Breaking News
बिहार में बाढ़ का तांडव, 29 लोगों की जान गई  |  भारत का लंबा प्रयास हो रहा निष्प्रभावी अफगानिस्तान-अमेरिका ने शांति वार्ता से भारत को किया अलग  |  गुरुग्राम को हरा भरा और प्रदूषण मुक्त करना सभी की जिम्मेदारी : राव  |  दिल्ली-एनसीआर क्षेत्र में महिलाओं की सुरक्षा को लेकर चर्चा  |  पुलिस आयुक्त मोहम्मद अकिल और उपायुक्त अमित खत्री सम्मानित  |  अशोक सांगवान की अध्यक्षता में गुरुग्राम महानगर विकास प्राधिकरण की बैठक जल भराव संबंधी शिकायतों के लिए बना कंट्रोल रूम  |  हुनरमंद युवा अपनी प्रतिभा के दम पर प्राप्त कर सकेगा रोजगार :बीरपंथी  |  बरसात के बाद जी.टी. रोड पर भरा पानी, राहगीर हुए परेशान  |  
 
 
समाचार ब्यूरो
28/04/2019  :  10:29 HH:MM
ऑल इंडिया आइस फिगर ओपन चैलेंज की सफलता
Total View  646

गुरुग्राम आइस फिगर स्केटिंग का ऑल इंडिया ओपन चैलेंज आईस्कैट, एंबियंस मॉल, गुरुग्राम में संपन्न हुआ। यह आयोजन आइस स्केटिंग एसोसिएशन ऑफ इंडिया के सहयोग से पूरे देश में फैले 30 प्रतिभागियों के साथ हुआ, जिन्हें 10, 10-13, 13-15 और 15-17 के तहत कई आयु समूहों में वर्गीकृत किया गया था।

यह चुनौती चार दिवसीय राष्ट्रीय कोचिंग शिविर के बाद हुई। आइस फिगर स्केटिंग का प्रशिक्षण शिविर सुबह 7 बजे से 11 बजे तक आइस स्केटरों के लिए निर्विरोध वातावरण में शुरू होता है ताकि अपने आप को उनके कौशल के अनुसार जम्प, स्पिन, फुट वर्क्स, और फ्लेक्सिबिलिटी पर पूरा ध्यान दे सकें । यह फिगर स्केटिंग किंग के नाम से मशहूर लीजेंड मेंटर जगराज सिंह साहनी की मेंटरशिप के मार्गदर्शन में पवन कुमार अकुला और वासुदेव टांडी जैसे कुशल प्रशिक्षक के साथ एक फलदायक नया सीखने का अनुभव लेकर आया है।
प्रतिभागियों के स्केटिंग कौशल, शरीर की गतिविधियों, मुद्राओं, छलांग, लचीलेपन और स्पिन के आधार पर परिणामों का निष्कर्ष निकाला गया और कर्नल नारंग ने चैंपियनशिप की घोषणा की और सोलो प्रदर्शन के लिए परिणाम निम्नानुसार घोषित किए गए । एकल प्रदर्शन के परिणाम: अंडर 10 गर्ल्स तान्जिल सोनी और बॉयज आदर्श सिंह रावत। 10 से 13 गर्ल्स अनया सिंह और बॉयज में आदिताभ गुप्ता। 13 से 15 गर्ल्स हर्षिता रावतानी और बॉयज में जतिन शेरावत। 15 से 17 गर्ल्स इशिता कपूर और बॉयज में वैष्णव नायर। आर के गुप्ता; अध्यक्ष आईएसएआई ने कहा, हम भारत में आइस स्केटिंग के विकास के लिए प्राथमिकता और जागरूकता का अनुभव कर रहे हैं और फिर भी अपने देश की सरकार से पर्याप्त समर्थन प्राप्त नहीं कर पा रहे हैं। इस गतिविधि में प्रतिभागियों के माता-पिता का अपने बच्चों के साथ पूर्ण जुड़ाव होता है और एसोसिएशन उनसे अपील करता है कि वे खेल को एक शौक की तुलना से ज्यादा करियर के रूप में अधिक समझें।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   3501266
 
     
Related Links :-
इंग्लैंड और न्यूजीलैंड के बीच फाइनल मुकाबला आज
दुती चंद विश्व यूनिवर्सिटी गेम्स में स्वर्ण जीतने वाली पहली भारतीय
वल्र्ड कप सेमीफाइनल : बारिश के कारण खेल रुका न्‍यूजीलैंड का स्‍कोर 46 ओवर में 5 विकेट पर 211 रन
राष्ट्रमंडल सीनियर भारोत्तोलन चैंपियनशिप चानू ने जीता स्वर्ण पदक
मुख्यमंत्री 93 खिलाडिय़ों को महाराजा रणजीत सिंह पुरस्कार से सम्मानित करेंगे : सोढी
ओह्रश्वपो के साथ मिलकर की पबजी मोबाइल इंडिया टूर 2019 की घोषणा
छिपी खेल प्रतिभाओं को अदाणी समूह देगा प्रशिक्षण में सहायता
भारत और इंग्लैंड में अहम मुकाबला आज
किरेन रिजिजू ने विजेताओं को बांटे पुरस्कार
खिलाडिय़ों ने सरकार के खिलाफ खोला मोर्चा