रवण निशक्त कुश्ती में जीता ब्रांज
मैराथन में विजेता का खिताब मिला नीशू, हिमांशु और देवेंद्र पहल को
चंडीगढ़ करेगा कयाकिंग और कैनोइंग के वरिष्ठ राष्ट्रीय चैंपियनशिप की मेजबानी
कौशल तराशने के लिए उठाये जा रहे कदम
महिला हॉकी त्न स्पेन ने भारत को 3-0 से हराया
सॉकर डायरी : फीफा वल्र्ड कप
इस बार सभी टीमों में हैं उम्रदराज खिलाड
‘तंदरुस्त पंजाब मिशन’ की सफलता के लिए खेल विभाग ने बनाया विस्तृत प्रोग्राम
विवादों में घिरे खेल निदेशक की छुट्टी