समाचार ब्यूरो
14/04/2019  :  10:45 HH:MM
विदेशों में बढ़ी भारतीय मिसाइलों की मांग कई देशों ने अपने बेड़े में भारतीय मिसाइल शामिल करने की जताई इच्छा
Total View  604

नई दिल्ली भारत लगातार रक्षा के मामलों में अपनी ताकत में बढ़ोत्तरी कर रहा है। भारत सरकार मेक इन इंडिया के तहत घरेलू रक्षा उत्पादों पर तेजी से काम कर रही है। वहीं भारत की तेज तर्रार स्वदेशी मिसाइलों पर दुनियाभर के देशों की नजर है। रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि कई देशों ने भारत की मिसाइलों को अपने बेड़े में शामिल करने की इच्छा जताई है। उन्होंने कहा कि भारत के पास घरेलू रक्षा उत्पादों की बिक्री के लिए प्रयाप्त निर्यात क्षमता है।
विवेकानंद इंटरनेशनल फाउंडेशन द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए रक्षा मंत्री ने कहा कि आज कई देशों द्वारा भारतीय मिसाइलों की मांग की जा रही है। उन्होंने कहा, मैं ये बताना चाहतीं हूं कि हमारे पास भारतीय सशस्त्र बलों के अलावा भी एक बाजार उपलब्ध है, जो भारत में बने रक्षा उत्पादों को खरीदने का इच्छुक है। रक्षा मंत्री ने कहा कि बहुत सारे देश भारत के साथ कई प्रकार के जुड़ाव रखने के इच्छुक हैं और खरीदारी करना चाहते हैं। भारत के पास विभिन्न उपकरणों के निर्यातक होने की अपार संभावनाएं हैं। रक्षा मंत्री ने कहा, मैं यहां तक भी कह सकती हूं कि भारत के पास एक युद्धपोत निर्माण करने की क्षमता भी है। दुनियां भारत की इस क्षमता को बहुत अच्छी तरह से जानती है। कई देश हैं जो कह रहे हैं, हमें वह क्षमता देने में हमारी मदद करें। 






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   533739
 
     
Related Links :-
राज्यसभा : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पूरे फॉर्म में नजर आए ईवीएम और एक देश-एक चुनाव पर विपक्ष को घेरा
‘पर ड्राप मोर क्रॉप’ विषय पर जागरूकता अभियान का आयोजन
बादशाहपुर ड्रेन : बरसात में नहीं होगी जलभराव की समस्या
रोड सेफ्टी के एक्शन ह्रश्वलान को लेकर विभिन्न विभागों के साथ बैठक
खत्म होने के कगार पर इनेलो का राजनीतिक अस्तित्व
मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर की अध्यक्षता में मंत्रिमंडल की बैठक दीन दयाल जन आवास योजना का होगा विस्तार
रोडवेज और पीआरटीसी की बसों में लगाए जाएंगे व्हीकल ट्रैकिंग सिस्टम
मुख्यमंत्री कैह्रश्वटन अमरिंदर सिंह के सिद्धू के प्रति और कड़े हुए तेवर एक सह्रश्वताह में संभालें पदभार नहीं तो छिनेगी कुर्सी
लोकसभा में बोले पीएम मोदी हम ‘लकीर छोटी करने की बजाय अपनी लकीर लंबी करने में विश्वास करते हैं
दुनिया भर के जल संकट वाले शहरों में चेन्नई नंबर-1