Breaking News
अस्थायी तौर पर जेट की सभी उड़ानें रद्द की गइ  |  मतदान में बुजुर्ग भी नहीं रहे पीछे कोई एम्बुलेंस से तो कोई व्हील चेयर पर वोट डालने पहुंचे  |  अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस के प्रस्ताव को किया खारिज मसूद अजहर को लेकर चीन के रुख में कोई बदलाव नहीं  |  गुड फ्रायडे : त्याग और बलिदान का दिन  |  दिनों दिन बढ़ती जा रही है वोटिंग ताऊ की लोकप्रियत  |  राइडिंग को बनाए रोमांचक! होंडा ने भारत में शुरू किया अपना एक्सक्लुसिव प्रीमियम रीटेल होंडा बिग विंग  |  प्रशासन, विभागों और आमजन के बीच में तालमेल आवश्यक : एक्सपेंडिचर ऑब्जर्वर  |  राव अभय सिंह के भाजपा कार्यालय का राव इंद्रजीत सिंह ने किया उद्घाटन ‘विकास के हर कार्य का हिसाब दंूगा’  |  
 
 
समाचार ब्यूरो
16/10/2018  :  12:57 HH:MM
निमोनिया व दिमागी बुखार से बचाव के लिए पीसीवी लांच किया गया
Total View  535

गुरूग्राम में सोमवार को निमोनिया व दिमागी बुखार से बचाव के लिए न्यूमोकोकल कॉन्जयूगेट वैक्सीन (पीसीवी) लांच किया गया। इस वैक्सीन की शुरूआत उपायुक्त विनय प्रताप सिंह ने लघु सचिवालय में आयोजित कार्यक्रम में आशावर्करोंए एएनएमए अभिभावकों की उपस्थिति में की। इस मौके पर एएनएम द्वारा नवजात शिशुओ को इस वैक्सीन की पहली डोज भी लगाई गई। कार्यक्रम में उपायुक्त ने पीसीवी वैक्सीन संबंधी संशय दूर करने के लिए बुकलेट का भी विमोचन किया गया। इस अवसर पर एएनएमए आशावर्करों व अभिभावकों के लिए वैक्सीन की जानकारी के लिए ट्रेनिंग सैशन भी रखा गया था।

वैक्सीन के लांचिंग अवसर पर उपायुक्त ने कहा कि पीसीवी एक महत्वपूर्ण वैक्सीन है जिसे अब हरियाणा सरकार द्वारा स्वास्थ्य विभाग के माध्यम से बच्चों को नि:शुल्क लगाया जाएगा। यह वैक्सीन तीन डोज में लगाया जाएगा। इस वैक्सीन की पहली डोज बच्चों को 6 सप्ताहए दूसरी डोज 14वें सप्ताह तथा तीसरी बूस्टर डोज बच्चे के 9 महीने का होने उपरांत लगाई जाएगी। इस वैक्सीन से बच्चे को न्यूमोकोकल बैक्टीरिया द्वारा होने वाले न्यूमोनिया व दिमागी बुखार से सुरक्षा प्रदान करने में मदद मिलेगी। उन्होंने कहा कि इस वैक्सीन
को पहली बार हरियाणा सरकार द्वारा बच्चों को नि:शुल्क लगाया जा रहा है। प्राइवेट अस्पतालों में इस वैक्सीन की एक डोज की कीमत लगभग 4000 रूह्रश्वये बताई गई है लेकिन अब हरियाणा सरकार ने इस वैक्सीन के महत्व को समझते हुए इसे बच्चों को नि:शुल्क लगाने का निर्णय लिया है। इस वैक्सीन को बच्चों को लगने वाले नियमित टीकाकरण में शामिल किया जाएगा।

उपायुक्त ने कार्यक्रम में उपस्थित स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियोंए एएनएम व आशावर्करों को संबोधित करते हुए कहा कि वे इस वैक्सीन के महत्व के बारे में समझें और अभिभावकों को इसके बारे में जागरूक करें। उन्होंने कहा कि इस कार्यक्रम को बिना जन भागीदारी के
सफल नही बनाया जा सकता। इसकी सफलता के लिए प्रत्येक व्यक्ति को अपनी जिम्मेदारी समझनी होगी। इस कार्यक्रम के तहत जिला के अधिक के अधिक बच्चों के टीकाकरण की जिम्मेदारी हमारी हैए जिसके लिए जरूरी है कि लोगों तक इसकी जानकारी पहुंचे। उन्होंने कहा कि एएनएम टीकाकरण का काम ठीक सें करें और वैक्सीनेशन के लिए आने वाले अभिभावकों को टीकाकरण की जानकारी देने के साथ साथ उन्हें इससे संबंधित जरूरी जानकारी दें। उन्होंने कहा कि वे अभिभावकों को बच्चें के टीकाकरण के बाद होने वाले संभावित लक्षणों के बारे में पहले से ही बताएं ताकि वे बाद में घबराएं नही। इसके साथ ही वे अभिभावकों को बताए कि यह वैक्सीन बच्चे को क्यों लगाई जा रही है और इससे बच्चे को क्या फायदा होगा। कार्यक्रम में उपायुक्त की उपस्थिति में करीब 6 बच्चों को वैक्सीन की पहली डोज भी लगाई गई। वैक्सीनेशन के दौरान एएनएम ने अभिभावकों को पीसीवी वैक्सीन के बारे में आवश्यक जानकारी दी। उन्होंने अभिभावकों को बताया कि पीसीवी एक सुरक्षित वैक्सीन है। अन्य वैक्सीन की तरहए यह देने पर भी बच्चें को टीकाकरण के बाद हल्का बुखार या लालीपन हो सकता हैए इससे घबराएं नहीं। उन्होंने कहा कि नवजाज शिशुओं को लगाए जाने वाले टीकाकरण कार्यक्रम में इस टीके को भी शामिल कर दिया गया है। यह प्रमाणित हो चुका है कि एक ही समय में कई टीके दिए जानाए बच्चों के लिए पूरी तरह से सुरक्षित है।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   1194482
 
     
Related Links :-
नि:शुल्क आयुर्वेदिक चिकित्सा शिविर का 20 अप्रैल को आयोजन
लंबे समय तक कंधे का दर्द : यह रोटेटर कफ टियर हो सकता है
वयस्क और बच्चें हो रहे एनीमिया के शिकार
रेडक्रॉस सोसायटी गुरुग्राम के सहयोग से रक्त दान शिविर
जनरूफ टेक के साथ अपने घर को तीन अतिरिक्त, मूल्य से जोड
उच्च रक्तचाप से विकलांगता और हृदय रोग हो सकते हैं : डॉक्टर अमर सिंघल
थोड़ा भी असहज महसूस करें तो कोताही नहीं बरते
स्तन कैंसर जागरूकता पहल ‘थैंक्स-ए-डॉट’
मलेरिया और बुखार की बीमारी को सामान्य न समझे : वीना हुड्डा
रेडक्रॉस सोसायटी : रक्तदाताओं ने किया 52 यूनिट रक्तदान