समाचार ब्यूरो
19/04/2019  :  10:54 HH:MM
अस्थायी तौर पर जेट की सभी उड़ानें रद्द की गइ
Total View  593

नई दिल्ली आर्थिक संकट से जूझ रही देश का किफायती हवाई सेवा जेट एयरवेज ने बुधवार रात से अस्थाई तौर पर अपनी सभी उड़ानों को रद्द करने का फैसला किया क्योंकि कंपनी के पास नगदी खत्म हो गई है और बैंकों ने उसे और कर्ज देने से इनकार कर दिया है। 26 साल से अपनी सेवाएं दे रही जेट एयरवेज ने आखिरकार अपनी उड़ाने रोक दी हैं। गौर करने वाली बात है कि जेट ने एक दिन में 650 फ्लाइट्स तक का परिचालन किया है। जेट की उड़ानें रुक जाने के बाद अब कंपनी के 16 हजार स्थाई और 6 हजार अनुबंधित कर्मचारियों के भविष्य पर सवाल खड़े कर दिए हैं।
पिछले एक दशक में किंगफिशर के बाद कामकाज बंद करने वाली जेट दूसरी कंपनी बन गई है। विजय माल्या की किंगफिशर ने साल 2012 में कामकाज बंद किया था। अब जेट की फ्लाइट्स दोबारा तभी उड़ान भर पाएंगी जबकि कंपनी को एक नया खरीददार मिले जो इसे नए सिरे से शुरू कर सके। जेट ने बुधवार रात अस्थाई तौर पर अपनी सेवाएं बंद करने का ऐलान करते हुए बीएसई की फाइलिंग में लिखा, बैंकों या किसी अन्य जरिये से कोई इमरजेंसी फंडिंग नहीं आ रही है। हमारे पास कामकाज जारी रखने के लिए तेल खरीदने या किसी अन्य सेवा के लिए भुगतान करने लायक पैसा भी नहीं है। इसलिए जेट तुरंत अपनी सारी इंटरनेशनल और डोमेस्टिक फ्लाइट्स बंद करने पर मजबूर हो गई है। आखिरी फ्लाइट बुधवार को उड़ान भरेगी। जेट ने मंगलवार के अपनी उड़ानों का परिचालन जारी रखने के लिए एसबीआई की अगुआई वाले कर्जदाताओं से 983 करोड़ रुपये के इमरजेंसी फंड की मांग की थी।जेट की आखिरी फ्लाइट अमृतसर-मुंबई कई तरह से प्रतीकात्मक रही। यह उड़ान उसी मुंबई में खत्म हुई, जहां 5 मई, 1993 को जेट ने अपनी शुरुआत की थी। 5 मई, 1993 को ही मुंबई- अहमदाबाद के लिए जेट की पहली फ्लाइट ने उड़ान भरी थी। इस ह्रश्वलेन का नाम बोइंग 737 था। 2007 में 1,450 करोड़ रुपये की महंगी डील के साथ एयर सहारा खरीदने वाले नरेश गोयल ने कंपनी को जेटलाइट नाम दिया था। यही वह बेहद कीमती डील थी जिससे जेट कभी उबर नहीं पाई। आखिरकार कंपनी 20 हजार करोड़ रुपये के कर्ज में डूब गई। लेकिन अभी भी जेट के दोबारा उड़ान भरने की उम्मीद है। जेट की इमर्जेंसी फंडिंग की अपील को कर्जदाताओं ने खारिज कर दिया लेकिन उन्होंने एयरलाइन से मंगलवार रात कहा, ऐक्सप्रेशन ऑफ इंट्रेस्ट हमें मिल चुका है और बोली के दस्तावेज योग्य प्राप्तकर्ताओं को जारी कर दिए गए हैं। बोली के दस्तावेज में कंपनी के जल्द इस संकट से उबरने का मजबूत ह्रश्वलान बताया गया है। बोली की यह प्रक्रिया 10 मई, 2019 तक चलेगी। हम भरपूर कोशिश कर रहे हैं कि बोली की प्रक्रिया के जरिए कंपनी की मुश्किल का कोई स्थाई हल ढूंढा जा सके। पिछले नवंबर तक जेट के पास बोइंग 777 और एयरबस ए330, सिंगल बी737 और टर्बोप्रॉप एटीआर के साथ कुल 124 एयरक्राफ्ट थे। कंपनी हर दिन करीब 600 फ्लाइट्स ऑपरेट कर रही थी। अंतरराष्ट्रीय और घरेलू उड़ानों के मामले में जेट एयरवेज देश की सबसे बड़ी एयरलाइंस में से एक थी। मंगलवार को एयरलाइन के बोर्ड ने कर्जदाताओं से इमर्जेंसी फंड पाने की अंतिम कोशिश के बाद, सीईओ विनय दुबे को कंपनी की उड़ानों का परिचालन बंद करने का फैसला करने की अनुमति दे दी। बुधवार शाम कर्मचारियों को लिखे एक मेल में दुबे ने कहा, कर्जदाताओं से इमर्जेंसी फंडिंग और किसी दूसरे सोर्स से कोई भी फंडिंग न मिलने के चलते कंपनी के लिए अब उड़ानें जारी रखने के लिए ईंधन और दूसरी सेवाओं का भुगतान करना मुश्किल संभव नहीं होगा।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   5094764
 
     
Related Links :-
अमेरिकी-चीन व्यापार युद्ध से भारतीय टेक्सटाइल को फायदा
इंडियन आयल की ऊर्जा क्षेत्रों में दो लाख करोड़ निवेश की योजना
उपायुक्त अमित खत्री ने दी जानकारी किसानों की सरसों और गेंहू की खरीददारी का काम पूरा
भारतीय उद्यमियों को मिल रहा है वॉलमार्ट के ग्‍लोबल मार्केटह्रश्व‍लेस तक सुगमतापूर्वक पहुंच
यूटीआई म्यूचुअल फं ड ने रोहतक में खोला एक नया वित्तीय केंद्र
लवेबल ने किया अपना नया एसएस’ 19 कलेक्शन लॉन्च
केन्द्र ने एमएसपी कटौती वापस नहीं ली तो पंजाब सरकार करेगी भरपाई : अमरिंदर
साल 2021 तक 100 स्टोर्स खोलेगा ‘ग्रेविटी’, गुरुग्राम तक होगा विस्तार
इस अक्षय तृतीया पर फॉरेवरमार्क डायमंड्स के साथ संपन्नता का जश्न मनाएं
रैली निकाल मारुति सुजुकी मजदूर संघ ने मनाया मजदूर दिवस