समाचार ब्यूरो
16/06/2018  :  11:34 HH:MM
अब पहचान में नहीं आतीं ये अभिनेत्रिया
Total View  41

बॉ लीवुड में गुजरे जमान के कई दिग्गज अभिनेत्रियां अपनी खूबसूरती के साथ ही अभिनय के लिए आज भी याद की जाती हैं। इन अभिनेत्रियों ने लंबे समय तक रुपहले परदे पर अपनी अभिनय का जादू बिखेरा है।

समय के साथ ही अब ये अभिनेत्रियां भी काफी बदल गयीं हैं और पहचान में नहीं आतीं। इस कड़ी में सबसे पहले बात करेंगे अभिनेत्री राखी गुलजार की। राखी पुराने जमाने की जानी-मानी अभिनेत्री रही हैं और उन्होंने कई फिल्मों में मां के दमदार रोल भी किए हैं। उन्होंने 70 से 80 के दशक में एक से एक हिट फिल्में दी जिसमें
दाग, कभी-कभी और कसमें वादें जैसी सुपरहिट फिल्में शामिल हैं। साल 2009 के बाद उन्हें फिल्मी परदे पर नहीं देखा गया और वह लाइमलाइट से दूर होती चली गईं।वह गीतकार गुलजार की पत्नी हैं।

अभिनेत्री काजोल की मां तनुजा अपने समय की सुपरहिट अभिनेत्री रहीं हैं। हालांकि अभी भी वह फिल्मों में छोटे-मोटे किरदार में नजर आती हैं। बता दें कि तनुजा ने बंगाली फिल्मों के जाने-माने निर्देशक शोमू मुखर्जी से शादी की थी पर शादी के कुछ सालों बाद ही दोनों अलग हो गए। वहीं साल 2008 में शोमू का निधन हो गया। ये हैं तनुजा की यादगार फिल्में-छबीली ,बहारें फिर आएंगी, ज्वेल थीफ ,हाथी मेरे साथी ,मेरे जीवन साथी ,अमीर- गरीब, याराना, महिवाल, रखवाला, साथिया, खाकी , सन ऑफ सरदार। फिल्म जगत में वहीदा रहमान को खूबसूरत अदाकारा और एक नृत्यांगना के रूप में जाना जाता है। वह अपने दौर की बेहतरीन डांसरों में से एक थीं। यहां तक कि उनके अभिनय के लोग कायल थे। उन्होंने देवानंद के साथ ब्लॉकबस्टर फिल्म गाइड में अपने अभिनय का लोहा मनवाया था। ये हैं उनकी यादगार फिल्में- ह्रश्वयासा, सीआईडी, सोहलवा साल, कागज के फूल, साहेब बीवी और गुलाम, पत्थर के सनम, राम और श्याम और नमक हलाल।अभिनेत्री माला सिन्हा की खूबसूरती का कोई जवाब नहीं था। साल 1966 में माला सिन्हा को नेपाली फिल्म माटिघर में काम करने का मौका मिला था। इस दौरान उनकी मुलाकात एक्टर चिदंबर प्रसाद लोहानी से हुई। इसके दो साल बाद 1968 में दोनों ने शादी कर ली। फिलहाल माला मुंबई में रहती हैं। माला की बेटी प्रतिभा सिन्हा ने बॉलीवुड में आने का पूरजोर प्रयास किया लेकिन सफलता हासिल नहीं हुई। इसी दुख के चलते उन्होंने फिल्म इडं स्टी्र स े दरू ी बना ली। उनकी यादगार फिल्मों में आंखें, दो कलियां, गुमराह, ह्रश्वयासा, नया जमाना और सुहागन जैसी सुपरहिट फिल्में शामिल हैं। अभिनेत्री वैजयंतीमाला ने 13 साल की उम्र से ही फिल्मों में काम करना शुरू कर दिया था। उनकी मां वसुंधरा 40 के दशक में तमिल फिल्मों की पॉपुलर और सुपरहिट अभिनेत्री थीं। इसलिए वैजयंतीमाला को एक्टिंग और डांस की कला विरासत में मिली। उन्होंने हिंदी फिल्म इंडस्ट्री में नागिन, देवदास, नया दौर, कठपुतली, मुधमती, गंगा जमुना, संगम जैसी हिट फिल्मों काम किया। आशा पारेख का नाम आज भी चर्चाओं में बना रहता है। साल 1994 से 2001 तक आशा फिल्म कलाकर संघ की अध्यक्ष रही और 1998-2001 तक केन्द्रीय के सेंसर बोर्ड की पहली महिला अध्यक्ष भी रहीं 7 आशा ने शादी नहीं की है। शादी को लेकर उन्होंने कहा कि 'यदि शादी हो गयी होती तो आज जितने भी काम कर पाई हूं शादी के बाद उससे आधा भी नहीं कर पाती। आशा ने मां, आसमान, बाप-बेटी, दिल देके देखो, जब ह्रश्वयार किसी से होता है, मेरे सनम, तीसरी मंजिल, आए दिन बहार के और आया सावन झूम के जैसी ब्लॉकब स्टर फिल्मों में अपनी एक्टिंग का लोहा मनवाया। कपूर खानदान की बहू बबीता का फिल्मी करियर भी बहुत शानदार रहा। वह अभिनेता रणधीर कपूर की पत्नी हैं। उनकी दो बेटी करीना और करिश्मा हैं। बबीता ने अपने फिल्मी करियर में हसीना मान जाएगी, फर्ज, तुमसे अच्छा कौन है, एक हसीना दो दीवानें में काम किया।

साधना अपनी खूबसूरती को लेकर सबसे ज्यादा लोकप्रिय थीं। साधना का नाम उनके पिता की फेवरेट अभिनेत्री साधना बोस के नाम पर रखा गया। साधना के पिता और एक्टर हरी शिवदसानी भाई-भाई थे और हरी की बेटी करीना कपूर की मां बबीता हैं। बात करें साधना के फिल्मी करियर की तो उनका लोकप्रिय गीत झुमका
गिरा रे बरेली के बाजार में आज भी लोगों की जुबां पर रटा हुआ है। साधना ने मेरा साया, वो कौन थी, वक्त जैसी जबरदस्त फिल्मों में काम किया। लेकिन आज साधना की शक्ल पहचान में नहीं आ रही है।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   1996376
 
     
Related Links :-
सोशल मीडिया पर कार्तिक आर्यन की नई फिल्म लुकाछुपी का तडक़ा!
दो मेन्टलों को लाने के लिए उत्साहित हूं : शैलेश आर सिंह
लोकप्रिय अभिनेत्री जैकलीन से आगे बढक़र शीर्ष पर पहुंची
ऐश्वर्या फिल्म प्रोड्यूसर्स से हुईं नाराज
पत्नी नहीं चाहतीं कि विवेक टीवी शो में बने जज
सुपरमॉडल बनना चाहती हैं अनुकृति
नौवें साल में नई और विविध श्रेणियों के साथ जागरण फिल्म फेस्टिवल का उद्घाटन
फिल्म ‘धडक़’ के प्रमोशन से भी सुर्खियां बटोर रहीं हैं जाह्नवी
नेहा कक्कड़ ने दस का दम में की अपने सफर पर बात
आदित्य से शादी करना मेरी जिंदगी की सबसे बड़ी दुविधा थी: जरीना