समाचार ब्यूरो
10/10/2018  :  09:30 HH:MM
आयातकों के हाथ खींचने से बाजार में माल की आवक कम हुई आयात में दोगुनी टैरिफ से बाजार में चाइनीज लाइटिंग का सन्नाटा
Total View  438

नई दिल्ली इस साल रुपये में ऐतिहासिक गिरावट और चाइनीज उत्पादों पर लगातार टैरिफ बढ़ाए जाने से चाइनीज लाइटिंग और इलेक्ट्रिक आइटमों के बाजार में सन्नाटा है। आयातकों के हाथ खींचने से बाजार में माल की आवक बहुत कम हुई है और कीमतें 35 से 40 फीसदी तक अधिक बताई जा रही हैं। बहुत से रॉ मैटीरियल पर भी ड्यूटी बढऩे के चलते घरेलू मैन्युफैक्चरर्स ने भी दाम बढ़ा दिए हैं।

इलेक्ट्रिकल आइटमों के सबसे बड़े बाजार भगीरथ पैलेस में दिल्ली इलेक्ट्रिकल ट्रेडर्स एसोसिएशन के पूर्व अध्यक्ष अजय शर्मा ने बताया कि दिवाली ट्रेड के लिहाज से यह साल हालिया वर्षों में सबसे खराब रहने वाला है। दो साल पहले चाइनीज आइटमों के बहिष्कार के आह्वान के बावजूद आयात में उतनी कमी नहीं आई थी, जितनी इस साल रुपये में ऐतिहासिक गिरावट और चाइनीज उत्पादों पर लगातार टैरिफ बढ़ाए जाने से आई है। लडिय़ों के हब लक्ष्मी मार्केट के आयातक प्रदीप कोचर ने बताया, पिछली दिवाली के बाद से चाइनीज
एलईडी लाइट्स पर बेसिक कस्टम ड्यूटी दोगुनी हो चुकी है, जबकि काउंटरवेलिंग ड्यूटी, सेस और अन्य चार्जेज के साथ आयात कॉस्ट कम से कम दोगुनी बढ़ी है। उस पर से रुपया डॉलर के मुकाबले करीब 15 फीसदी तक गिर चुका है। इससे चाइना से बहुत कम माल आया है और दाम भी 35-40 फीसदी ज्यादा हैं। उन्होंने बताया कि मार्च के बाद से कई चाइनीज इलेक्ट्रिकल और इलेक्ट्रॉनिक आइटमों पर ड्यूटी में तीन दौर का इजाफा हो चुका है। इसके अलावा कॉपर सहित मेटल के दामों में तेजी से भी इलेक्ट्रिकल सामान उतने सस्ते नहीं रह गए हैं। इम्पोर्टर्स का कहना है कि डीजीएफटी और कस्टम के लेवल पर क्लियरंस नॉर्म्स टाइट होने से जो माल एक महीने में आ जाता था, उसकी डिलीवरी में दो महीने का समय लग रहा है। डीआरआई की छानबीन भी बढ़ी है। चाइनीज आयातकों पर बंदिशों के चलते घरेलू मैन्युफैक्चरर्स के उत्पाद भी महंगे हुए हैं। ई-कॉमर्स कंपनियों ने कई देसी ब्रैंड्स के साथ डील कर फेस्टिव ऑफर्स में बड़ी छूट देने की पेशकश की है। पहली बार इसमें इलेक्ट्रिकल अह्रश्वलायंसेज और लाइटिंग को भी शामिल किया गया है। इससे भी लोकल बाजारों की सेल्स को झटका लगा है। इस साल बाजारों में सामाजिक संगठनों की ओर से चाइना के बहिष्कार को लेकर कोई मुहिम नहीं दिख रही है। खुद ट्रेडर भी ऊंची लागत के चलते उसमें दिलचस्पी नहीं दिखा रहे हैं।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   8241606
 
     
Related Links :-
राज्य के खऱीद कामों से पंजाब एग्रो को हटाने के लिए सैद्धांतिक मंजूरी सीएम ने एफसीआई के पीछे हटने पर जताई चिंता
हरियाणा के वित्त मंत्री कैह्रश्वटन अभिमन्यू ने कहा साईबर सिक्योरिटी पोर्टल शुरू करने वाला पहला प्रांत
किसान उत्पादक संघ के रूप में संगठित हो कृषि को लाभकारी बनाएं किसान : भनवाला
बढ़ी हुई आय संबंधित शहरों के विकास पर ही ख़र्च होगी शहरों के लिए खजाना साबित हुई नई आउटडोर विज्ञापन नीति : सिद्धू
एफएससी ने किया इंडिया फूड ग्रिड का शुभारंभ
हड़ताल के दूसरे दिन भी हुआ कामकाज प्रभावित
सौ से अधिक महिला उद्यमियों ने किया सम्मेलन को संबोधित
मुख्य सचिव ने उच्चाधिकारियों को विभागीय बजट को समय पर उपयोग करने के निर्देश
खाद्यय आपूर्ति एवं उपभोक्ता मामले के मंत्री कर्णदेव काम्बोज ने कहा भाजपा किसानों की सच्ची हितेषी, दिया उचित मुआवजा
पंजाब एग्रो को दुबई आधारित लुलु ग्रुप से मिला आर्डर 200 मीट्रिक टन किन्नू संयुक्त अरब अमीरात को होगा निर्यात