समाचार ब्यूरो
16/05/2018  :  17:26 HH:MM
शशांक मनोहर दोबारा बने आईसीसी चेयरमैन
Total View  465

दुबई : बीसीसीआई के पूर्व अध्यक्ष शशांक मनोहर को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद ( आईसीसी ) का फिर से स्वतंत्र चेयरमैन चुना गया है. उन्हें दूसरे कार्यकाल के लिये निर्विरोध निर्वाचित किया गया।
मनोहर को 2016 में पहली बार आईसीसी का स्वतंत्र चेयरमैन चुना गया था और अब निर्विरोध निर्वाचित होने के बाद वह अगले दो साल तक इस पद पर बने रहेंगे. चुनाव प्रक्रिया के अनुसार आईसीसी निदेशकों में से प्रत्येक को एक उम्मीद्वार को नामित करने की अनुमति होती है। उम्मीदवार वर्तमान या पूर्व आईसीसी निदेशक होना चाहिए. जिस नामित को दो या इससे अधिक निदेशकों का समर्थन मिलता है वह चुनाव लडऩे के योग्य माना जाता है. लेकिन मनोहर के मामले में वह नामित किये जाने वाले अकेले उम्मीद्वार थे और चुनाव प्रक्रिया को देख रहे ऑडिट कमेटी के चेयरमैन एडवर्ड क्विनलैन ने प्रक्रिया पूर्ण होने और मनोहर के सफल उम्मीद्वार होने की घोषणा की। मनोहर का दूसरे कार्यकाल के लिये चुना जाना पिछले महीने कोलकाता में आईसीसी की तिमाही बैठक में ही तय हो गया था क्योंकि उनकी उम्मीद्वारी का किसी ने विरोध नहीं किया था. पिछले दो वर्षों में मनोहर ने खेल में कई महत्वपूर्ण सुधार किये. उन्होंने 2014 के प्रस्ताव को पलट दिया था। संशोधित शासन ढांचा लागू किया जिसमें आईसीसी की पहली स्वतंत्र महिला निदेशक की नियुक्ति भी शामिल है।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   9083519
 
     
Related Links :-
न्यूजीलैंड की सरजमीं पर टी-20 सीरीज का तीसरा और अंतिम मैच आज, जीत के इरादे से उतरेगी टीम इंडिया एक और नई इबारत लिखना चाहेगा भारत
वूशू में हरे कृष्णा स्कूल की छात्रा ने जीता कांस्य, स्कूल में जोरदार स्वागत
टीम इंडिया दूसरे टी-20 में जीत के साथ वापसी करने उतरेगी
राज्य स्तरीय श्रमिक खेलकूद प्रतियोगिता शुरू
पहले टी-20 में हारी टीम इंडिया
न्यूजीलैंड ने चौथे एकदिवसीय में भारत को आठ विकेट से हराया
नेहरू स्टेडियम में मण्डल स्तरीय श्रमिक खेलकूद प्रतियोगिता
भारतीय महिला क्रिकेट टीम ने न्यूजीलैंड को ८ विकेट से हराया
राष्ट्रीय स्कूल खेल : कांस्य पदक जीतने वाली हैंडबॉल टीम शिक्षा मंत्री से मिली
पीडब्लूएल-4 : एलेक्जेंडर ने हरियाणा हैमर्स के दिलाई तीसरी जीत