समाचार ब्यूरो
16/05/2018  :  17:22 HH:MM
सुशील को कभी डांटने की जरूरत नहीं पड़ी : सतपाल
Total View  380

कुश्ती के द्रोणाचार्य महाबली सतपाल ने युवा खिलाडिय़ों को सुशील कुमार जैसा आदर्श शिष्य बनने का संदेश देते हुएमंगलवार को कहा कि उन्हें पिछल े 24 साल म ें सश्ु ाील को कभी डांटने की जरूरत नहीं पड़ी।
 पदम् भूषण से सम्मानित सतपाल ने यहां तितिक्षा पब्लिक स्कूल रोहिणी में एक स्वागत और सम्मान समारोह में यह बात कही। समारोह में स्कूल की तरफ से सतपाल और सुशील का सम्मान किया गया। सतपाल ने कहा, सुशील एक ऐसा खिलाड़ी है जिसने हर जगह देश का झंडा लहराया है। सुशील 11 साल की उम्र से आज तक मेरे साथ है। पिछले 24 साल में मुझे उसे डांटने की कभी जरूरत नहीं पड़ी और दोबारा उसे समझाने की जरूरत नहीं पड़ी। महाबली सतपाल ने छात्रछा त्राओं से कहा, आप भी अपने फील्ड में आगे जाना चाहते हो इसलिए हमेशा लक्ष्य ऊंचा रखो। गुरु और माता-पिता का दर्जा सिर्फ भगवान से कम होता है इसलिए हमेशा गुरु और माता-पिता का सम्मान करो। मैं इस तरह का कार्यक्रम आयोजित करने के लिए स्कूल प्रबंधन को बधाई देता हूं। उन्होंने बच्चों से कहा, पता नहीं आप में से कौन सुशील से भी आगे निकल जाए।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   1610069
 
     
Related Links :-
राष्ट्रीय पुरस्कार के चयन हेतु चित्रकला प्रतियोगिता
एशिया कप : पाक ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का फैसला लिया पाकिस्तान १६२ रन पर ढेर
‘परमाणु ऊर्जा-राष्ट्र की ऊर्जा’ पर पैराग्राफ लेखन प्रतियोगिता
कुश्ती हमारी माटी व संस्कृति से जुड़ा खेल है : विधायक कल्याण
एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक विजेता अमित पंघाल का नेहरू स्टेडियम में सम्मान
खेल मंत्री अनिल विज ने कहा कुल पदकों के लगभग 25 प्रतिशत पदक राज्य के खिलाडिय़ों ने जीते
हरप्रीत कौर की फाइट को ओटी कैब्स का समर्थन
मलेशिया में दौड़ेंगी 75 साल की म्हारी दादी
जॉनसन और महिलाओं ने भारत को दिलाए दो और स्वण्
मेजर आशीष मलिक को रजत पदक मिलने पर संस्थान में खुशी का माहौल