समाचार ब्यूरो
18/04/2019  :  10:00 HH:MM
लंबे समय तक कंधे का दर्द : यह रोटेटर कफ टियर हो सकता है
Total View  680

नई दिल्ली उनके लिए यह एक सामान्य कंधे का दर्द था,ज्यादा चिंतित होने वाली बात नहीं थी, लेकिन जब छह सप्ताह तक यह बना रहा, चिकित्सा की भावना प्रख्यात वैज्ञानिक और नीति आयोग के सदस्य डॉ. वीके सारस्वत पर हावी हो गई।

बीएलके सुपर स्पेशलिटी अस्पताल में डॉ.दीपक चौधरी निदेशक आर्थोस्कोपी और स्पोर्ट्स मेडिसिन को जानते थे, जिन्होंने नैदानिक जांच के बाद,इसे रोटेटर कफ टियर बताया। प्रारंभिक निदान और पारंपरिक उपचार (फिजियोथेरेपी) के साथ, डॉ. सारस्वत ने कंधे के दर्द से छुटकारा पा लिया और अब सक्रिय रूप से नियमित काम कर रहे हैं। डॉ. सारस्वत (66) अकेले नहीं हैं जिन्हें कंधे में दर्द होता है, जिसकी वजह फ्र ोजन शोल्डर नहीं बल्कि रोटेटर कफ टियर है। हरियाणा के भिवानी के एक राष्ट्रीय स्तर के युवा पहलवान, हेमंत (18) को अपने कंधे के दर्द से छुटकारा पाने के लिए मिनिमल इन्वेसिव आथ्र्रोस्कोपिक सर्जरी से गुजरना पड़ा। एक कुश्ती प्रतियोगिता के दौरान कंधे में गंभीर चोट लगी थी, जिसे पहले फ्र ोजन शोल्डर के रूप में निदान किया गया था और राहत के लिए स्टेरॉयड दिया गया था। दर्द जारी रहा और वह अपना हाथ नहीं हिला सकते थे। एक पारिवारिक मित्र की सलाह पर उन्होंने डॉ. चौधरी से सलाह ली और सही इलाज करवाया। डॉ. चौधरी ने कहा ऐसे मामलों में मरीज डॉक्टरों और फिजियोथेरेपिस्ट के पास जाते हैं, जो इस स्थिति का निदान फ्रोजन शोल्डर के रूप में करते हैं और मरीज कंधे में कुछ स्टेरॉयड शॉट्स और बिना किसी राहत के फिजियोथेरेपी के कई सत्रों से गुजरते हैं। हेमंत का मामला भी ऐसा ही था और समय पर निदान में रोटेटर कफ टियर की समस्या का पता चला और हमने एक न्यूनतम इनवेसिव सर्जरी का प्रदर्शन किया था, जहां कुछ आयातित एंकरों का उपयोग करके फटे हुए पुों को वापस हड्डी में रिपेयर किया गया था। सर्जरी के 6 महीने हो चुके हैं और वह दर्द से मुक्त है और अपने कंधे में सामान्य ताकत हासिल कर चुके हैं।

बीएलके सुपर स्पेशलिटी अस्पताल में छह माह में डॉ. चौधरी ने 80 से अधिक रोगियों का इलाज किया है। 70फीसदी रोगी रोटेटर कफ की समस्या से पीडि़त थे। डीआरडीओ के पूर्व सचिव डॉ. सारस्वत ने कहा, मुझे कंधे में तेज दर्द हो रहा था और मेरे लिए हाथ उठाना मुश्किल था। मैं दाहिने हाथ से आसान काम भी नहीं कर पा रहा था। शुरू में मुझे लगा कि कुछ भार उठाने या मांसपेशियों में खिंचाव के कारण यह कंधे का सामान्य दर्द है। जब दर्द दवाओं और व्यायाम से कम नहीं हुआ,तो दोस्तों ने मुझे फिजियोथेरेपिस्ट के पास जाने की सलाह दी क्योंकि यह फ्रोजन शोल्डर केस जैसा लगता है। इस बीच, मैंने अपने मित्र डॉ. चौधरी से सलाह ली और उन्होंने तुरंत ध्यान दिया। मुझे अवलोकन के तहत कुछ परीक्षण कराने के लिए कहा। मैं कंधे के दर्द से राहत देने के लिए और वह भी सर्जरी के बिना, उनका शुक्रगुजार हूं। डॉ. सारस्वत ने कहा हम कंधे के दर्द के इलाज में देरी करते हैं। पीडि़तों को रोटेटर कफ टियर और इसके लिए एक प्रभावी आथ्र्रोस्कोपिक उपचार की उपलब्धता के बारे में जागरूक होने की आवश्यकता है। डॉ. सारस्वत और हेमंत रोटर कफ टियर का निदान किए जाने से पहले लंबे समय तक कंधे के दर्द से पीडि़त रहने कई रोगियों के कुछ उदाहरण हैं और आथ्र्रोस्कोपिक सर्जरी के बाद दर्द मुक्त जीवन जी रहे हैं। डॉ. शिव चौकसे,एसोसिएट कंसल्टेंट, सेंटर फॉर स्पोर्ट्स मेडिसिन,बीएलके सुपर स्पेशलिटी अस्पताल ने समझाया। इस स्थिति के सफल उपचार की कुंजी यह है कि स्थिति का जल्द निदान किया जाए और अच्छी तरह से चयनित मामलों में ठीक से सुधार लाया जाए।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   6448020
 
     
Related Links :-
डीपीएमआई ने किया प्राथमिक चिकित्सा सत्र का आयोजन
गुरुग्राम जिले में 15 से 17 सितंबर तक पल्स पोलियो अभियान
गुरुग्राम विवि में मनाया गया विश्व फिजियोथेरेपी दिवस
घरेलू जड़ी बूटियां मुक्त रख सकती हैं तनाव से : दहिया
भारत ने यूनान के थेस्सालोनिकी अंतर्राष्ट्रीय मेले में लिया हिस्सा
सघन ओरल हेल्थ जागरूकता अभियान चलाया जाएगा : विज
स्वच्छ भारत मिशन हर भारतीय का अभियान बना : राष्ट्रपति कोविंद
‘मलेरिया मुक्त मेवात’ अभियान का शुभारंभ
अमेरिकन महिला को भारत में मिला चिकित्सा का उपहार
जब से बना नाला नहीं हुई सफाई