समाचार ब्यूरो
23/04/2019  :  11:35 HH:MM
गुरुग्राम विश्वविद्यालय में पहली बार रक्तदान शिविर
Total View  711

गुरुग्राम विश्वविद्यालय में पहली बार रक्तदान शिविर का आयोजन किया गया। विश्वविद्यालय में यह रक्तदान शिविर रोटरी क्लब के सहयोग से आयोजित कराया गया। इस रक्तदान शिविर में 111 यूनिट रक्तदान किया गया। ब्लड डोनेशन कैंप का शुभारंभ गुरुग्राम विश्वविद्यालय के माननीय वाइस चांसलर डॉ. मार्कण्डेय आहूजा जी और गुरुग्राम विश्वविद्यालय के माननीय रजिस्ट्रार डॉ. शशि भूषण भारती जी ने दीप प्रवज्जलित कर किया। इस दौरान रोटरी क्लब की ओर से डॉ. वर्षा यादव मौके पर मौजूद रहीं।
कैम्प में बड़ी संख्या में शामिल होकर छात्र-छात्राओं और कर्मियों ने स्वेच्छा से रक्तदान किया। रक्त लेने से पहले ब्लडप्रेशर चेक किया गया। रोटरी क्लब की डॉक्टर वर्षा यादव के नेतृत्व में डोनेशन कैम्प लगा। डॉ. वर्षा यादव ने कहा कि इस रक्तदान शिविर में युवाओं ने बढ़चढ़ कर भाग लिया। करीब 111 यूनिट रक्त एकत्रित किया गया है। डॉ. मार्कण्डेय आहूजा जी और डॉ शशि भूषण भारती जी ने रक्तदान करने वाले छात्र-छात्राओं को बैज लगाकर, मेडल और प्रमाण-पत्र देकर सम्मानित किया। माननीय वाइस चांसलर डॉ. मार्कण्डेय आहूजा जी ने 55 वर्ष की उम्र में 87वीं बार ब्लड डोनेट किया। उन्होंने कहा कि जरूरतमंदों के लिए रक्तदान शिविर का आयोजन किया गया है। थैलेसीमिया की बीमारी से सबसे ज्यादा बच्चे पीडि़त हैं। हमारे रक्त से किसी जरूरतमंद की जान बचेगी इसलिए रक्तदान करें। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि रक्त का दान महादान है, क्योंकि हमारे द्वारा दिए गए रक्त से किसी की जान बचाई जा सकती है। आमतौर पर लोगों में भ्रांतियां हैं कि रक्त दान करने से शरीर में कमजोरी आती है। ऐसा कुछ नहीं है। नियमित समय पर रक्तदान करने से शरीर में कोई कमजोरी नहीं आती। इसलिए रक्तदान करने के लिए आगे आना चाहिए।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   6689326
 
     
Related Links :-
रोटरी हेल्थ कार्निवाल में रोटेरियंस ने हेल्थ के प्रति किया जागरुक
डॉक्टर्स दिवाली की शुभकामनाएं देने मरीजों के घर पहुंच
डॉ.बेदी ने मिनिमली इनवेसिव सर्जरी में नए डेवलपमेंट्स पर गेस्ट लेक्चर दिया
डायबटीज से पीडि़तों के लिए आर्ट एग्जीबिशन
ऑर्थो कैम्प में 60 सीनियर सिटिजन की जांच की गई
रक्त की कमी से होने वाले थैलेसीमिया रोग का जागरुकता शिविर आयोजित
50 सीनियर सिटीजंस ने ‘मीट योअर डॉक्टर्स’ प्रोग्राम में हिस्सा लिया
भारत में कैंसर दूसरा सबसे बड़ा हत्यारा
वल्र्ड मेंटल हेल्थ डे: युवाओं ने खास अंदाज में दिया जागरूकता संदेश
स्तन कैंसर से बचने के लिए जागरूक और सावधान रहना जरूरी