Breaking News
बिहार में बाढ़ का तांडव, 29 लोगों की जान गई  |  भारत का लंबा प्रयास हो रहा निष्प्रभावी अफगानिस्तान-अमेरिका ने शांति वार्ता से भारत को किया अलग  |  गुरुग्राम को हरा भरा और प्रदूषण मुक्त करना सभी की जिम्मेदारी : राव  |  दिल्ली-एनसीआर क्षेत्र में महिलाओं की सुरक्षा को लेकर चर्चा  |  पुलिस आयुक्त मोहम्मद अकिल और उपायुक्त अमित खत्री सम्मानित  |  अशोक सांगवान की अध्यक्षता में गुरुग्राम महानगर विकास प्राधिकरण की बैठक जल भराव संबंधी शिकायतों के लिए बना कंट्रोल रूम  |  हुनरमंद युवा अपनी प्रतिभा के दम पर प्राप्त कर सकेगा रोजगार :बीरपंथी  |  बरसात के बाद जी.टी. रोड पर भरा पानी, राहगीर हुए परेशान  |  
 
 
समाचार ब्यूरो
30/04/2019  :  10:10 HH:MM
शंकर की कहानी : सोलर अपनायें, बिजली बचाये
Total View  636

चंडीगढ़ भारत में सौर ऊर्जा उद्योग तेजी से विकास कर रहा है। हाल ही में आई रिपोर्ट बताती हैं कि देश की सोलर इंस्‍टालेशन की क्षमता 31 मार्च 2019 तक 28.18 गीगावॉट तक पहुंच गई। शुरुआत में भारत सरकार का 2022 के लिए 20 गीगावॉट क्षमता का लक्ष्य था, जो कि निर्धारित समय से चार साल पहले हासिल कर लिया गया।

2015 में लक्ष्य को 100 गीगावॉट सौर ऊर्जा की क्षमता तक बढ़ा दिया गया, जिसमें 100 बिलियन अमेरिकी डॉलर के निवेश के साथ 2022 तक रूफटॉप सौर से 40 गीगावॉट हासिल करने का भी लक्ष्‍य रखा गया है। तो भविष्य सोलर का ही है, जिसका आम आदमी स्वागत कर रहा है और जो सौर शक्ति को अपनाने के लिए तैयार भी है। सरकार द्वारा दी गई नेट मीटरिंग और सब्सिडी से सौर ऊर्जा सभी के लिए बहुत ही प्रभावी और किफायती बन गई है। उत्तर प्रदेश राज्‍य की राजधानी होने के कारण लखनऊ को अप्रैल के महीने में भी हर दिन लगभग 11.5 घंटे की बिजली मिलती है, यानी इस क्षेत्र में सौर ऊर्जा में निवेश करने से अच्‍छे नतीजे आएंगे और बिजली के बिल बहुत ही कम हो जाएंगे। शंकर का घर एक ऐसे क्षेत्र में है, जहां बिजली की आपूर्ति पर्याप्त है। लेकिन शंकर को प्रति
यूनिट बिजली की उच्च दर का सामना करना पड़ रहा था, इसलिए एक दिन उन्‍होंने अपने बिजली के बिल को कम करने का फैसला किया और अपनी समस्या के सर्वोत्तम संभव समाधान की तलाश शुरू कर दी। ऑनलाइन सर्च करने और कुछ प्रारंभिक जानकारी लेने के
बाद, उन्हें ज़ूनरूफ का पता चला जो भारत की सबसे बड़ी सोलर रूफ इंस्‍टॉलेशन कंपनी है। ज़ूनरूफ द्वारा इंस्‍टॉलेशन की प्रक्रिया पूरी करने के बाद, शंकर को अपने घर में 4केवी ग्रिड टाइड-सोलर सिस्टम स्थापित करने का सुझाव दिया गया। ग्रिड टाई इन्वर्टर न केवल
सोलर पर घरेलू बिजली के लोड को चलाकर मासिक बिजली बिल को कम करेगा, बल्कि सोलर पैनलों द्वारा उत्पादित अतिरिक्त सौर ऊर्जा को ग्रिड में बेचकर पैसा कमाने में भी मदद करेगा। शंकर कहते हैं, ‘हम ज़ूनरूफ सोलर इंस्‍टालर से बहुत खुश हैं। हमारा बिजली बिल पूरी तरह से कम हो गया है। इसके लिए ज़ूनरूफ को धन्यवाद! ग्रिड-टाई सोलर इन्वर्टर, जिसे ऑन-ग्रिड सोलर इन्वर्टर के रूप में भी जाना जाता है, मुख्य ग्रिड से जुडक़र काम करता है। यह सीधे सौर उर्जा के माध्यम से लोड चलाने और ग्रिड को फीड करके बिजली कंपनी को अतिरिक्त सौर ऊर्जा उपलब्‍ध करा कर लाभ प्रदान करता है। ग्रिड-टाई इन्वर्टर को केवल उन क्षेत्रों में स्थापित किया जा सकता है, जहां पर बिजली की मेंस सह्रश्व‍लाई पर्याप्त रूप से उपलब्ध है, और जो शंकर के घर के मामले में एकदम उपयुक्‍त था। शंकर में ज़ूनरूफसोलर इंस्‍टालर से प्रतिदिन लगभग 15 यूनिट बिजली उत्पन्न होने की उम्मीद है, जो मौसम की स्थिति और स्‍थापित क्षेत्र पर निर्भर करता है। शंकर के लिए ज़ूनरूफ सोलर की स्थापना निश्‍िचत ही एक बड़ी सफलता साबित हुई।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   4166468
 
     
Related Links :-
पंजाब के सुपरस्टार क्रिकेटर मनन वोहरा लेनोवो के नए स्मार्ट बैण्ड कार्डिय
स्टार्टअह्रश्वस और उद्यमियों के लिए ‘द ग्रोथ हैकिंग बुक’ का विमोचन
अदाणी विद्या मंदिर को एसोचैम एजुकेशन एक्‍सिलेंस अवॉर्ड
थॉमस कुक इंडिया ने लॉन्च की अपनी पहली एआई संचालित चैटबॉट टी.सी
पॉवर2एसएमई ने बढ़ाया व्यापार का दायरा. पंजाब में किया विस्तार
फिनो पेमेंट्स बैंक की पंजाब, हरियाणा और हिमाचल में नेटवर्क विस्तार की योजना
बोले मुख्य सचिव केशनी आनंद अरोड़ा मेरी फसल मेरा ब्यौरा स्कीम के तहत रजिस्टे्रशन करवाने वाले किसान को मिलेगे 10 रु. प्रति एकड
मारुति मजदूर संघ साथियों को न्याय दिलाने के लिए करेगा प्रदर्शन
भारत की पहली इलेक्ट्रिक एसयूवी कोना इलेक्ट्रि चंडीगढ़ में लॉन्च
ग्लोबल सिटी 1002 एकड़ भूमि पर होगी विकसित