समाचार ब्यूरो
18/08/2018  :  16:57 HH:MM
राजनीति के पुरोधा थे अटल बिहारी वाजपेयी : मंगत राम बागड़ी
Total View  408

गुरुग्राम वार्ड 10 के पूर्व पार्षद मंगत राम बागड़ी और पार्षद शीतल बागड़ी ने पूर्व प्रधानमंत्री भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी के निधन पर गहरा शोक व्यक्त करते हुए उन्हें भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की। इस दौरान वार्ड के काफी नागरिक गण भी उप-ि स्थत रहे। सभी ने दो मिनट का मौन धारण कर अटल जी की आत्मा की शांति के लिए ईश्वर से प्रार्थना की।
लक्ष्मण विहार कार्यालय पर अटल जी के चित्र पर पुष्प अर्पित करते हुए मंगत राम बागड़ी ने कहा कि वाजपेई जी राजनीति के पुरोधा थे। हिन्दी, हिन्दुस्तान और मातृभूमि की रक्षा के लिए उनका जीवन समर्पित रहा। वे सदैव घृणा, द्वेष और दुर्भावना की राजनीति को नकारते रहे। उन्होंने अपने राजनीतिक जीवन में प्रेम, आपसी भाईचारा और विशुद्ध राजनीति का परिचय दिया। यही कारण था कि पक्ष और विपक्ष सहित सभी राजनीतिक दलों के नेता और आम जनता के दिलों में उनका सदैव स्थान बना रहा। राजनीति के अजातशत्रु अटल जी का उच्च आदर्श देश के राजनीतिज्ञों और युवाओं का मार्गदर्शन करता रहेगा। पार्षद शीतल बागड़ी ने उन्हें नमन करते हुए कहा कि अटल जी का हमारे बीच न रहना देश की सबसे बड़ी क्षति है। शीतल ने कहा कि अटल जी समाजिक समरसत्ता के परिचायक थे। उन्होंने अपनी कविताओं के माध्यम से हमेशा देश को जागरुक करने का काम किया, वहीं प्रधानमंत्री के रुप में उन्होंने देश के विकास को एक नया आयाम दिया। उनके आदर्श हमेशा हमारे लिए प्रेरणास्रोत रहेंगे। श्रद्धांजलि अर्पित करते समय रेनू, मूलचंद शर्मा, सुभाष पाहवा, अगस्त वसिष्ठ, रोहताश गुज्जर, जगदीश रावत, साहिल, प्रदीप शर्मा, राजेंद्र राउत मौजूद रहे और सभी ने नम आंखों के साथ अटल जी को अंतिम विदाई दी।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   2531125
 
     
Related Links :-
ग्रुप डी के विभिन्न पदों को परीक्षाएं संपन्न
मुख्यमंत्री ने श्रमिकों के उत्थान एवं कल्याण के लिए अनूठी योजनाएं एवं कार्यक्रम चलाए
कम बिजली खपत वाले गरीब परिवारों को होगा सीधा लाभ बिजली बिल में राहत मुख्यमंत्री खट्टर का निर्णय ऐतिहासिक
शोक जताने विधायक के आवास पर पहुंचे कृषि मंत्री
आने वाला समय इनेलो का : कौशिक
कुल्लू में मूसलाधार बारिश, बर्फबारी के बाद अलर्ट
केंद्र शासित चंडीगढ़ में प्रशासकीय पदों का मामला चंडीगढ़ में हिस्सेदारी का मुद्दा गर्माया कैह्रश्वटन ने प्रधानमंत्री को लिखा पत्र
शांति और अहिंसा की आवाज है भारत : उपराष्‍ट्रपति नायडू
छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव पहले चरण के लिए प्रचार थमा, आखिरी दिन शाह और राहुल ने झोंक दी ताकत
प्रधानमंत्री की रैली को दिया ‘जन विकास रैली’ का नाम : बराला