समाचार ब्यूरो
22/06/2018  :  10:44 HH:MM
जमीन से आसमान तक योग ही योग
Total View  381

देहरादून योग दुनिया में सबसे ज्यादा शक्तिशाली एकजुट करने वाले बलों’ में से एक बन गया है। दुनिया भर के लोगों के लिए यह गर्व का पल है कि लोग योग के साथ सूर्य के प्रकाश और गर्मी का स्वागत कर रहे हैं। अब देहरादून से डबलिन तक, शांघाई से शिकागो और जकार्ता से जोहानिसबर्ग तक हर जगह योग का प्रसार हो गया है।

यह बातें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहीं। बुधवार को चौथे अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर प्रधानमंत्री देहरादून के वन अनुसंधान संस्थान (एफआरआई) परिसर में बड़ी संख्या में एकत्रित हुए जनसमूह को संबोधित कर रहे थे। इसके साथ ही प्रधानमंत्री ने वन अनुसंधान संस्थान परिसर में योग के प्रति उत्साही 50 हजार लोगों और स्वयंसेवकों के साथ योगासन, प्राणायाम और ध्यान भी किया। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा- दुनिया ने योग को हाथोंहाथ स्वीकार किया है और हर साल मनाए जाने वाले अंतरराष्ट्रीय योग दिवस में इसकी झलक देखी जा सकती है। उन्होंने कहा कि बेहतर स्वास्थ्य और कल्याण के लिहाज से योग दिवस सबसे बड़े जनांदोलनों में से एक बन गया है। 

हमें अपनी विरासत,धरोहरों का सम्मान करना चाहिए 

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि अगर हम चाहते हैं, पूरा विश्व हमारा सम्मान करे तो हमें हमारी विरासत और धरोहर को सम्मान देने में संकोच नहीं करना चाहिए। उन्होंने कहा कि योग सुंदर है, क्योंकि यह प्राचीन है और आधुनिक भी है, यह स्थायी है और अभी तक विकसित हो रहा है; यह हमारे अतीत और वर्तमान की सर्वश्रेष्ठ पद्धति है और हमारे भविष्य के लिए उम्मीद की किरण भी दिखाता है।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   2325474
 
     
Related Links :-
शिविर में 100 यूनिट रक्त दान, 15 महिलाओं की कैंसर जांच
जादूई कोशिकाओं का मिलान- जीनबंधु द्वारा जीवन का एक उपहार
रोटरी दिवस पर क्लब ने लगाया रक्तदान शिविर
दिल्ली के सरकारी अस्पतालों में भीड़ कम करने को केजरीवाल का नया फार्मूला अब यूपी-हरियाणा के लोगों को इलाज के लिए देनी होगी फीस
स्वच्छता ही सेवा अभियान : कचरा प्रबंधन करने वाली आरडब्ल्यूए हुइ
वरदान साबित होगी आयुष्मान भारत योजना
शहीद भगत सिंह के चित्र के आगे कचरे का ढेर, लोगों में रोष
‘प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना’ रजिस्ट्रेशन कराने का आह्वान
नीले व हरे रंग के कूड़ेदान का करें प्रयोग
ह्रश्वलास्टिक समय की जरूरत लेकिन पॉलिथीन नहीं : राव इंद्रजीत