समाचार ब्यूरो
26/04/2019  :  09:29 HH:MM
‘नर्सिंग पेशा अपनाने वाले लोरंस नाइटेगल के सम्मान को याद रखें’
Total View  672

चंडीगढ़ के प्रशासक और पंजाब के राज्यपाल बीपी सिंह बदनौर ने गुरुवार को यहां पोस्ट ग्रेजुएट इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल एजुकेशन एंड रिसर्च के नेशनल नर्सिग इंस्ट्टीट्यूट के दीक्षांत समारोह में कहा कि नर्सिग पेशा अपनाने वालों को फ््लोरेंस नाइटेगल के सम्मान को सदैव याद रखना चाहिए।

नेशनल नर्सिंग इंस्टीट्यूट के सफल छात्र और छात्राओं को उपाधियां प्रदान करने के बाद मुख्य अतिथि बदनौर ने कहा कि फ््लोरेंस नाइटेंगल नर्सिग पेशेवरों के लिए एक आदर्श है। उन्होंने युद्ध में घायलों की अथक सेवा की थी। उन्होंने कहा कि देश में 1973 में नर्सिग सेवा क्षेत्र के लिए फ््लोरेंस नाइटेंगल के नाम पर राष्ट्रीय पुरस्कार स्थापित किया गया। स्वास्थ्य के क्षेत्र में नर्सिंग एक अनिवार्य हिस्सा है। आल 400 छात्रछा त्राओं को उपाधियां प्रदान की गई है। उम्मीद है कि आप सभी की सेवा से समाज को लाभ मिलेगा। नेशनल नर्सिग इंस्टीट्यूट की स्थापना के लिए मौजूदा विदेश मंत्री सुषमा स्वराज द्वारा किए गए प्रयासों का जिक्र करते हुए बदनौर ने कहा कि दुनिया में नर्सिग के क्षेत्र में भारत का दूसरा स्थान है। समारोह में पोस्ट ग्रेजुएट इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल एजुकेशन एंड रिसर्च के निदेशक प्रो. जगतराम ने भी संबोधित किया। उन्होंने कहा कि उपाधि व पदक हासिल करने वाले देश सेवा का संकल्प लें। मानवता की भलाई के क्षेत्र में कदम रखने के लिए मैं आपके उज्जवल भविष्य की कामना करता हूं। समारोह में बडी संख्या में इंस्टीट्यूट के अधिकारी व
विशेषज्ञ चिकित्सक उपस्थित थे।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   1722872
 
     
Related Links :-
डीपीएमआई ने किया प्राथमिक चिकित्सा सत्र का आयोजन
गुरुग्राम जिले में 15 से 17 सितंबर तक पल्स पोलियो अभियान
गुरुग्राम विवि में मनाया गया विश्व फिजियोथेरेपी दिवस
घरेलू जड़ी बूटियां मुक्त रख सकती हैं तनाव से : दहिया
भारत ने यूनान के थेस्सालोनिकी अंतर्राष्ट्रीय मेले में लिया हिस्सा
सघन ओरल हेल्थ जागरूकता अभियान चलाया जाएगा : विज
स्वच्छ भारत मिशन हर भारतीय का अभियान बना : राष्ट्रपति कोविंद
‘मलेरिया मुक्त मेवात’ अभियान का शुभारंभ
अमेरिकन महिला को भारत में मिला चिकित्सा का उपहार
जब से बना नाला नहीं हुई सफाई