समाचार ब्यूरो
22/05/2018  :  12:50 HH:MM
किशनगंगा प्रॉजेक्ट के खिलाफ वल्र्ड बैंक पहुंचा पाकिस्तान
Total View  401

इस्लामाबाद पाकिस्तान ने बताया है कि 1960 के सिंधु जल समझौते के उल्लंघन का मुद्दा विश्व बैंक के सामने उठाने के लिए उसने अपना चार सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल वॉशिंगटन रवाना किया है।

 पाकिस्तान ने यह कदम प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जम्मू- कश्मीर में 330 मेगावॉट वाले किशनगंगा पनबिजली प्रॉजेक्ट के उद्घाटन करने के बाद उठाया है। पाकिस्तान इस प्रॉजेक्ट का विरोध करता रहा है। वह सिंधु नदी में भारत के कई प्रॉजेक्ट्स का यह कहकर विरोध करता रहा है कि वे वल्र्ड बैंक की मध्यस्थता में हुए सिंधु जल समझौते का उल्लंघन हैं।

विश्व बैंक ने सिंधु और उसकी सहायक नदियों के पानी का बंटवारा करने के लिए यह समझौता करवाया था। सिंधु पर पाकिस्तान की 80 प्रतिशत कृषि निर्भर करती है। भारत का दावा है कि सिंधु नदी समझौते के तहत उसे पनबिजली परियोजना का अधिकार है और इससे नदी के बहाव में या जलस्तर में कोई बदलाव नहीं आएगा। उधर वॉशिंगटन में पाकिस्तानी उच्चायुक्त एजाज अहमद चौधरी ने कहा कि अटॉर्नी जनरल अश्तर ऑसफ अली के नेतृत्व में एक चार सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल सोमवार को विश्व बैंक के अधिकारियों से बात करेगा। किशनगंगा बांध के निर्माण पर इस बैठक में चर्चा होगी। यह भारत द्वारा सिंधु जल समझौते का उल्लंघन है।
पाकिस्तानी प्रतिनिधिमंडल विश्व बैंक अध्यक्ष के सामने भी यह मुद्दा उठाएगा। चौधरी ने कहा कि वर्ल्ड बैंक इस अंतरराष्ट्रीय समझौते का गारंटर था और इसलिए इस मामले में उसे अपनी प्रतिबद्धता दिखाते हुए हस्तक्षेप करना चाहिए। उन्होंने कहा, यह बांध पाकिस्तान की तरफ आ रहे पानी पर बना है, जिससे पानी की आपूर्ति पर गंभीर असर पड़ेगा, जो कि देश की कृषि व्यवस्था का अहम हिस्सा है।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   3296810
 
     
Related Links :-
बांग्लादेशी हिंदुओं को पीएम का दिवाली गिफ्ट शेख हसीना ने मंदिर को दान की 43 करोड़ की डेढ़ बीघा जमीन
क्रीमिया कॉलेज में आत्मघाती हमला, 18 लोगों की मौत
युगांडा में भारी बारिश, भूस्खलन के बाद नदी उफनी, 41 लोगों की मौत
188 मत हासिल कर भारत ने जीता यूएन मानवाधिकार परिषद का चुनाव
भारतीय विदेशों में फहरा रहे देश का परचम: राष्‍ट्रपति कोविंद
सात रोहिंग्गियों को भारत सरकार ने म्यांमार वापस भेजा यूएनएचसीआर ने की भारत की आलोचना
मून के ऐलान से दुनिया ने ली राहत की सांस परमाणु निरस्त्रीकरण के लिए तैयार है नॉर्थ कोरिया
अफगानिस्तान को तालिबान से मुक्त करने के अमेरिकी दावे खोखले
भारत का रणनीतिक कदम, श्रीलंका के पलाली एयरपोर्ट को करेगा विकसित
अमेरिका में कुत्ते-बिल्ली मांस बिक्री पर लगाया प्रतिबंध पर मंत्री अनिल विज ने कहा आश्चर्यजनक है इसमें गाय का जिक्र नही