Breaking News
68वीं अखिल भारतीय पुलिस कुश्ती समूह प्रतियोगिता का विधिवत समापन   |  अब बंदरों के उत्पात से शहरवासियों को मिलेगी निजात,निगम ने किया हेल्पलाइन नंबर जारी,0180-2642500 पर करें कॉल  |  टेंडर ब्रांच क्लर्क संदीप शर्मा व क्लर्क कमलकांत को निगमायुक्त ने किया टर्मिनेट  |  1000 स्कूल होंगे बस्तामुक्त, अंग्रेजी को बढ़ावा देगी सरकार  |  हरियाणा का एक लाख 42 हजार करोड़ रुपए से अधिक का बजट पेश  |  फाइन आर्टस एसोएिसशन ने अपनी मांगों को लेकर डिप्टी सीएम से मुलाकात की  |  शीरा घोटाला और सुगर मिल मामलों में मुख्यमंत्री की क्लीन के विरोध में बलराज कुण्डू का समर्थन वापसी का ऐलान  |   दिल्ली हिंसा पर गुर्जर समाज की पंचायत, मदद का दिया भरोसा  |  
 
01/02/2019  :  09:28 HH:MM
चुनौती पार कर गई बीजेपी
Total View  763

जींद हरियाणा की राजनीति को दिशा देते आ रहे जींद जिले की जिला मुख्यालय की जींद विधानसभा सीट बीजेपी के लिए सबसे मुश्किल रही थी अब बीजेपी ने इस मुशिकल को पार करते हुए 52 साल में पहली बार कमल खिलाया। इस सीट पर बीजेपी आज तक अपना खाता भी नहीं खोल पाई थी।

1991 में बीजेपी ने जींद सीट पर अपने सबसे मजबूत उम्मीद्वार पंडित श्यामलाल नंबरदार को चुनावी दंगल में उतारा था। उस समय मुख्य मुकाबला इनैलो के टेकराम कंडेला और कांग्रेस के मांगेराम गुप्ता के बीच हुआ था, जिसमें मांगेराम गुप्ता ने टेकराम कंडेला को लगभग 18 हजार मतों के अंतर से पराजित किया था। बीजेपी के पंडित श्यामलाल नंबरदार को उस समय लगभग 8 हजार वोट मिले थे। साल 2000 में हुए विधानसभा चुनावों में बीजेपी का सत्तारूढ़ दल इनैलो के साथ गठबंधन था और इस गठबंधन में जींद विधानसभा सीट बीजेपी के हिस्से में आई थी। बीजेपी ने तब लाला रामेश्वरदास गुप्ता को उम्मीद्वार बनाया था। इनैलो की तरफ से बागी उम्मीद्वार के रूप में गुलशन आहुजा ने भी चुनावी दंगल में ताल ठोंक दी थी। इस चुनाव में मुकाबला कांग्रेस के मांगेराम गुप्ता और इनैलो 
के बागी उम्मीद्वार गुलशन आहुजा के बीच रहा था, जिसमें बाजी मांगेराम गुप्ता ने मारी थी। बीजेपी उम्मीद्वार लाला रामेश्वरदास गुप्ता मुख्य मुकाबले से बहुत दूर रह गए थे। 2005 में जींद से बीजेपी ने श्रीनिवास वर्मा को चुनावी दंगल में उतारा था और वर्मा तमाम मेहनत के बावजूद महज 12 हजार वोट ही ले पाए थे और इसमें भी मुख्य मुकाबला कांग्रेस के मांगेराम गुप्ता और इनैलो के सुरेंद्र बरवाला के बीच हुआ था। 2009 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी ने जींद विधानसभा सीट पर स्वामी राघवानंद को उम्मीद्वार बनाया था और वह बीच चुनाव में ही बीजेपी की भीतरघात से तंग आकर रिटायर हो गए थे। अब 2019 में पहली बार बीजेपी कमल खिलाने में कामयाब हो गई।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   2048541
 
     
Related Links :-
68वीं अखिल भारतीय पुलिस कुश्ती समूह प्रतियोगिता का विधिवत समापन
अब बंदरों के उत्पात से शहरवासियों को मिलेगी निजात,निगम ने किया हेल्पलाइन नंबर जारी,0180-2642500 पर करें कॉल
टेंडर ब्रांच क्लर्क संदीप शर्मा व क्लर्क कमलकांत को निगमायुक्त ने किया टर्मिनेट
1000 स्कूल होंगे बस्तामुक्त, अंग्रेजी को बढ़ावा देगी सरकार
हरियाणा का एक लाख 42 हजार करोड़ रुपए से अधिक का बजट पेश
फाइन आर्टस एसोएिसशन ने अपनी मांगों को लेकर डिप्टी सीएम से मुलाकात की
शीरा घोटाला और सुगर मिल मामलों में मुख्यमंत्री की क्लीन के विरोध में बलराज कुण्डू का समर्थन वापसी का ऐलान
दिल्ली हिंसा पर गुर्जर समाज की पंचायत, मदद का दिया भरोसा
सैलजा ने अवैध निर्माण, वन्य जीवों की मौत, पेड़ों की अवैध कटाई जैसे मुद्दे पर मुख्यमंत्री को पत्र लिख कर चिंत्ता जताईं
बेरोजगारी खत्म करने के लिए बजट में उद्योगों को ज्यादा से ज्यादा सुविधा दी जाए : बजरंग गर्ग