समाचार ब्यूरो
16/10/2018  :  12:57 HH:MM
निमोनिया व दिमागी बुखार से बचाव के लिए पीसीवी लांच किया गया
Total View  438

गुरूग्राम में सोमवार को निमोनिया व दिमागी बुखार से बचाव के लिए न्यूमोकोकल कॉन्जयूगेट वैक्सीन (पीसीवी) लांच किया गया। इस वैक्सीन की शुरूआत उपायुक्त विनय प्रताप सिंह ने लघु सचिवालय में आयोजित कार्यक्रम में आशावर्करोंए एएनएमए अभिभावकों की उपस्थिति में की। इस मौके पर एएनएम द्वारा नवजात शिशुओ को इस वैक्सीन की पहली डोज भी लगाई गई। कार्यक्रम में उपायुक्त ने पीसीवी वैक्सीन संबंधी संशय दूर करने के लिए बुकलेट का भी विमोचन किया गया। इस अवसर पर एएनएमए आशावर्करों व अभिभावकों के लिए वैक्सीन की जानकारी के लिए ट्रेनिंग सैशन भी रखा गया था।

वैक्सीन के लांचिंग अवसर पर उपायुक्त ने कहा कि पीसीवी एक महत्वपूर्ण वैक्सीन है जिसे अब हरियाणा सरकार द्वारा स्वास्थ्य विभाग के माध्यम से बच्चों को नि:शुल्क लगाया जाएगा। यह वैक्सीन तीन डोज में लगाया जाएगा। इस वैक्सीन की पहली डोज बच्चों को 6 सप्ताहए दूसरी डोज 14वें सप्ताह तथा तीसरी बूस्टर डोज बच्चे के 9 महीने का होने उपरांत लगाई जाएगी। इस वैक्सीन से बच्चे को न्यूमोकोकल बैक्टीरिया द्वारा होने वाले न्यूमोनिया व दिमागी बुखार से सुरक्षा प्रदान करने में मदद मिलेगी। उन्होंने कहा कि इस वैक्सीन
को पहली बार हरियाणा सरकार द्वारा बच्चों को नि:शुल्क लगाया जा रहा है। प्राइवेट अस्पतालों में इस वैक्सीन की एक डोज की कीमत लगभग 4000 रूह्रश्वये बताई गई है लेकिन अब हरियाणा सरकार ने इस वैक्सीन के महत्व को समझते हुए इसे बच्चों को नि:शुल्क लगाने का निर्णय लिया है। इस वैक्सीन को बच्चों को लगने वाले नियमित टीकाकरण में शामिल किया जाएगा।

उपायुक्त ने कार्यक्रम में उपस्थित स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियोंए एएनएम व आशावर्करों को संबोधित करते हुए कहा कि वे इस वैक्सीन के महत्व के बारे में समझें और अभिभावकों को इसके बारे में जागरूक करें। उन्होंने कहा कि इस कार्यक्रम को बिना जन भागीदारी के
सफल नही बनाया जा सकता। इसकी सफलता के लिए प्रत्येक व्यक्ति को अपनी जिम्मेदारी समझनी होगी। इस कार्यक्रम के तहत जिला के अधिक के अधिक बच्चों के टीकाकरण की जिम्मेदारी हमारी हैए जिसके लिए जरूरी है कि लोगों तक इसकी जानकारी पहुंचे। उन्होंने कहा कि एएनएम टीकाकरण का काम ठीक सें करें और वैक्सीनेशन के लिए आने वाले अभिभावकों को टीकाकरण की जानकारी देने के साथ साथ उन्हें इससे संबंधित जरूरी जानकारी दें। उन्होंने कहा कि वे अभिभावकों को बच्चें के टीकाकरण के बाद होने वाले संभावित लक्षणों के बारे में पहले से ही बताएं ताकि वे बाद में घबराएं नही। इसके साथ ही वे अभिभावकों को बताए कि यह वैक्सीन बच्चे को क्यों लगाई जा रही है और इससे बच्चे को क्या फायदा होगा। कार्यक्रम में उपायुक्त की उपस्थिति में करीब 6 बच्चों को वैक्सीन की पहली डोज भी लगाई गई। वैक्सीनेशन के दौरान एएनएम ने अभिभावकों को पीसीवी वैक्सीन के बारे में आवश्यक जानकारी दी। उन्होंने अभिभावकों को बताया कि पीसीवी एक सुरक्षित वैक्सीन है। अन्य वैक्सीन की तरहए यह देने पर भी बच्चें को टीकाकरण के बाद हल्का बुखार या लालीपन हो सकता हैए इससे घबराएं नहीं। उन्होंने कहा कि नवजाज शिशुओं को लगाए जाने वाले टीकाकरण कार्यक्रम में इस टीके को भी शामिल कर दिया गया है। यह प्रमाणित हो चुका है कि एक ही समय में कई टीके दिए जानाए बच्चों के लिए पूरी तरह से सुरक्षित है।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   3518631
 
     
Related Links :-
शिक्षा के साथ-साथ स्वास्थ जरूरी: रेनू सिंह
आर्य वीर नेत्र चिकित्सालय के कार्य सराहनीय :उमेश अग्रवाल
गंदगी में तब्दील हो चुके तालाब को पाईट कॉलेज बनाएगा सुंदर झील
लोग नशे जैसी कुरितियों को छोडक़र बच्चों को शिक्षा के लिए प्रेरित करे : सत्यदेव आर्य
जीवन के लिए वरदान है इलैक्ट्रोहोमयोपैथी: जीएल शर्मा
हील टोक्यो भारत में नि:शुल्क हीलिंग केंद्र खोलेगा
4 जनवरी से चालू है स्वच्छ सर्वेक्षण-2019 अन्य शहर की तरह गुरूग्राम शहर भी स्वच्छ सर्वेक्षण में ले रहा है हिस्सा
जन आरोग्य योजना : आयुष्मान भारत के तहत निर्धन परिवारों को 5 लाख तक का नि:शुल्क इलाज लाभार्थियों को मिला पीएम का संदेश पत्र
मेयर मधु आजाद ने नागरिकों को भेंट किए डस्टबिन
प्राइवेट अस्पतालों में भी मिल रहा है 5 लाख का मुफ्त इलाज