12/12/2018  :  10:59 HH:MM
ईआरए एक वरदान के रूप में सामने आया है : डॉ. भयाना
Total View  749

हिसार डाबडा रोड आईटीआई के समीप नोवा आईवीएफ फ र्टिलिटी कसल्टेंट डाण् पूजा धीर भयाना द्वारा हिसार में प्रेस वार्ता का आयोजन किया गया। डॉ पूजा धीर भयाना ने में कहा कि, अनेक बार आईवीएफ विफलता के दौर से गुजरने के बाद इलाज कराने वाले दंपती पर शारीरिक और भावनात्मक असर हो सकता है।

हालांकि आईवीएफ विफ लता के कई कारण हो सकते हैं, लेकिन एक बड़ा कारण यह हो सकता है कि भ्रुण को सही समय पर स्थानांतरित नहीं किया गया। ईआरए भु्रण के प्रत्यारोपण के लिए सही समय का निदान करने में मदद करता है। इससे अनेक आईवीएफ विफ
लताओं की आशंका भी कम हो जाती है और इस प्रकार महिलाओं में गर्भपात और इससे जुडे स्वास्थ्य संबंधी मुद्दों का खतरा भी कम हो जाता है। इस तरह के मामलों में ईआरए एक वरदान के रूप में सामने आया है और इसने कई लोगों के सपनों को पूरा कर दिखाया है। एंडोमेट्रियम तब ग्रहणशील होता है, जब वह भु्रण प्रत्यारोपण के लिए तैयार होता है। यह एक जनन सक्षम महिला के प्रत्येक मासिक धर्म चक्र में लगभग 19 -21 दिनों के आसपास होता है। ग्रहणशीलता की इस अवधि को विंडो ऑफ म्ह्रश्वलांटेशन के रूप में जाना जाता
है। अगर ग्रहणशील स्थिति नहीं है, तो विंडो ऑफ म्ह्रश्वलांटेशन एक विस्थापित खिडक़ी का संकेत दे सकती है। एंडोमेट्रियल रिसेह्रश्वटीविटी के निदान ने एक चुनौती प्रस्तुत की है और अब तक के सबसे अधिक उपलब्ध परीक्षण व्यक्ति परक हैं, इनमें सटीकता और पूर्वानुमान की कमी है। मरीजों में ईआरए परीक्षण का उपयोग प्रजनन क्षमता में सुधार करता है और बार-बार प्रत्यारोपण विफ लता को झेलने वाले मरीजों में एक सफ ल गर्भधारण की संभावनाएं जगाता है। डॉ पूजा ने आगे कहा, प्रत्यारोपण के लिए तैयार भु्रण और एंडोमेट्रियल ग्रहणशीलता में तालमेल की कमी के कारण रेकरिंग इम्ह्रश्वलांटेशन फेल्योर आरआईएफ के मामले सामने आते हैं। डॉ. पूजा ने बताया कि यही कारण है कि भु्रण ट्रांसफ र के लिए सर्वाधिक उचित दिन निर्धारित करने के लिए एंडोमेट्रियम का आकलन करना बहुत जरूरी है। परीक्षण उन रोगियों पर किया जाता हैए जिन्हें बेहतर मोर्फोलॉजिकल क्वालिटी के एम्ब्रियो के बावजूद आरआईएफ का सामना करना पड़ता है। नीतू 35 और अंगद 38 की शादी को 8 साल गुजर चुके हैं और वे पिछले 5 सालों से माता-पिता बनने की कोशिश कर रहे थे।
उन्हें आईवीएफ के कई चक्रों से गुजारा गयाए लेकिन सभी विफ ल रहे। अनेक विफ लताओं के बाद इस जोड़े ने अंततरू बेहतर परिणामों के लिए एन्डोमेट्रियल रिसेह्रिश्वटविटी आरे ईआरए परीक्षण से गुजरने का फैसला किया। नतीजा यह है कि आज यह जोड़ा 5 महीने के हंसते.खेलते बच्चे के खुशहाल माता-पिता हैं।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   6617169
 
     
Related Links :-
रोटरी हेल्थ कार्निवाल में रोटेरियंस ने हेल्थ के प्रति किया जागरुक
डॉक्टर्स दिवाली की शुभकामनाएं देने मरीजों के घर पहुंच
डॉ.बेदी ने मिनिमली इनवेसिव सर्जरी में नए डेवलपमेंट्स पर गेस्ट लेक्चर दिया
डायबटीज से पीडि़तों के लिए आर्ट एग्जीबिशन
ऑर्थो कैम्प में 60 सीनियर सिटिजन की जांच की गई
रक्त की कमी से होने वाले थैलेसीमिया रोग का जागरुकता शिविर आयोजित
50 सीनियर सिटीजंस ने ‘मीट योअर डॉक्टर्स’ प्रोग्राम में हिस्सा लिया
भारत में कैंसर दूसरा सबसे बड़ा हत्यारा
वल्र्ड मेंटल हेल्थ डे: युवाओं ने खास अंदाज में दिया जागरूकता संदेश
स्तन कैंसर से बचने के लिए जागरूक और सावधान रहना जरूरी