Breaking News
बिहार में बाढ़ का तांडव, 29 लोगों की जान गई  |  भारत का लंबा प्रयास हो रहा निष्प्रभावी अफगानिस्तान-अमेरिका ने शांति वार्ता से भारत को किया अलग  |  गुरुग्राम को हरा भरा और प्रदूषण मुक्त करना सभी की जिम्मेदारी : राव  |  दिल्ली-एनसीआर क्षेत्र में महिलाओं की सुरक्षा को लेकर चर्चा  |  पुलिस आयुक्त मोहम्मद अकिल और उपायुक्त अमित खत्री सम्मानित  |  अशोक सांगवान की अध्यक्षता में गुरुग्राम महानगर विकास प्राधिकरण की बैठक जल भराव संबंधी शिकायतों के लिए बना कंट्रोल रूम  |  हुनरमंद युवा अपनी प्रतिभा के दम पर प्राप्त कर सकेगा रोजगार :बीरपंथी  |  बरसात के बाद जी.टी. रोड पर भरा पानी, राहगीर हुए परेशान  |  
 
 
समाचार ब्यूरो
14/10/2018  :  12:07 HH:MM
किसानों ने धान के अवशेषों को आग के हवाले कर दिया
Total View  621

रिफाइनरी/घरौंडा़ फसल अवशेषों में कोई किसान आग न लगाए, इसके लिए प्रदेश सरकार भरसक प्रयास कर रहे है। लेकिन नियमों को ताक पर रख किसान फसल अवशेष जलाने से नहीं चूक रहे है। ऐसा ही एक नजारा शनिवार को गांव रजापुर के आस-पास दिखाई दिया, जहां किसानों ने धान के अवशेषों को आग के हवाले कर दिया।

फानों में आग लगने से धुएं का एक गुबार आसमान में छा गया और सडक़ से गुजरने वालों को परेशानियों का सामना करना पड़ा। हालांकि गांव रजापुर में कुछ दिन पहले किसानों को फसल अवशेष जलाने से होने वाली हानियों के बारे में कृषि विभाग ने एक कैम्प लगाया था। जिसमें किसानों को फसल अवशेष जलाने से पर्यावरण व भूमि को होने वाले नुकसानों से अवगत करवाया था। साथ ही यह भी बताया था कि यदि कोई किसान फानों में आग लगाता है तो उस पर जुर्माना भी लगाया जाएगा। बावजूद इसके अधिकारियों के ये बातें
किसानों पर कोई असर न दिखा सकी। रात के अंधेरे में जलाए जाते है फसल अवशेष : जापुर में फसल अवशेष जलाने का यह कोई पहला मामला नही है। इससे पूर्व भी बहुत से किसानों ने फानों में आग लगाई है। आग लगाने का यह खेल रात के अंधेरे में ज्यादा होता है, क्योंकि दिन के उजाले में तो कोई अधिकारी मौके पर आ पहुंचता है लेकिन रात के समय इस प्रकार का खतरा कम रहता है। जिससे बेखौफ किसान फसल अवशेषों को आग लगा देते है। घुटने लगता है दम-ग्रामीणों और राहगीरों का कहना है कि जहां पर भी खेतों में आग लगाई जाती है वहां पर वातावरण में धुआं ही धुआं फैल जाता है। जिससे सांस लेने में भी परेशानी होती है। साथ ही आंखों में भी जलन होने लगती है और वातावरण में उमस भर जाती है। ग्रामीणों का कहना है कि हर साल यह समस्या सामने आती है, किसान खेतों में आग लगाते है और प्रशासन कुछ जुर्माना लगाकर कार्रवाई के नाम पर खानापूर्ति कर देता है। मैं क्या कर सकता हूं। जिला प्रशासन ने सभी पंचायतों को इस बारे में निर्देश जारी किए हुए। लेकिन रजापुर पंचायत के सरपंच इस ओर से गैरजिम्मेदार बने हुए है। सरपंच का कहना है कि मैने गांव में मुनियादी करवा रखी है कि कोई किसान फसल अवशेष न जलाए, लेकिन जब मैं किसी काम के लिए गांव से बाहर चला जाता हूं तो मेरे पीछे से कोई खेतों में आग लगा दें, तो इसमें मैं क्या कर सकता हूं। सरपंच अमरजीत, ग्राम पंचायत रजापुर






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   1072244
 
     
Related Links :-
हार्ट में 2 छेद वाले बच्चे को मिली नई जिंदगी
एमजीएफ मैट्रोपॉलिटन मॉल में लगा कंपोस्ट ह्रश्वलांट
हरियाणा अव्वल स्थान पर रहा प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना में: अनिल विज
स्वास्थ्य जागरूकता कार्यक्रम 6 जुलाई को अंबाला में : कादियान
स्वस्थ जीवन की शुरुआत करने में सहयोग करें : मनोहर लाल
पीएम के साथ कॉस्मॉस-माया के मोटू-पतलू ने किया योगासन
महिलाओं में शर्मसार करने वाली बीमारी का बढ़ रहा है प्रकोप
हरियाणा में हर जिले से हलका स्तर पर योग दिवस के कार्यक्रम, सोनीपत में कविता जैन ने किया योग जीवन शैली में परिवर्तन लाएगा योगा
फाइनल रिहर्सल : 4 हजार से अधिक साधकों ने एक साथ किया योगाभ्यास
अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के आयोजन की तैयारियों को अंतिम रूप