Breaking News
भाजपा ने महज 10 महीने में कांग्रेस से हथिया ली दो राज्यों की सत्ता   |  अवैध रूप से सीएंडडी वेस्ट डंपिंग करने वालों पर की जा रही है कार्रवाई  |  कोराना (कोविड-19) से स्वच्छता, सतर्कता व जागरुकता ही बचाव : नरेश नरवाल  |  आज का देश की महिलाओं व हमारी बच्ची के लिए ऐतिहासिक दिन है : बजरंग गर्ग  |  कोविड 2019 संक्रमण को फैलने से रोकने के उपायों के बारे में आम जनता को ज्यादा से ज्यादा जागरूक करें : उपायुक्त  |  संदिग्ध मरीजों के लिए गुरुग्राम जिला में 22 आइसोलेटिड वार्ड तथा 4 क्वारंर्टाइन सुविधा बनाई गई  |  स्वयंसेवी संस्थाओं द्वारा संक्रमण से बचने के लिए लोगों को जागरूक किया जा रहा है  |  भाजपा ने प्रदेश पदाधिकारियों तथा प्रदेश मोर्चा अध्यक्षों की घोषणा की   |  
 
 
समाचार ब्यूरो
12/04/2019  :  12:44 HH:MM
चैत्र नवरात्र का सातवां दिन जीवन को मंगलमय बनातीं माता कालरात्रि
Total View  824

चैत्र नवरात्र के सातवें दिन माता दुर्गा के कालरात्रि रूप की पूजा की जाती है। धर्म शास्‍त्रों के अनुसार बुरी शक्तियों से पृथ्‍वी को बचाने और पाप को रोकने के लिए माता ने अपने तेज से इस रूप को उत्‍पन्‍न किया था। मॉं दुर्गा के सातवें स्वरूप माता कालरात्रि का रंग काला होने के कारण ही इन्हें कालरात्रि कहा गया।
बताया जाता है कि असुरों के राजा रक्तबीज का वध करने के लिए ही देवी दुर्गा ने अपने तेज से माता कालरात्रि को उत्पन्न किया था। इनकी पूजा शुभ फलदायी होती है, इस कारण इन्हें ‘शुभंकारी’ भी कहा जाता है। मान्यता अनुसार माता कालरात्रि की पूजा करने से मनुष्य समस्त सिद्धियों को प्राप्त कर लेता है। माता कालरात्रि पराशक्तियों यानी काला जादू की साधना करने वाले जातकों के बीच बेहद प्रसिद्ध हैं। माता की भक्ति से दुष्टों का नाश होता है और ग्रह बाधाएं दूर हो जाती हैं, जिससे साधक का जीवन मंगलमय हो जाता है। माता कालरात्रि के स्वरुप की बात करें तो वर्ण काली अंधेरी रात की तरह और बाल बिखरे हुए हैं। माता के गले में विधुत की माला है। माता के चार हाथ हैं जिसमें इन्होंने एक हाथ में कटार और एक हाथ में लोहे का कांटा धारण किया हुआ है। इसके अलावा इनके दो हाथ वरमुद्रा और अभय मुद्रा में है। इनके तीन नेत्र हैं तथा इनके श्वास से अग्नि निकलती है। कालरात्रि का वाहन गर्दभ यानी गधा है। चैत्र नवरात्र की सप्तमी तिथि के दिन भगवती की पूजा में गुड़ का नैवेद्य अर्पित करके ब्राह्मण को दान देना चाहिए। ऐसा करने से मनुष्य शोकमुक्त होता है। माता कालरात्रि की उपासना इस मंत्र से करना चाहिए। जीवन को मंगलमय बनाती






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   1969316
 
     
Related Links :-
शिक्षा, स्वास्थ्य, सुरक्षा और स्वावलम्बन पर रहेगा फोकस
महान शिक्षाशास्त्री थे डॉ. राधाकृष्णन
गुड फ्रायडे : त्याग और बलिदान का दिन
चैत्र नवरात्र अष्टमी पर विशेष शक्ति से भरपूर हैं शक्तिपीठ
चैत्र नवरात्र का छठां दिन भक्तों को वरदान देने वाली कात्यायनी
स्कंदमाता की पूजा से मिलेगा संतान सुख
नवरात्रि पर्व के चौथे दिन मां कुष्मांडा की पूजा
आस्था और विश्वास का संगम-खाटू श्याम
जनता ईमानदार राज-नीति चाहती है
बोर्ड परिक्षाओं में बेहतर अंकों के लिए ऐसे करें तैयारी